Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मंहगी पड़ी एनआरआई से दोस्ती, युवती ने फर्जी कस्टम अधिकारी के साथ मिलकर लगाया 19 लाख का चूना

देश में साइबर अपराधी इतने ज्यादा एडवांस हो गए हैं कि टेक्नोलाजी के बड़े जानकारों को भी बड़ी आसानी से चूना लगा दे रहे हैं। लाखों की ठगी का एक बड़ा मामला साइबर सिटी गुरुग्राम से सामने आया है, जहां खुद को एनआरआई बताते हुए युवती ने युवक को 19 लाख का चूना लगा दिया।

मंहगी पड़ी एनआरआई से दोस्ती, युवती ने फर्जी कस्टम अधिकारी के साथ मिलकर लगाया 19 लाख का चूनाFriendship with NRI fake customs officer Fraud of 19 lakhs in gurugram

देश में साइबर अपराधी इतने ज्यादा एडवांस हो गए हैं कि टेक्नोलाजी के बड़े जानकारों को भी बड़ी आसानी से चूना लगा दे रहे हैं। लाखों की ठगी का एक बड़ा मामला साइबर सिटी गुरुग्राम से सामने आया है, जहां खुद को एनआरआई बताते हुए युवती ने युवक को 19 लाख का चूना लगा दिया।

गुरुग्राम के सेक्टर 47 में रहने वाले अभिषेक मिश्रा का जुड़ाव सोशल मीडिया पर एक लड़की से हुआ। दोनों ने आपस में बातचीत शुरू की और बाद में दोस्त बन गए। लड़की ने खुद को एनआरआई बताते हुए अपना नाम मारिया पटेल व पता पोलैंड बताया।

दोनों के बीच लगातार बातचीत होती रही। इसी दौरान लड़की ने भारत में आईवीएफ क्लीनिक खोलने की बात कही। उसने अभिषेक को मदद की पेशकश की। अभिषेक ने हामी भर दी। उसने 19 फरवरी को भारत आने की बात कही।

अभिषेक ने बताया कि 19 फरवरी को उसके पास फोन आया, फोन करने वाले व्यक्ति ने खुद को कस्टम अधिकारी बताते हुए कहा कि युवती के पास से दो लाख युरो मिले हैं, जो नियम का उल्लंघन है, कस्टम अधिकारी ने अभिषेक की बात युवती से करवाया।


युवती ने कहा कि उसे हिरासत में ले लिया गया है। कस्टम अधिकारी ने दोबारा फोन लेते हुए अभिषेक से कहा कि वह कस्टम को भुगतान कर दें तो उन्हें पूरे पैसे मिल जाएंगे। अभिषेक ने बताया कि उसने 19.30 लाख रुपए युवती के खाते में डाल दिए, इन पैसों में 5 लाख उसने बॉस से उधार लेने की बात कही।

28 फरवरी को कस्टम अधिकारी बने युवक का फोन आया जिसमें उसने कहा कि अगर 3.80 लाख रुपए का भुगतान और कर दें तो ये पैसा आपके खाते में चला जाए। इसपर अभिषेक ने मना कर दिया। इनके उन दोंनो ने अपना फोन बंद कर लिया।

अपने साथ हुई ठगी पर पछताते हुए अभिषेक ने कहा कि वह साइबर ठगी को समझते हैं, पर पैसा भुगतान के लिए उन्हें अधिकारिक ईमेल किए गए जिससे उन्हें भनक तक नहीं लगी कि उनके साथ ठगी हो गई है। फिलहाल साइबर थाना पुलिस ने मामला दर्ज करके जांच शुरू कर दी है।

Next Story
Share it
Top