Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सरकार की चाबी होगी जेजेपी के पास, लोकसभा चुनाव का नहीं पड़ेगा कोई असर

जननायक जनता पार्टी के प्रमुख दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) ने हरिभूमि समूह के प्रधान संपादक 'डॉ. हिमांशु द्विवेदी' से विशेष बातचीत की। जिसमें दावा किया है कि सरकार जननायक जनता पार्टी (JJP) की बनेगी। इस बार सरकार की चाबी जेजेपी के पास होगी।

सरकार की चाबी होगी जेजेपी के पास, लोकसभा का नहीं पड़ेगा कोई असरJJP will have the key of government, Lok Sabha will not have any effect: Dushyant chautala

हरियाणा विधानसभा चुनावों से पहले जननायक जनता पार्टी (JJP) के प्रमुख दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) ने सरकार बनाने का दावा किया है। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि जेजेपी तेजी से क्षेत्रीय पार्टी के तौर पर उभरी है। पहले लोग कहते थे कि बच्चों की पार्टी है लेकिन उप चुनाव में दूसरे स्थान पर रहे। जींद में हुए उप चुनाव में 38 हजार वोट आए। इतिहास में कभी इनेलो को भी जींद सीट पर 34 हजार से अधिक वोट नहीं मिले। चौटाला का कहना है कि कांग्रेस आज 370 का विरोध कर रही है। जबकि हर दसवां जवान हरियाणा का है। सबसे ज्यादा शहादत हरियाणा ने दी है। पेश हैं हरिभूमि समूह के प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी से दुष्यंत चौटाला की बातचीत के प्रमुख अंश-ः

प्र. हरियाणा विधानसभा चुनाव में क्यों उतर रहे हैं। अभ्यास मैच के लिए या फाइनल खेलने के लिए?

हरियाणा में पारंपरिक राजनीति चलती आयी है। मैदान में पारंपरिक राजनीति में बदलाव के लिए उतर रहे हैं। कोई भी पार्टी युवा को नेतृत्व नहीं दे सकती। मनोहर लाल खट्टर की सरकार में कोई भी युवा कैबिनेट में शामिल नहीं हुआ। दस साल हुड्डा सरकार में युवाओं को हिस्सेदारी नहीं मिली। जबकि 56 फीसदी लोग 45 साल की उम्र से कम के हैं। लोग बदलाव चाहते हैं। जननायक जनता पार्टी का गठन युवाओं को नेतृत्व देने के लिए किया गया।

प्र. आप के दादा भी यहीं बात करते थे। पिता और चाचा भी यही बदलाव की बात करते थे। आखिर किस बदलाव की बात कर रहे हैं

चौधरी देवीलाल जी जो बदलाव लाए वो पूरे देश में लागू हैं। ओमप्रकाश चौटाला साहब बदलाव लाए। गुरुग्राम को बसाया और अपराध रोककर उद्योग लेकर आए। अब जो कंपनियां जा रही हैं उसे रोकने के लिए बदलाव की जरुरत है।

प्र. बदलाव की बात को गंभीरता से कैसे लिया जाए। लोकसभा में आप अपनी सीट भी बचाने में भी नाकाम रहे?

देश में इस तरह की परिस्थिति बनती रही है। लोकसभा और विधानसभा में जनता ने परिणाम बदला है। राजस्थान में अभी आपने देखा, कांग्रेस सत्ता में है। पांच माह पहले सरकार बनी थी लेकिन एक भी नहीं जीत पाए। मध्यप्रदेश के अंदर कांग्रेस का क्या हाल हुआ। एक सीट जीत पाए वो भी मुख्यमंत्री अपने परिवार की ही सीट बचा पाए। लोकसभा में जनता ने मोदी जी और राहुल जी के बीच में चुनाव को बनाया। उस समय परिस्थिति ऐसी थी कि राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर जनता ने वोट किया। कांग्रेस आज 370 का विरोध कर रही है। जबकि हर दसवां जवान हरियाणा का है। सबसे ज्यादा शहादत हरियाणा ने दी है। हमने उप चुनाव लड़ा तो दूसरे स्थान पर आए। लोग कहते थे कि बच्चों की पार्टी है लेकिन 38 हजार वोट आए। इतिहास में कभी इनेलो के 34 हजार से अधिक वोट नहीं आए थे। क्षेत्रीय पार्टी के तौर पर सबसे तेजी से जजेपी उभरी है। मजबूती से 90 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे। सरकार जननायक जनता पार्टी की बनेगी। सरकार की चाबी जजेपी के पास होगी।

प्र. आप विधानसभा जीतने का दावा कर रहे हैं। लेकिन बसपा को 40 सीटें उनकी झोली में डालने को तैयार थे। 40 तो आपने मान ली कि हमसे नहीं निकल रही है।






गठबंधन की बात है तो बसपा को हमने सम्मान दिया। उस वर्ग को जो चाहता है कि हम आगे बढ़े। हमारी सोच है कि केवल आरक्षित 17 सीटों पर ही उन्हें टिकट नहीं देंगे। उससे भी आगे बढ़कर हरियाणा प्रदेश में योगदान अब भी उनका उतना ही रखेंगे। हमारे पास बसपा आयी और गठबंधन की बात आगे बढ़ी। लेकिन ट्विट आता है सीट शेयरिंग को लेकर। अब ये निर्णय उनका है 90 लड़ लीजिए। चुनावों के बाद पता चल जाएगा। आगे विधानसभा में देख लिया जाएगा कि किसके पास कितने वोट शेयर हैं। लेकिन जिस तरह का सम्मान मिला उसे देखकर अब सभी जजपा को चुनौती मानते हैं।


Next Story
Top