Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

विद्यार्थियों के लिए निशुल्क बुक बैंक का हुआ उद्घाटन

विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए आ रही महंगी किताबों की परेशानी अब नहीं सताएगी। पंच परमेष्ठी युवा मंडल की तरफ से होनहार विद्यार्थियों के लिए अपना बुक बैंक शुरू किया गया है।

विद्यार्थियों के लिए निशुल्क बुक बैंक का हुआ उदघाटनबुक बैंक (फाइल फोटो)

रोहतक में विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए आ रही महंगी किताबों की परेशानी अब नहीं सताएगी। पंच परमेष्ठी युवा मंडल की तरफ से होनहार विद्यार्थियों के लिए अपना बुक बैंक शुरू किया गया है, जिसमें विद्यार्थियों को महंगी किताबें पढ़ने को मिलेगी। बुक बैंक का शुभारंभ एलपीएस बौसार्ड के एमडी राजेश जैन ने हवन में आहूति डालकर किया।

पंच परमेष्ठी युवा मंडल के अध्यक्ष विवेक जैन ने बताया कि बुक बैंक का उद्देश्य जरूरतमंदों विद्यार्थियों को महंगी किताबे मुहैया करवाना है। बुक बैंक में उन विद्यार्थियों से पुस्तक ली जा रही है, जो उसका उपयोग कर चुके है और अब उनके काम की नहीं है। जिन जरूरतमंद विद्यार्थियों को इनकी आवश्यकता है। वो इन्हें यहा से प्राप्त कर सकता है। बुक बैंक में सभी माध्यमों की पुस्तके उपलब्धता कराना लक्ष्य है।

इसका स्थान वैश्य व्यायामशाला एंव गौशाला रहेगा। पंच परमेष्ठी युवा मंडल के महामंत्री साहिल ने बताया कि इसके लिए कई दिनों से तैयारी चल रही थी। अपना बुक बैंक का मकसद संसाधनों का उपयोग अच्छे से हो सके, क्योंकि वृक्ष के कटने से ही कागज बनता है व कागजों से ही किताबों का निर्माण होता है।

उन्होंने बताया कि मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे राजेश जैन ने बुक बैंक में बुक डोनेट करने वालो को प्रशंसा पत्र देकर सम्मानित किया व एक जरूरतमंद छात्रा को बुक भी प्रदान की। इस अवसर पर सामाजिक संस्थाओं के गणमान्य सदसय उपस्थित हुए व युवा मंडल के साहिल, सक्षम, राहुल, दिव्यम, चिराग, अंकित, मनीष, माणिक, केशव, रिषभ, रोहित, अमन, अरिहंत, परांशु, चकित आदि मौजूर रहे।

जरूरतमंद विद्यार्थियों के लिए युवाओं की अच्छी पहल

एलपीएस बौसार्ड के एमडी राजेश जैन ने कहा कि जरूरतमंद युवाओं को महंगी किताबे न मिलने के कारण अपनी पढ़ाई को बीच में ही छोड़ना पड़ता है, लेकिन बुक बैंक के जरिए अब विद्यार्थियों की महंगी किताब खरीदने की समस्या दूर होगी। डाक्टर-इंजीनियर बनने के लिए काफी महंगी किताबें आती है, जिन्हें हर कोई खरीद नहीं सकता। ऐसे में उन लोगों को सहयोग करना चाहिए, जो डाक्टर या इंजीनियर बन चुके है और अब वो किताब उनके काम की नहीं है। वह अपनी किताब बुक बैंक में डोनेट करें, ताकि उन किताबों से अन्य युवा भी पढ़ाई करके आगे बढ़ सके। पंच परमेष्ठी युवा मंडल के सदस्यों की अच्छी पहल है जो किसी के भविष्य को उज्जवल बना सकती है।


Next Story
Top