Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

फसल खराब होने से किसान ने की आत्महत्या, परिजनों ने शव को नेशनल हाइवे पर रख किया विरोध प्रदर्शन

फसल खराब होने से किसान ने आत्महत्या कर ली, जिसके बाद परिजनों और गांव वालों शव नेशनल हाइवे पर रख विरोध किया।

फसल खराब होने से किसान ने की आत्महत्या, परिजनों ने शव को नेशनल हाइवे पर रख किया विरोध प्रदर्शन

गोहाना. रिवाड़ा गांव में फसल खराब होने पर एक किसान द्वारा जान दिए जाने पर परिजनों और ग्रामीणों ने शव के साथ पहले नई अनाजमंडी के बाई-पास और फिर शहर में नेशनल हाई-वे 709 पर रोहतक बाई-पास पर जाम लगा दिया। परिजनों ने कहा कि किसान युद्धवीर पहले से ही कर्ज में डूबा हुआ था, अब फसल बर्बाद होने से वह परेशान था।

युद्धवीर अपने पीछे पत्नी मीना, दो बेटियां-नीतू और स्वाति तथा एक बेटा जतिन छोड़ गया है। अब मृतक के परिजन और ग्रामीण 25 लाख रुपये के मुआवजे तथा मृतक की विधवा के लिए सरकारी नौकरी की मांग कर रहे हैं। तहसीलदार नवदीप सिंह नैन समझाने के लिए पहुंचे लेकिन प्रदर्शनकारी डीसी या एमपी को बुलाने की मांग पर अड़ गए। वे पोस्टमॉर्टम करवाने के लिए भी तैयार नहीं थे।
डीसी व एमपी के न पहुंचने पर लगाया जाम
मृतक के परिजन नई अनाजमंडी के गेट के आगे बाईपास पर 2 घंटे तक जाम पर बैठे रहे लेकिन न डीसी आए और न ही एमपी पहुंचे। इस पर भड़के ग्रामीण नेशनल हाई-वे 709 पर पहुंच गए तथा रोहतक बाईपास पर जाम लगा दिया। जाम खुलवाने के लिए एसडीएम धर्मेन्द्र सिंह तथा भाजपा सामाजिक न्याय प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष राम चंद्र जांगड़ा पहुंचे। उन्होंने सरकार तक मांगें पहुंचाने का वायदा किया। इस पर ग्रामीण शव का पोस्टमॉर्टम करवाने और जाम खोलने के लिए तैयार हो गए।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी खबर -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top