Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Haryana Election: सीएम केजरीवाल समेत अन्य स्टार प्रचारकों ने बनाई हरियाणा चुनाव से दूरी, ये है वजह

हरियाणा विधानसभा चुनाव (Haryana Assembly Elections) के लिए आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Partyt) ने स्टार प्रचारकों (Star Campaigners) की सूची जारी कर दी थी। लेकिन अब सूची में जारी किए गए नामों में कई वरिष्ठ नेता चुनाव प्रचार में नजर नहीं आएंगे। यह फैसला दिल्ली चुनाव (Delhi Assembly Election) की तैयारियों को ध्यान में रखते हुए लिया गया है।

Haryana Election: सीएम केजरीवाल समेत अन्य स्टार प्रचारकों ने बनाई हरियाणा चुनाव से दूरीcm arvind kejriwal (file photo)

Haryana Assembly Election: हरियाणा चुनाव जिस गति से नजदीत आते जा रहे हैं। उसी रफ्तार से राजनीतिक दलों का प्रचार तेज होता जा रहा है। पार्टी अपने सबसे लोकप्रिय और दिग्गज नेताओं को स्टार प्रचारकों (Star Campaigners) के तौर पर प्रदेश में चुनावी प्रचार के लिए भेज रही हैं।

लेकिन दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) के स्टार प्रचारक होने के बाद भी हरियाणा में चुनाव प्रचार के लिए नहीं दिखेंगे। हालांकि शुक्रवार को आम आदमी पार्टी ने हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए जो स्टार प्रचारकों की सूची जारी की है, उसमें सीएम अरविंद केजरीवाल का नाम शामिल हैं।

इस मामले पर पार्टी की केंद्रीय इकाई का कहना है कि आगामी दिल्ली चुनाव को देखते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता हरियाणा में चुनाव प्रचार के लिए सक्रीय नहीं रहेंगे। प्रदेश इकाई को अपने स्तर पर ही चुनाव लड़ना होगा।

दिल्ली चुनाव पार्टी के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी पूरी ताकत से साथ तैयारियों में जुटी हुई है। पार्टी द्वारा जारी की गई स्टार प्रचारकों की सूची में दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल समेत मनीष सिसोदिया, संजय सिंह, गोपाल राय, सुशील गुप्ता और कुछ अन्य वरिष्ठ नेताओं ने नाम शामिल हैं।

सूत्रों का यह भी कहना है कि, वरिष्ठ नेताओं को स्टार प्रचारकों के तौर पर न भेजने का फैसला पार्टी ने पूरी तरह सोची समझी रणनीति के तहत लिया है। कहा जा रहा है कि, वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी के बाद भी अगर हरियाणा चुनाव में अपेक्षित नतीजे नहीं आए तो उनका सीधा प्रभाव दिल्ली विधानसभा चुनाव पर भी पड़ सकता है। इस वजह से पार्टी कार्यकर्ता निराश हो सकते हैं साथ ही मतदाताओं की धारणा भी पार्टी को लेकर खराब हो सकती है।

Next Story
Top