Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

दो रुपये सैकड़ा के बदले मांगे 10 रुपये, फैक्ट्री संचालक ने निगला जहर

फाइनेंसरों ने प्रदीप के कान पर बंदूक लगा दी और प्लाट की रजिस्ट्री के लिए हस्ताक्षर करवा लिए

दो रुपये सैकड़ा के बदले मांगे 10 रुपये, फैक्ट्री संचालक ने निगला जहर

भिवानी. भिवानी-दादरी मार्ग पर स्थित गांव हालुवास के अलमारी फैक्ट्री संचालक ने शनिवार रात फाइनेंसरों के दबाव में जहरीला पदार्थ निगल आत्महत्या कर ली।

रेवाड़ी में रेप पीड़िता ने फांसी लगाकर दी जान, तो दो मासूम पानी में डूबे

करीब 26 वर्षीय प्रदीप ने मरने से पहले स्टाम्प पेपर पर सुसाइड नोट भी लिखा है। सुसाइड नोट में तीन लोगों पर परेशान करने का आरोप लगाया है।
मृतक का तीन लोगों से पैसा का लेन-देन चल रहा था। सुसाइड नोट में उसने लिखा है उसे राशि दो रुपये प्रति सैकड़ा के हिसाब से दी गई थी। लेकिन अब 10 रुपये सैकड़ा का ब्याज मांगा जा रहा था।
एसपी गंगाराम पूनिया का कहना है कि पिता महाबीर की शिकायत पर केस दर्ज कर लिया गया है। मामला आपसी लेन-देन व अधिक ब्याज वसूली का है। शीघ्र ही आरोपी पकड़े जाएंगे।
मृतक के पिता ने बताया कि उसके बेटे ने पैसे अपने साथियों से दो रुपये सैकड़ा ब्याज पर लिए थे, लेकिन फिर उन्होंने 10 रुपये सैकड़ा ब्याज से वसूली शुरू कर दी।
शनिवार को प्रदीप नया बाजार में आया था। यहां फाइनेंसरों ने उसके कान पर बंदूक लगा दी और प्लाट की रजिस्ट्री के लिए हस्ताक्षर करवा लिए। एक फाइनेंसर ने तो बहुत अभद्र भाषा का प्रयोग भी किया।
परिजनों का आरोप है कि जब उसे गंभीर हालत में बंसीलाल अस्पताल लाया गया तो उस समय उसके बयान नहीं लिए। एक एएसआई ने आरोपियों से मिलीभगत कर बयानों को दरकिनार कर दिया।
प्रदीप द्वारा लिखे गए सुसाइड नोट में गांव के विकास व नरेश पर पैसे देने की एवज में अधिक ब्याज वसूलने का आरोप लगाया गया है। इसके साथ-साथ उसने भिवानी के आयुष फर्नीचर के शिव पर अपशब्द कहने का आरोप लगाया है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top