Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Haryana Exit Poll Results : हरियाणा में इस जिले की पांचों सीटों पर नहीं खिल रहा कमल, JJP ने तिकौना बनाया मुकाबला

पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह पत्नी प्रेमलता (PremLata) भाजपा (BJP) की टिकट पर दूसरी बार टिकट लड़ रही हैं वहीं उनके सामने जजपा प्रत्याशी दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) हैं। उचाना में कांग्रेस (Congress) ने बलराम कटवाल (Balram Katwal) को चुनाव मैदान में उतारा है।

झाबुआ विधानसभा उपचुनाव को लेकर वोटिंग जारी, शाम तीन बजे तक 56 प्रतिशत से अधिक मतदान दर्जVoting on Jhabua Assembly by-election continues, more than 56 percent voting recorded till 3 pm

जींद (Jind) जिला की पांचों विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे प्रमुख पार्टियों समेत 63 प्रत्याशियों का भाग्य सोमवार को ईवीएम (EVM) मशीनों में बंद हो गया। हार-जीत के समीकरणों पर हर कोई अपनी गोटियां फिट बैठा रहा है। मुकाबला कांटे का बना हुआ है। हालांकि हार-जीत का फैसला 24 अक्टूबर को हो पाएगा लेकिन जिले में भाजपा (BJP) के लिए राह आसान दिखाई नहीं दे रही है। तीन सीटों पर भाजपा के साथ जेजेपी (JJP) की टक्कर, एक सीट पर भाजपा-कांग्रेस के बीच मुकाबला है, जबकि एक सीट पर तिकौना मुकाबला है।

जींद जिले की सबसे हॉट सीट उचाना है जहां पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह पत्नी प्रेमलता भाजपा की टिकट पर दूसरी बार टिकट लड़ रही हैं वहीं उनके सामने जजपा प्रत्याशी दुष्यंत चौटाला हैं। वहीं उचाना में कांग्रेस ने बलराम कटवाल को चुनाव मैदान में उतारा है। जो बीरेंद्र सिंह का रिश्तेदार भी है। वहीं इनेलो ने सतपाल गैंडा खेड़ा को उम्मीदवार बनाया है। वो 1996 में टिकट मांग रहे थे लेकिन उनको अब इनेलो का टिकट मिला है।

खटकड़ खाप से वो संबंध रखते है। पहली बार वो विधानसभा चुनाव लड़ रहे है। यहां पर सीधी टक्कर भाजपा प्रत्याशी प्रेमलता तथा जेजेपी प्रत्याशी दुष्यंत चौटाला के बीच है। यहां पर हार जीत का मार्जन भी बहुत कम दिखाई दे रहा हे। मुकाबला कांटे फंसा हुआ है। भाजपा और जेजेपी यहां पर जीत को लेकर आश्वस्त हैं लेकिन कांग्रेस के बलराम कटवाल यहां पर हार जीत को तय करेंगे। यानि सीधे रूप से भाजपा के लिए यह सीट आसान दिखाई नहीं दे रही है।

जींद विस भाजपा-जेजेपी में कांटे का मुकाबला, भाजपा बढ़त पर

जींद विधानसभा सीट पर भाजपा प्रत्याशी डा. कृष्ण मिढ़ा तथा जेजेपी प्रत्याशी महावीर गुप्ता के बीच है। डा. कृष्ण मिढ़ा के पिता स्व. डा. हरिचंद मिढ़ा जींद विस से दो बार इनेलो से विधायक रह चुके हैं, जबकि जेजेपी प्रत्याशी महावीर गुप्ता के पिता मांगेराम गुप्ता जींद विस से चार बार विधायक रह चुके हैं और प्रदेश सरकार में मंत्री भी रहे हैं। कांग्रेस के प्रत्याशी अंशूल सिंगला भी मैदान में है।

उनके पिता स्व. बृजमोहन सिंगला जींद विस से दो बार विधायक तथा हरियाणा सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं। इनेलो से बिजेंद्र रेढू तथा बसपा से सूमेर चाबरी यहां पर हार जीत को तय करेंगे। यहां पर भाजपा की कुछ बढ़त दिखाई दे रही है। जिसके पीछे मुख्य कारण शहरी वोटर है। जो लगभग एक लाख 10 हजार हैं, जबकि ग्रामीण वोट लगभग 70 हजार हैं।

सफीदों विस पर कांग्रेस तथा भाजपा में फंसा पेंच

सफीदों विधानसभा पर भाजपा के बचन सिंह आर्य तथा कांग्रेस से सुभाष गांगोली के बीच सीधा मुकाबला है। बचन सिंह कांग्रेस को छोड़ लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा में शामिल हुए थे। सुभाष गांगोली भी काफी समय से समाजसेवा में सक्रिय हैं और अच्छी छवि लोगों के बीच है। जिसका फायदा उन्हें मिल रहा है। जेजेपी से दयानंद कुंडू, इनेलो से जोगेंद्र कालवा यहां पर निर्णायक भूमिका में हैं। यहां पर भी मुकाबला रोचक बना हुआ है। भाजपा के लिए यहां पर भी राह आसान नहीं है।

नरवाना विस में भाजपा, जेजेपी के बीच टक्कर, जेजेपी बढ़त पर

नरवाना सुरक्षित विधानसभा सीट पर भाजपा और जेजेपी के बीच सीधा मुकाबला है। राजनीतिक समीकरणों पर जेजेपी यहां भाजपा पर भारी दिखाई दे रही है। भाजपा ने यहां से दोबारा संतोष दनौदा पर दांव खेला, वहीं जेजेपी ने कांग्रेस छोड़कर आए रामनिवास सूरजाखेड़ा को मैदान में उतारा। कांग्रेस प्रत्याशी विद्या रानी भी गांव दनौदा की रहने वाली है। इसके अलावा इनेलो से सुशील कुमार भी चुनाव मैदान में हैं। यहां पर सीधा मुकाबला जेजेपी तथा भाजपा में है। एक ही गांव की दो प्रत्याशी होने के चलते फायदा जेजेपी प्रत्याशी को पहुंच रहा है।

जुलाना विस में तिकौना मुकाबला, जेजेपी के हौंसले बुलंद

जुलाना विधानसभा सीट पर तिकौना मुकाबला बना हुआ है। यहां पर जेजेपी को फायदा मिलता दिखाई दे रहा है। भाजपा ने इनेलो से लगातार दो योजना से विधायक रहे परमेंद्र ढुल को प्रत्याशी बनाया। जबकि जेजेपी ने नए चेहरे अमरजीत ढांडा को मैदान में उतारा। वहीं कांग्रेस से परमेंद्र ढुल के चचेरे भाई धर्मेंद्र ढुल दूसरी बार अपनी किस्मत अजमा रहे हैं। भाजपा तथा कांग्रेस प्रत्याशी एक गांव व एक परिवार के होने के चलते यहां जेजेपी के हालात अच्छे दिखाई दे रहे हैं। जबकि इनेलो के अमित निडानी चुनाव लड़ रहे हैं।

Next Story
Top