Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

दुष्यंत चौटाला: 25 साल की उम्र में देश के सबसे युवा सांसद बने, 31 साल की उम्र में बनाई अपनी पार्टी

दुष्यंत चौटाला (JJP leader Dushyant Chautala) हरियाणा में राजनीतिक रसूख रखने वाले चौटाला परिवार से आते हैं। वह परिवार की चौथी पीढ़ी के नेता हैं। पारिवारिक घमासान के बीच दुष्यंत चौटाला व उनके पिता अजय चौटाला ने इनेलो (INLD) से अलग होकर जननायक जनता (JJP) पार्टी का गठन कर लिया है।

Haryana Assembly Election: दुष्यंत चौटाला का भाजपा पर हमला, कहा 75 पार नहीं, यमुना पार पहुंचाएगी जनताDushyant Chautala attacked BJP, said they will not cross 75, people will throw them across Yamuna

देश के सबसे युवा सांसद दुष्यंत चौटाला का जन्म हरियाणा के हिसार हुआ था। इनके पिता अजय चौटाला व माता नैना सिंह चौटाला दोनों हरियाणा में राजनेता हैं। इनका जन्म हरियाणा राजनीति में बड़ा राजनीतिक रसूख रखने वाले चौटाला परिवार में हुआ। इनके दादा ओमप्रकाश चौटाला हरियाणा के मुख्यमंत्री रहे हैं। वह अपने परिवार की चौथी पीढ़ी के नेता हैं। लेकिन हाल ही में मची पारिवारिक घमासान के बीच दुष्यंत चौटाला व उनके पिता अजय चौटाला, इनेलो से अलग हो गए हैं। जिसके बाद जननायक जनता दल पार्टी का गठन किया है।

कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय से किया स्नातक

दुष्यंत चौटाला का जन्म हरियाणा के हिसार जिले में 3 अप्रैल 1988 को हुआ था। इनके पिता अजय चौटाला व माता नैना चौटाला दोनो हरियाणा में राजनीति में सक्रिय हैं। इन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा हिसार के सेंट मेरी स्कूल से की। जबकि बारहवीं की पढ़ाई लॉरेंस स्कूल, सनावर हिमाचल प्रदेश से की है। इसके बाद इन्होंने अमेरिका के कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय से बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में बीएससी की। इसके बाद नेश्नल लॉ कालेज से कानून में परास्नातक किया। इनका विवाह 2018 में मेघना चौटाला से हुआ। बॉस्केटबॉल, फुटबॉल और हॉकी में भी उनकी रुचि है

राजनैतिक सफर की शुरूआत



जब इनेलो प्रमुख ओम प्रकाश चौटाला तथा अजय चौटाला को हिरासत में ले लिया गया तो परिवारिक विरासत को आगे बढ़ाने के लिए दुष्यंत चौटाला को राजनीति में कूदना पड़ा। हिसार से चुनाव जीतकर 2014 में देश के सबसे युवा सांसद बने। तब उनकी उम्र मात्र 25 वर्ष 11 माह और 15 दिन थी। हरियाणा के युवाओं में उनकी काफी लोकप्रियता है वह एक अच्छे वक्ता भी हैं। वह खुद को देवीलाल की राजनीतिक विरासत का सबसे बड़ा दावेदार बताते हैं।

फेसबुक पर है 6.74 लाख फालोअर

दुष्यंत चौटाला हरियाणा राजनीति में अपनी सहजता और शालीनता के लिए भी जाने जाते हैं। फेसबुक पर उनके 6.74 लाख और ट्विटर पर 83 हजार से अधिक फॉलोअर हैं। खेती-किसानी और युवाओं पर उनका फोकस रहा है। दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में एक बार यह सवाल उठाया था कि किसानों की खुदकुशी पर असहिष्णुता के मुद्दे जैसी चर्चा क्यों नहीं होती? एक बार उन्होंने संसद परिसर में ट्रैक्टर लेकर घुसने की कोशिश की थी। वे अपने परिवार की सियासी छवि से अलग इमेज गढ़ रहे हैं। इसीलिए कभी ऑटो की भी सवारी करते नजर आते हैं।

परिवारिक घमासान के बीच बनाई जजपा



हरियाणा में चौटाला परिवार में मचे घमासान के बाद अजय चौटाला और उनके दोनों बेटों दुष्यंत और दिग्विजय ने अपनी नई पार्टी का गठन किया। जिसका नाम पार्टी का नाम जननायक जनता पार्टी रखा। नई पार्टी में दुष्यंत चौटाला को एक बार फिर हिसार से लोकसभा सीट के लिए प्रत्याशी बनाया गया। लेकिन वह सफल नहीं हो सके और उनकी पार्टी की 2019 के लोकसभा चुनावों में करारी शिकस्त हुई। भाजपा ने राज्य की सभी 10 सीटों पर जीत हासिल की।

Next Story
Top