Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

चार व्यक्तियों की हत्या, पति-पत्नी के साथ बेटी व दमाद को भी उतारा मौत के घाट

बदमाशों ने डॉ. प्रवीन मेहंदीरत्ता (58), उनकी पत्नी सुदेश, सौरभ कटारिया निवासी मेरठ और प्रियंका कटारिया की हत्या कर दी। डॉ. प्रवीन मेहंदीरत्ता एक्सरे क्लीनिक चलाते थे।

हरियाणा में अपराधियों के हौसले बुलंद, घर में घुसकर महिला को उतारा मौत के घाटमहिला हत्या

सैक्टर-7 में डाक्टर दम्पति उसके दामाद व बेटी की निर्मम हत्या से आज औद्योगिक नगरी दहल गई। हमलावरों ने चाकू से गोदकर चारों को मौत के घाट उतार दिया। हत्यारे ने इस दौरान घर में मौजूद कुत्ते को एक कमरे में बंद कर दिया था। घटना की सूचना मिलते ही डीसीपी बल्लभगढ़, एसीपी बल्लभगढ़, सैक्टर-8 थाना पुलिस के अलावा क्राईम ब्रांच की टीमें तथा फारेसिंक एक्सपर्ट की टीमोें ने मौका-मुआयना किया। ऐसे में पुलिस का मानना है कि वारदात में किसी जानकार का ही हाथ है, जो आराम से घर में दाखिल हुआ और कुत्ते को भी काबू कर लिया। पुलिस ने चारों शवों को पोस्टमार्टम के लिए बीके सिविल अस्पताल के शवगृह में रखवा दिया है।

जानकारी के अनुसार सैक्टर-7 ए म.न. 19 में डाक्टर प्रवीण मेंहदीरत्ता एक्सरे क्लीनिक चलाते है। बताया गया है कि यही पर डाक्टर मेंहदीरत्ता अपनी पत्नि भारती के साथ रहते थे। उनकी बेटी प्रियंका नोएडा स्थित एचसीएल कंपनी में नौकरी करती थी, जबकि दामाद सौरभ गुरुग्राम स्थित एक निजी कंपनी में कार्यरत था। ऐसे में दोनों यहां वैशाली, गाजियाबाद में रहते थे। परिजनों के अनुसार अक्सर सप्ताह अंत में बेटी और दामाद फरीदाबाद आ जाते थे और रविवार शाम को वापस लौटते थे। शुक्रवार रात को भी दोनों करीब 11.30 बजे यहां आए थे।

बताया जा रहा है कि शनिवार को दिन भर जब क्लीनिक नहीं खुला, पड़ोसी सुंदर लाल ने बताया कि रोजाना सुबह करीब 6 बजे डा. प्रवीण अपने कुत्ते को घुमाने लेकर जाते थे। मगर शनिवार सुबह किसी ने उन्हें नहीं देखा। इस दौरान उन्होंने कुत्ते के भौंकने और टीवी की आवाज सुनी, मगर उस पर 'यादा गौर नहीं किया। सुंदर लाल का प्रॉपर्टी डीलिंग का काम है और पास में ही उन्होंने आफिस बना रखा है।

दोपहर करीब दो बजे जब वह खाना खाने के लिए घर आए तब भी उन्हें कुत्ता भौंकता हुआ मिला और टीवी की तेज आवाज आ रही थी। इस पर उन्होंने डा. मेहंदीरत्ता को फोन किया, मगर उनका फोन नहीं उठा। उन्होंने मकान नंबर 20 में रहने वाले प्रो. सुनील गर्ग को फोन कर डा. प्रवीण के बारे में पूछा तो उन्होंने भी कहा कि सुबह से उन्होंने किसी को नहीं देखा और सुबह से उनका कुत्ता भौंक रहा है।

किसी अनहोनी की आशंका के चलते प्रो. गर्ग ने इसकी सूचना पुलिस को दी। करीब ढाई बजे पुलिस मौके पर पहुंची तो मकान के अंदर का गेट खुला हुआ था। पुलिस घर में दाखिल हुई तो अंदर का मंजर देखकर दंग रह गई। घर के हॉल में दो शव पड़े थे, जोकि प्रियंका और सौरभ के थे। अंदर बेडरूम में भारती मेहंदीरत्ता और बेसमेंट में डा. प्रवीण का शव पड़ा था। हर तरफ खून फैला हुआ था। पुलिस ने इसकी सूचना आला अधिकारियों को दीए जिसके बाद क्राइम ब्रांच और फोरेंसिक टीम भी मौके पर पहुंच गई। देर शाम सौरभ के परिजन भी मेरठ से फरीदाबाद पहुंच गए थे।

इस दिल दहला देने वाली वारदात की सूचना मिलते ही बल्लभगढ़ के विधायक मूलचंद शर्मा के भाई पं. टिपरचंद शर्मा व पूर्व विधायक आनन्द कौशिक के भाई बलजीत कौशिक, कांग्रेसी नेता लखन कुमार सिंगला, पूर्व पार्षद योगेश ढींगड़ा भी मौके पर पहुंच गए।

क्या कहते है डीसीपी

डीसीपी क्राइम राजेश गर्ग के अनुसार पड़ोस में लगे सीसीटीवी कैमरे में रात करीब 10.30 बजे एक व्यक्ति स्कूटी पर वहां आता दिख रहा है। इसके बाद 11.30 बजे प्रियंका और सौरभ आए थे। उनके जाने के आधे घंटे बाद करीब 11.56 मिनट पर वह स्कूटी वाला शख्स वापस जाता हुआ दिख रहा है। पुलिस के अनुसार प्रियंका और सौरभ की घर में दाखिल होते ही हत्या कर दी गई थी। मौके से दो मोबाइल फोन भी गायब, जिनमें से एक प्रियंका का फोन पुलिस को मिल गया है। पुलिस घटना की जांच में जुटी हुई है।

Next Story
Hari bhoomi
Share it
Top