Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

हरियाणा चुनाव : भाजपा उम्मीदवार के भाई का वीडियो बना चर्चा का विषय, जानिए क्या है मामला

हरियाणा चुनाव : वीडियो को लेकर विरोधियों ने भाजपा उम्मीदवार के साथ-साथ केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह पर भी सवाल उठाते हुए भाजपा उम्मीदवार पर उनके सगे भाई द्वारा लगाए गए आरोपों की जांच करवाने की मांग कर डाली।

Haryana Assembly Election: भाजपा ने की 32 हजार करोड़ रुपये की घोषणाएं, ये हैं प्रमुख घोषणाBJP announced scheme worth 32 thousand crore rupees, these are the major announcements

चुनावी सरगर्मियों के बीच सोमवार को सोशल मीडिया में वायरल हुआ रेवाड़ी से भाजपा उम्मीदवार के भाई का वीडियो दिन भर चर्चा का विषय बना रहा। वीडियो को लेकर विरोधियों ने भाजपा उम्मीदवार के साथ-साथ केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह पर भी सवाल उठाते हुए भाजपा उम्मीदवार पर उनके सगे भाई द्वारा लगाए गए आरोपों की जांच करवाने की मांग कर डाली।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में भाजपा उम्मीदवार के भाई अपने भाई पर कई प्रकार के गंभीर आरोप लगा रहे हैं। इसके साथ ही वीडियो में भाई को टिकट दिलवाने वाले केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह की सोच पर सवाल उठाते हुए आरती राव को टिकट न मिलने पर भी चुटकी लेते हुए कहते हैं कि आरती को टिकट ने देकर मोदी ने राजनीति में राव इंद्रजीत सिंह के अपने खून को तो खुद रोक दिया तथा प्यादों से निपटने की जिम्मेदारी जनता को दी है।

आरती को टिकट न देने के मोदी के संदेश का संदेश जनता को खुद समझने की जरूरत है। इसके साथ ही उन्होंने वीडियो में 8 अक्टूबर यानी आज एक नया वीडियो जारी कर अपने भाई के बड़े कारनामों का खुलासा करने का भी दावा किया है। हालांकि भाजपा उम्मीदवार ने भाई द्वारा लगाए गए आरोपों को खारिज करते हुए चुनाव प्रभावित करने के लिए इसे अपने राजनीतिक विरोधियों की साजिश करार दिया है। फिर भी अब सोमवार को सोशल मीडिया पर जारी हुए वीडियो के बाद अब मंगलवार को भी लोगों की नजरे लगी हुई हैं।

कोसली में भी मांगा हिसाब

कोसली से भाजपा उम्मीदवार द्वारा वोट मांगने पर गांव उस्मापुर में चुनाव प्रचार के दौरान ग्रामीणों ने वोट देने से पहले भाजपा सरकार द्वारा पिछले पांच साल के दौरान कोसली विशेषकर अपने गांव में किए गए कार्यों का हिसाब मांगा। सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में ग्रामीण यह कहते हुए सुनाई दे रहे हैं, कि जब कुछ काम ही नहीं हुआ तो फिर वोट किस लिए मांगने आ रहे हो।

Next Story
Top