Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Haryana Assembly Election: निर्दलीय प्रत्याशी गोकुल सेतिआ महज 602 वोट से चुनाव हारे, भाजपा के सतीश नांदल की हुई सबसे बड़ी हार

हरियाणा विधानसभा चुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी गोकुल सेतिआ सबसे कम मतों से हारे हैं। भाजपा प्रत्याशी सतीश नांदल को सबसे अधिक मतों हार का सामना करना पड़ा।

निर्दलीय प्रत्याशी गोकुल सेतिआ 602 वोट से चुनाव जीतने से चूके, भाजपा के सतीश नांदल 58,000 से अधिक मतों से हारेगोकुल सेतिआ, सतीश नांदल: फाइल फोटो

Haryana Assembly Election: हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए गुरुवार को शुरू हुई मतगणना की प्रक्रिया समाप्त हो चुकी है। हरियाणा विधानसभा चुनाव के रण में उतरे 1168 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला हो चुका है। विधानसभा चुनाव में विजयी हुए 90 प्रत्याशियों के अलावा बचे हुए प्रत्याशियों में कुछ ऐसे प्रत्याशी थे। जिनकी किस्मत ने उनका साथ नहीं दिया और इस वजह से उन्हें कुछ ही मतों की कमी से हार का सामना करना पड़ा। लेकिन कई उम्मीदावर ऐसे भी थे। जो अपने क्षेत्र में चुनाव हवा के रुख का आंकलन कर पाने में असफल रहे और बुरी तरह से उन्हें हार का सामना करना पड़ा।

602 मतों से हारे निर्दलीय प्रत्याशी गोकुल सेतिआ

हरियाणा की सिरसा विधानसभा सीट से निर्दलीय प्रत्याशी गोकुल सेतिआ के साथ कुछ ऐसा ही हुआ। गोकुल सेतिआ सिरसा (Sirsa) विधानसभा सीट से हरियाणा सरकार में पूर्व मंत्री और हरियाणा लोकहित पार्टी के प्रमुख गोपाल कांडा के विरुद्ध चुनावी रण में उतरे थे। लेकिन गोपाल कांडा की तुलना में कुल 602 मत कम हासिल कर पाने के कारण उनका विधायक बनने का सपना अधूरा रह गया। हरियाणा की थानेसर विधानसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी अशोक कुमार अरोरा के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। थानेसर (Thanesar) विधानसभा सीट से अशोक कुमार भाजपा उम्मीदवार सुभाष सुधा के खिलाफ चुनाव लड़ने मैदान में उतरे थे। दोनों के बीच काफी कांटे की टक्कर रही। लेकिन अंत में भाजपा प्रत्याशी सुभाष सुधा को अशोक कुमार अरोरा के खिलाफ 842 मतों की बढ़त हासिल हो गई। कुल 842 मत कम मिलने के कारण अशोक कुमार अरोरा को हार का सामना करना पड़ा।

58,000 मतों से हारे भाजपा प्रत्याशी सतीश नांदल

वहीं दूसरी तरफ जो प्रतियाशी अपने क्षेत्र के मतदाताओं के झुकाव का आंकलन नहीं कर सके। उनमें भाजपा के सतीश नांदल प्रमुख हैं। सतीश नांदल हरियाणा की गढ़ी सांपला किलोई (Garhi Sampla Kiloi) विधानसभा सीट से प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के खिलाफ चुनाव लड़ने मैदान में उतरे थे। लेकिन मतदाताओं का झुकाव इस विधानसभा चुनाव में भाजपा के पक्ष में पिछले चुनाव की तुलना में कम था। जिस वजह से सतीश नांदल को भूपेंद्र सिंह हुड्डा के खिलाफ करीब 58,000 कम मत मिले। हरियाणा की उचाना कलां (Uchana Kalan) विधानसभा सीट पर भी भाजपा प्रत्याशी को बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा। इस सीट पर भाजपा की दिग्गज नेता प्रेम लता उम्मीदवार थीं। वह जननायक जनता पार्टी प्रमुख दुष्यंत चौटाला को उतारने के लिए मैदान में उतरी थीं। लेकिन दुष्यंत चौटाला ने 47,452 अधिक मत हासिल कर भाजपा प्रत्याशी प्रेम लता को शिकस्त दी।

Next Story
Top