Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

चौटाला की अंतरिम जमानत याचिका खारिज, जाना होगा वापस जेल में

शिक्षक भर्ती घोटाले के आरोपी चौटाला को इलाज के लिए 6 हफ्ते की बेल मिली थी।

चौटाला की अंतरिम जमानत याचिका खारिज, जाना होगा वापस जेल में

नई दिल्ली. इंडियन नेशनल लोकदल के मुखिया ओमप्रकाश चौटाला चुनावी रैली कर लोगों का जनाधार हासिल करना चाहते थे, लेकिन उनकी ये रैली उनपर ही भारी पड़ गई। बेल पर रिहा हुए चौटाला हरियाणा में चुनावी रैली कर रहे है। चौटाला की रैली के बाद दिल्ली हाई कोर्ट ने चौटाला को तिहाड़ जेल में सरेंडर करने का आदेश दिया है।

ओम प्रकाश चौटाला को खराब स्वास्थ्य के आधार पर जेल से जमानत मिली हुई है। उन्हें केंद्रीय जांच ब्यूरो की अदालत ने हरियाणा में जेबीटी शिक्षक भर्ती घोटाले में 10 साल की सजा सुनाई थी। जमानत की शर्तों के मुताबिक वह राजधानी से बाहर नहीं जा सकते हैं और न ही किसी राजनीतिक जनसभा को संबोधित कर सकते हैं।

हाल ही में ओम प्रकाश चौटाला ने जींद जिले में अपने पिता देवीलाल और पूर्व उप प्रधानमंत्री के जन्म शताब्दी सम्मान समारोह में रैली को संबोधित किया था और जेल से ही चुनाव लड़ने की घोषणा की थी। ओम प्रकाश चौटाला के साथ ही उनके पुत्र अजय चौटाला को भी इस मामले में सजा मिली हुई है। हरियाणा विधानसभा के चुनाव 15 अक्टूबर को होने वाले है और ओम प्रकाश चौटाला की पार्टी इंडियन नेशनल लोकदल इन चुनावों में एक बड़ी पार्टी के रुप में उभरकर मैदान आ रही है।

जैसे ही रैली की सूचना कोर्ट को मिली, कोर्ट ने उन्हें सरेंडर करने का आदेश दे दिया। सीबीआई की सूचना पर कोर्ट ने चौटाला को तिहाड़ जेल के अधि‍कारियों के सामने सरेंडर करने का आदेश दिया। वहीं चौटाला के वकील ने इस पर 20 दिनों की मोहलत मांगी। चौटाला अब 17 अक्टूबर को सरेंडर करेंगे। उनके जमानत की मियाद 17 सितंबर को पूरी हो रही है।

चौटाला ने कोर्ट से उनकी जमानत की मियाद बढ़ाने की मांग की थी। उन्होंने दिल्ली हाईकोर्ट में इस संबंध में याचिका दायर की थी। लेकिन कोर्ट ने उन की ये याचिका खारिज कर दी। इलाज के आधार पर मिली अंतरिम जमानत की अवधि बढ़ाने संबंधी याचिका दिल्ली उच्च न्यायालय ने खारिज करते हुए कहा कि उन्हें अब और अस्पताल में भर्ती रहने की कोई जरुरत नहीं है।

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, चौटाला से जुड़ी खबर -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Next Story
Share it
Top