Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

200 साल में पहली बार महावीर जयंती नहीं होगा ये काम

प्राचीन दिगंबर मंदिर में पिछले 200 साल से महावीर जयंती पर निकाली जानी वाली शोभायात्रा इस साल नहीं निकाली जाएगी।

200 साल में पहली बार महावीर जयंती नहीं होगा ये कामबहादुरगढ़। गत वर्ष शोभायात्रा के दौरान पूजा करते जैन अनुयायियों का फाइल फोटो।

हरिभूमि न्यूज। बहादुरगढ़। भगवान महावीर की जयंती के उपलक्ष्य में इस बार छह अप्रैल को बहादुरगढ़ में कोई सामूहिक कार्यक्रम नहीं होगा। बीते 200 सालों में यह पहला अवसर है, जब महावीर जयंती पर प्राचीन दिगंबर जैन मंदिर में कार्यक्रम नहीं होगा। समाज के लोग अपने घरों पर ही प्रभु की पूजा-अर्चना कर विश्व में सुख, शांति और समृद्धि की कामना करेंगे।

लॉक डाउन के कारण सभी धार्मिक स्थलों के द्वारा बंद हैं। कहीं भी कोई धार्मिक कार्यक्रम नहीं हो रहे। सोमवार को जैन समाज के 24वें तीर्थकर भगवान महावीर की जयंती है। बहादुरगढ़ में यह त्यौहार जैन समाज के लोगों द्वारा श्रद्धा पूर्वक मनाया जाता है। हर साल पांडुशिला से लेकर श्री प्रभु दिगंबर जैन मंदिर तक यात्रा निकाली जाती थी। लेकिन इस दफा लॉकडाउन के कारण महावीर जयंती पर कहीं भी कोई कार्यक्रम नहीं होगा। अनाज मंडी स्थित पांडुशिला और लंबी गली में स्थित प्राचीन श्री प्रभु दिगंबर जैन मंदिर में सामूहिक पूजा भी नहीं होगी। बहादुरगढ़ में जैन धर्म के लगभग डेढ़ सौ परिवार रहते हैं। ये सभी घरों में ही महावीर जयंती मनाने की तैयारियां कर रहे हैं।

समाज प्रधान राकेश जैन ने बताया कि कोरोना जैसी भयानक महामारी के कारण सभी धार्मिक स्थल बंद है। इसलिए हम भी यह त्यौहार अपने घरों में बैठकर शांतिपूर्वक मनाएंगे। सुबह भगवान महावीर की पूजा अर्चना की जाएगी। घर में व्यंजन बनाए जाएंगे। जैन ने बताया कि मेन बाजार में गांधी चौक के पास श्री प्रभु दिगंबर जैन मंदिर करीब 200 साल पुराना है। हर वर्ष बहुत ही हर्षोल्लास के साथ मंदिर में भगवान महावीर की जयंती मनाई जाती थी। यह पहला ऐसा मौका है, जब मंदिर में कोई कार्यक्रम नहीं होगा। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर हम सभी रविवार रात को दीपक जलाएंगे।


Next Story
Top