Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

लिफ्ट देकर लूट रहा था इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियर युवाओं का गिरोह, एसआईटी ने दबोचा सरगना

हरियाणा के धारूहेड़ा की एसआईटी टीम ने पाचं बदमाशों के गिरोह को दबोचा है। यह हाईवे पर रात के समय लोगों को लिफ्ट का झांसा देकर उनके साथ लूटपाट करते थे। साथ ही ऑनलाइट लूट की कई घटनाओं को भी अंजाम दे चुके थे।

एसआईटी ने दबोचा लिफ्ट देकर लूटने वाला गिरोह, इलेक्ट्रॉनिक्स इंजिनियर गिरोह का सरगनासांकेतिक चित्र

हरियाणा (Haryana) के धारूहेड़ा (Dharuhera) की एसआईटी (SIT) टीम के पांच बदमाशों के एक गिरोह को दबोचा है। जानकारी के अनुसार शातिर अपराधी दिल्ली-जयपुर हाईवे पर यात्रियों को लिफ्ट देते थे और हथियारों के बल पर उन्हें लूट लेते थे। आरोपी कई पीड़ितों से मोबाइल फोन, नकदी, एटीएम लूट चुके हैं। इसके अलावा आरोप है कि वह लोगों के बैंक खाते से ऑनलाइन लोन अप्लाई कर खुद के अकाउंट में नकदी ट्रांसफर करते थे। गिरोह का सरगना भिवानी निवासी विवेक भारती इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन इंजीनियर है।

एसआईटी ने विवेक भारती सहित चार अन्य आरोपियों को भी हिरासत में लिया है। गिरोह का दूसरा बदमाश भरतपुर निवासी महेशी जोशी भी मैकेनिकल इंजीनियर है। दोनों आरोपी साथ मिल कर ऑनलाइन लूट की घटनाओं को अंजाम देते हैं। गिरोह के बाकी सदस्यों की पहचान पलवल के बुड़ौली निवासी सौरभ और दुष्यंत के रूप में हुई है। गिरोह एनसीआर क्षेत्र रेवाड़ी, गुरुग्राम, नोएडा व दिल्ली के आसपास के इलाकों में दो दर्जन से अधिक वारदातों को अंजाम दे चुका है।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मंगलवार शाम को सीआईए धारुहेड़ा पुलिस को सुचना मिली कि होंडा एमेज कार में सवार कुछ संदिग्ध युवक 75 फुटा रोड़ पर राहगीरों को लूटने की फिराक में खड़े हैं। सूचना मिलते ही सीआईए-टू के इंचार्ज कबूल सिंह ने टीम गठित की और मौके पर पहुंचे। सीआईए की टीम ने चारों बदमाशों को मौके से दबोच लिया। पुछताछ के दौरान बदमाशों ने अंजाम दी गई वारदातों का खुलासा किया।

बदमाशों ने पुलिस को बताया कि वह शाम ढलते ही हाईवे पर गाड़ी लेकर निकल जाते थे। रात के समय किसी भी व्यक्ति को हाईवे पर खड़ा देख वह उसे लिफ्ट का झासा देते थे। गाड़ी में बैठने के बाद कुछ दूर जाकर बदमाश उस पर हथियार तान देते थे और उसका एटीएम कार्ड, मोबाइल व पैसे लूट लेते थे। वह व्यक्ति से एटीएम का पासवर्ड भी उगलवा लेते थे। फिर उसी के एटीएम से गाड़ी में तेल डलवाते थे, शॉपिंग करते थे और फिर अकाउंट में बची हुई नकदी साफ कर देते थे। उसके बाद वह पीड़ित को किसी सुनसान जगह फेंककर फरार हो जाते थे।

Next Story
Top