Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गन्नौर : भ्रूण लिंग जांच के बड़े गिरोह का भंडाफोड़, 30 हजार रुपए में बता देते लिंग

सोनीपत स्वास्थ्य विभाग की टीम में शामिल पीएमओ डा. आदर्श शर्मा ने दलाल महिला के साथ ही लिंग जांच करने वाले दंपति डाक्टरों के खिलाफ थाना गन्नौर में पीएनडीटी एक्ट के तहत शिकायत दी है।

गन्नौर : भ्रूण लिंग जांच के बड़े गिरोह का भंडाफोड़, 30 हजार रुपए में बता देते लिंग

स्वास्थ्य विभाग ने भू्रण लिंग जांच कराने के नाम पर पैसे एंठने के लिए गर्भवती महिला को लेकर दिल्ली गई एक महिला दलाल को रंगेहाथ पकड़ लिया। दलाल ने जांच कराने के लिए महिला से 30 हजार रुपये लिए थे। टीम ने दलाल से 24 हजार रुपये भी बरामद किए हैं। पकड़ी गई दलाल महिला मीरा शहर के बीएसटी कालोनी की रहने वाली है। सोनीपत स्वास्थ्य विभाग की टीम ने दिल्ली स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ संयुक्त रूप से रेड मार कर इस लिंग जांच गिरोह का भांडा फोड किया।

सोनीपत स्वास्थ्य विभाग की टीम में शामिल पीएमओ डा. आदर्श शर्मा ने दलाल महिला के साथ ही लिंग जांच करने वाले दंपति डाक्टरों के खिलाफ थाना गन्नौर में पीएनडीटी एक्ट के तहत शिकायत दी है। शिकायत पर पुलिस ने आरोपित महिला सहित जहांगीर पुरी स्थित संजय ग्लोबल अस्पताल के संचालक डा. संजय मलिक व उनकी पत्नी सरस्वती के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

जानकारी देते हुए डा. आदर्श शर्मा ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग टीम की ओर से उन्हें इस गिरोह की सूचना मिली थी। इस पर उन्होंने दिल्ली स्वास्थ्य विभाग की टीम की मदद से गिरोह की जांच के लिए एक गर्भवती महिला की मदद ली। टीम ने गर्भवती महिला को मीरा के पास लिंग जांच परीक्षण करवाने के लिए भेजा। मीरा के साथ उसकी 30 हजार रूपये में लिंग जांच करवाने की सहमति बन गई। इसके बाद पीएनडीटी सैल की टीम ने 30 हजार रूपये देकर गर्भवती महिला को मीरा के पास भेज दिया।

मीरा उसे दिल्ली के जहांगीर पुरी स्थित संजय ग्लोबल अस्पताल लेकर चली गई और अस्पताल के संचालक डा. संजय मलिक व उसकी पत्नी सरस्वती से मिली। इसके बाद डा. संजय मलिक व सरस्वती ने डा. स्वाति मुखर्जी के नाम से एक फर्जी रैफरल स्लिप बना कर गर्भवति महिला को अल्ट्रासाउंड के लिए नॉर्थ दिल्ली डायग्नोस्टिक सेंटर भेज दिया। इस दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सेंटर को इस रेड के बारे में पहले ही अवगत करवा दिया।

जिसके बाद सेंटर में गर्भवती महिला का सामान्य अल्ट्रासाउंड किया गया। लेकिन मीरा ने पैसे एंठने के चक्कर में खुद ही गर्भवती महिला को भू्रण लिंग के बारे में बता दिया। जबकि नॉर्थ दिल्ली डायग्नोस्टिक सेंटर की तरफ से लिंग जांच के बारे में कोई जानकारी दी नहीं गई थी। जब मीरा गन्नौर वापिस पहुंची तो टीम ने उसका पीछा करते हुए उसे पकड़ लिया और मीरा के पास से 24 हजार रूपये की नगदी भी बरामद की।

इसके अलावा टीम ने महिला का फोन भी जब्त किया जिसमें उसने व्हाट्सएप पर डा. संजय मलिक से इस बारे में बातचीत भी कर रखी थी। इसके बाद डा. आदर्श शर्मा ने मामले की शिकायत थाना गन्नौर पुलिस में दी। शिकायत के बाद पुलिस ने महिला दलाल मीरा, जहांगीर पुरी स्थित संजय ग्लोबल अस्पताल के संचालक डा. संजय मलिक व उनकी पत्नी सरस्वती के खिलाफ पीएनडीटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी।

Next Story
Share it
Top