Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

दुष्यंत और दिग्विजय के निष्कासन के बाद इस्तीफों का दौर जारी, INLD में हो सकता है विभाजन

आईएनएलडी अध्यक्ष ओम प्रकाश चौटाला द्वारा अपने पौत्रों दुष्यंत चौटाला और दिग्विजय चौटाला को पार्टी से निष्कासित किए जाने के एक दिन बाद पार्टी में विभाजन की संभावना बन गई है। दोनों के समर्थन में कार्यकर्ताओं ने इस्तीफा देना शुरू कर दिया है।

दुष्यंत और दिग्विजय के निष्कासन के बाद इस्तीफों का दौर जारी, INLD में हो सकता है विभाजन

आईएनएलडी अध्यक्ष ओम प्रकाश चौटाला द्वारा अपने पौत्रों दुष्यंत चौटाला और दिग्विजय चौटाला को पार्टी से निष्कासित किए जाने के एक दिन बाद पार्टी में विभाजन की संभावना बन गई है। दोनों के समर्थन में कार्यकर्ताओं ने इस्तीफा देना शुरू कर दिया है।

दोनों नेताओं के निष्कासन के बाद हरियाणा के अलग-अलग जिले में पार्टी के कई नेताओं ने शनिवार को इंडियन नेशनल लोक दल से इस्तीफा देना शुरू कर दिया। दोनों ओमप्रकाश चौटाला के बड़े बेटे अजय चौटाला के पुत्र हैं।

इसे भी पढ़ें- हरियाणा: फरीदाबाद क्राइम ब्रांच ने ट्रक से 700 से गाय की खाल बरामद की, दो गिरफ्तार

कुछ नेताओं ने सोशल मीडिया पर इस्तीफे की घोषणा करते हुए दुष्यंत और दिग्विजय के साथ अपनी एकजुटता दिखाई है।

दोनों को शुक्रवार को अनुशासनहीनता के आरोप में पार्टी से बर्खास्त कर दिया गया था। दोनों को अपने चाचा और चौटाला के छोटे बेटे विधायक अभय सिंह चौटाला के विरोधी के तौर पर देखा जाता है।

हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला ने सिरसा में अपने समर्थकों से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि अगले कदम पर तब निर्णय किया जाएगा जब उनके पिता अजय चौटाला जेल से बाहर निकलते हैं।

इसे भी पढ़ें- दिल्ली में प्रदूषण के स्तर में थोड़ा सुधार लेकिन हालात अभी भी 'बहुत खराब'

ओम प्रकाश चौटाला और अजय चौटाला शिक्षक भर्ती घोटाले में वर्ष 2013 से दस वर्ष जेल की सजा काट रहे हैं। सूत्रों ने बताया कि उनका 14 दिनों का पैरोल पांच नवम्बर से शुरू होगा।

पार्टी से इस्तीफा देने वालों पर प्रहार करते हुए आईएनएलडी के विधायक अभय सिंह चौटाला ने कहा कि संगठन में उनका कोई भविष्य नहीं है।

उन्होंने कहा कि जो लोग आईएनएलडी छोड़ रहे हैं वे ऐसे लोग हैं जिनका जुड़ाव कांग्रेस से है। कुछ कांग्रेसी आईएनएलडी को कमजोर करना चाहते हैं। लेकिन उन्होंने सांसद दुष्यंत चौटाला और युवा नेता दिग्विजय चौटाला के निष्कासन पर सीधी टिप्पणी करने से इंकार कर दिया।

Next Story
Share it
Top