Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

एक दिन का डीसी बन 88 वर्षीय बुजुर्ग ने खड़ी की अधिकारियों की खटिया, निपटाया 9 साल पुराना जमीन विवाद

हरियाणा (Haryana) के कैथल (Kaithal) में बुजुर्ग दिवस पर एक कार्यक्रम के आयोजन के दौरान 88 वर्षीय बुजुर्ग (Eighty Eight Year Old Man) को एक दिन के लिए डीसी (DC) बनाया गया। बुजुर्ग ने अधिकारियों को कुर्सी पर बैठ कर आदेश दिए। 9 वर्षों से जमीन संबंधित विवाद (Land Dispute) को लेकर बुजुर्ग को कार्यालय के चक्कर काटने पड़ रहे थे। डीसी बनते ही बुजुर्ग ने जमीन का विवाद सुलझाया।

एक दिन का डीसी बन 88 वर्षीय बुजुर्ग ने खड़ी की अधिकारियों की खटिया, निपटाया 9 साल पुराना जमीन विवाद

एक दिन के लिए सरकारी अधिकारी की भूमिका निभाते लोगों ने आज तक केवल नायक (Nayak) फिल्म में अनिल कपूर (Anil Kapoor) को ही देखा होगा। लेकिन ऐसा ही कुछ हरियाणा (Haryana) के कैथल (Kaithal) में लोगों ने हकीकत में देखा।

कैथल में लोग 88 वर्षीय बुजुर्गशिवचरण को डीसी (DC) की कुर्सी पर बैठा देखकर आश्चर्यजनक रह गए। नायक फिल्म की तरह ही शिवचरण को भी एक दिन के लिए कैथल का डीसी बनाया गया। बुजुर्ग डीसी ने कार्यालय में कुर्सी पर बैठकर अपना 9 वर्ष पुराना जमीन बंटवारे का विवाद निपटाया।

यह चौंका देने वाली घटना तब हुई जब मंगलवार को अंतर्राष्ट्रीय बुजुर्ग दिवस पर श्री सनातन धर्म मंदिर स्थित वृद्धाश्रम में बुजुर्गों के लिए कार्यक्रम का आयोजन किया गया। आयोजन में डीसी डॉ प्रियंका सोनी मुख्यातिथि के तौर पर शामिल हुईं। कार्यक्रम के दौरान डीसी ने कहा कि हमें बुजुर्गों का मान सम्मान करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि आप लोगों में से किसी को कोई परेशानी हो तो मुझसे संपर्क करें। इस दौरान कार्यक्रम में मौजूद बुजुर्ग शिवचरण हाथ जोड़कर खड़े हो गए और डीसी से कहा कि, मैडम मैं 9 साल से चक्कर काट रहा हूं। मेरी जमीन पर मेरे भतीजों के कब्जा कर रखा है। मुझे मेरा हिस्सा नहीं मिल रहा। लेकिन मेरी शिकायत कोई नहीं सुनता है।

जिस पर डीसी ने कहा कि, आज आपकी ही समस्या का निवारण किया जाएगा। आप खुद डीसी बनकर इसके लिए निर्देश दें। डीसी की कुर्सी पर बैठे शिवचरण की उस दिन सारे अधिकारियों ने सुनी और उनके निर्देशों का पालन किया।

हरियाणवी अंदाज में बुजुर्ग शिवचरण ने कहा कि, काम क्यूं लेट होवै सै, यह नीयत का फर्क है। अच्छी नीयत होगी तो अच्छे काम होवैं सै। सरकार पैसे देवै से तो अफसरां नै काम भी करना चाहिए। जो अधिकारी उन्हें कार्यालय के चक्कर कटवा रहे थे, वो सब उस समय शिवचरण की जी हजूरी करते नजर आए। शिवचरण ने बाकी के बुजुर्गों की शिकायतों की सुनवाई भी की।

Next Story
Share it
Top