Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अहीरवाल बेल्ट का राजा तय करेगा रेवाड़ी, राव-कैप्टन में प्रभुत्व की लड़ाई

प्रदेश की अहीरवाल बेल्ट में पांच साल में भाजपा काफी मजबूत हुई है। विधानसभा (Haryana Assembly Election) में दोबारा से कमल खिलाने की जिम्मेदारी भाजपा नेता राव इंद्रजीत (Rao Inderjit Singh) और राव नरबीर (Rao Narbir Singh) के ऊपर है। जबकि 2014 में छिन चुकी कांग्रेस की बादशाहत को लौटाने का दारोमदार कांग्रेस के बड़े नेता कैप्टन अजय यादव (Captain Ajay Singh Yadav) के ऊपर है।

Haryana Assembly Election 2019: सांसदों और समीकरणों की पहेली में इन 12 सीटों पर उलझी भाजपाHaryana Election 2019: BJP Entangled In 12 seats In Puzzle Of MPs And Equations

Rewari District Ground Report: अहीरवाल बेल्ट दक्षिणी हरियाणा की राजधानी मानी जाने वाली रेवाड़ी का सियासी मिजाज बदलने लगा है। पीतल नगरी में विधानसभा चुनावों को लेकर सियासी लड़ाई की तैयारियां शुरू हो गई हैं। चुनावों के जरिए प्रदेश जहां अपनी सरकार चुनेगा वहीं अहीरवाल बेल्ट की राजधानी रेवाड़ी अपना राजा चुनेगी। अहीरवाल बेल्ट का राजा बनने के लिए केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत, केबिनेट मंत्री राव नरबीर और कांग्रेस नेता कैप्टन अजय यादव के बीच प्रभुत्व की लड़ाई होगी। जहां राव इंद्रजीत और राव नरबीर रेवाड़ी की तीनों सीटों पर टिकट खिलाने की कोशिश करेंगे। जबकि पूर्व मंत्री कैप्टन अजय यादव 2014 की हार का बदला लेकर प्रभुत्व कायम करना चाहेंगे।

कमल खिलाने की दो राव पर जिम्मेदारी





2019 के चुनाव से पहले राव इंद्रजीत सिंह के इर्द-गिर्द अहीरवाल की राजनीति घूमती थी। क्योंकि 2009 के चुनाव तक मरू की यह धरती कमल के लिए सूखा बनी हुई थी। लेकिन राव इंद्रजीत ने 2014 में पहली बार कमल खिलाया। इसके बाद आयी बहार से विधानसभा चुनावों में पहली बार तीनों सीटों कमल खिला। लेकिन पिछले पांच सालों में अहीरवाल की राजनीति में राव नरबीर सिंह ने अपनी मजबूत उपस्थिति दर्ज करवाई है। जिससे यह कहा जा सकता है कि इस बार अहीरवाल के बालू व पथरिली जमीन पर कमल खिलाने की जिम्मेदारी दो राव के कंधों पर होगी। राजनीतिक पृष्टभूमि पर एक दूसरे के विरोधी चेहरों के बीच टिकट वितरण से लेकर चुनावी नतीजों तक अपनी उपस्थिति दर्ज करवाने की होड़ देखी जाएगी।

टिकट को लेकर भाजपा में रस्साकशी

दक्षिण हरियाणा में भाजपा के टिकट को लेकर रस्साकशी होगी। राव इंद्रजीत और राव नरबीर अपने-अपने गुटों के प्रत्याशियों को टिकट दिलाने की कोशिश करेंगे। सूत्रों के मुताबिक राव इंद्रजीत के विश्वास पर खरा उतरने के साथ मुख्यमंत्री की गुड बुक में शामिल बावल विधायक डॉ. बनवारी टिकट की दौड़ में मजबूत माने जा रहे हैं। मुख्यमंत्री से नजदीकी बढ़ाने के कारण अपने विश्वासपात्रों की सूची से बाहर हुए विक्रम यादव के स्थान पर राव इंद्रजीत सिंह अपनी पंसद का चेहरा लाने की फिराक में हैं। जबकि राव इंद्रजीत सिंह के साथ अपने पुराने गढ़ में राव नरबीर सिंह भी प्रत्याशियों को टिकट दिलाने के लिए सक्रिय हो गए हैं।

अब तक ये बदल चुके पाला

लोकसभा चुनावों से पहले शुरू हुआ पाला बदलने का सिलसिला थम नहीं रहा है। पूर्व मंत्री डॉ. एमएल रंगा ने लोकसभा चुनावों से पहले भाजपा छोड़कर कांग्रेस का दामन थामा था। 2014 के चुनाव में कोसली से इनेलो की टिकट पर चुनाव लड़े पूर्व मंत्री जगदीश यादव और सतीश यादव भापजा में शामिल हो गए हैं। डॉ. टीसी राव व पूर्व चेयरपर्सन शकुंतला भाडोरिया तथा पूर्व मंत्री कैप्टन अजय यादव के भतीजे की बहू विक्रम यादव ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया। कांग्रेस, इनेलो औक जजपा छोड़कर कई पार्षद व खंड स्तर के कार्यकर्ता भी भाजपा ज्वाइन करने वालों में शामिल है।

ये लड़ सकते हैं चुनाव




रेवाड़ी में विधानसभा क्षेत्र भले ही तीन हो लेकिन चुनावी रण में उतरने वाले सूरमों की भरमार हैं। सबसे अधिक भाजपा में मारामारी है। रेवाड़ी से भाजपा की टिकट पर विधायक रणधीर सिंह कापड़ीवास, मंत्री राव इंद्रजीत की उत्ताराधिकारी आरती राव, अरविंद, सतीश खोला, अमित यादव, सतीश का नाम प्रमुखता से लिया जा सकता है। कांग्रेस से पूर्व मंत्री कैप्टन अजय यादव को महावीर यादव मसानी से कड़ी टक्कर मिल रही है। इनेलो की टिकट पर डॉ. राजपाल यादव को फिलहाल कोई टक्कर मिलती नहीं दिख रही है तो सतीश यादव के जजपा छोड़ने के बाद मैदान खाली दिख रहा है, परंतु सतीश यादव व पार्षद प्रशांत ने चुनाव की घोषणा से पहले ही जनसंपर्क अभियान शुरू कर दावेदारी पक्की करने में लगे हुए हैं। कोसली में विधायक विक्रम सिंह यादव, पूर्व मंत्री जगदीश यादव, लक्ष्मण यादव, वीर कुमार, टीसी राव, मुकेश व अनिल पाल्हावास की दावेदारी के साथ मंत्री राव नरबीर की चर्चाएं भी जोरों पर हैं। जबकि कांग्रेस की तरफ से राव यादुवेंद्र सिंह, इनेलो से धर्मबीर गामड़िया दावेदार माने जा रहे हैं। जजपा से विजय भूरथला व जगफूल दो ही उम्मीदवारों के नाम सामने आ रहे हैं। बावल में भाजपा की तरफ से मंत्री डॉ. बनवारी लाल के अलावा अजय कांटीवाल, सुंदरलाल, कमल निबंल सहित 25 लोग दावेदारी ठोक रहे हैं। कांग्रेस की तरफ से पूर्व मंत्री जसवंत सिंह व डॉ. एमएल रंगा के अलावा नीलम भागवाड़िया तथा इनेलो की तरफ से डॉ. संजय मेहरा, जगदीश तथा जजपा के श्याम सुंदर भी टिकट की दौड़ में हैं।

Next Story
Top