Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Haryana Assembly Elections : जजपा नेता अजय सिंह चौटाला तिहाड़ जेल से आएंगे बाहर, जानें क्यों हुई थी सजा

हरियाणा चुनाव( Haryana Assembly Elections) में भाजपा (BJP) सरकार को समर्थन देने के बाद जजपा नेता अजय सिंह चौटाला (JJP leader Ajay Singh Chautala) को 2 हफ्ते के लिए जेल से रिहा कर (Furlough) दिया गया है।

Haryana Assembly Elections : जजपा नेता अजय सिंह चौटाला तिहाड़ जेल से कल होंगे रिहाजजपा नेता अजय सिंह चौटाला और दुष्यंत चौटाला

जजपा के हरियाणा में भाजपा सरकार को समर्थन देने के बाद अब अजय सिंह चौटाला के तिहाड़ से रविवार को रिहा होने की खबर सामने आई है। मिली जानकारी के अनुसार फिलहाल उन्हें कुछ दिन के लिए ही रिहा किया गया है।

हरियाणा में भाजपा के समर्थन की घोषणा करने के 24 घंटों के अंदर जजपा अध्यक्ष दुष्यंत चौटाला के पिता अजय चौटाला को तिहाड़ जेल से फरलो मिल गई है। तिहाड़ जेल के महानिदेशक ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि अजय चौटाला को फरलो दे दिया गया है और वह आज शाम या कल सुबह तक जेल से बाहर आएंगे। उन्हें दो सप्ताह की छुट्टी दी गई है।

विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद दुष्यंत ने की थी मुलाकात

हरियाणा विधानसभा चुनाव में जजपा राज्य की तीसरी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। कार्यकारिणी में विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद जेजेपी अध्यक्ष दुष्यंत चौटाला तिहाड़ जेल में बंद अपने पिता अजय चौटाला से मिलने पहुंचे थे।

अजय चौटाला और दुष्यंत चौटाला के बीच तिहाड़ जेल में करीब 25 मिनट की मुलाकात की। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि उन्होंने अपने पिता से बात की थी जिसमें पार्टी से जुड़े अहम मुद्दों पर बात की थी।

क्यों हुई थी सजा

दिल्ली की एक अदालत ने तीन हजार से अधिक शिक्षकों की अवैध भर्ती के मामले में हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला समेत 54 अन्य को दोषी ठहराया। इस मामले में अजय चौटाला भी दोषी करार दिए गए थे। अदालत ने इस घोटाले में कुल 55 लोगों को दोषी करार दिया। ये घोटाला 1999 से 2000 के बीच का है जब 3 हज़ार से ज़्यादा शिक्षकों की भर्ती की गई थी।

शिक्षा विभाग के ही एक आईएएस अफसर संजीव कुमार की शिकायत पर इस घोटाले का खुलासा हुआ। सुप्रीम कोर्ट ने जांच सीबीआई को सौंप दी थी। मामले में ये बात साबित हुई कि जेबीटी भर्ती में नौकरी पाने वाले हर व्यक्ति से 3 से 5 लाख रुपए की रिश्वत ली गई थी। जिसके बाद अजय सिंह चौटाला और उनके पिता ओमप्रकाश चौटाला को 10 साल की सजा हुई थी।


Next Story
Top