Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

COVID-19: हरियाणा में कोरोना से होने वाली मौतों का होगा अध्ययन

प्रदेश में कोरोना वायरस (Corona virus) से मौतों का आंकड़ा बढ़ने से सरकार की भी चिंता बढ़ गई है। इसी को लेकर गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल (Home and Health Minister Anil) ने नोडल अफसर डाक्टर ध्रुव चौधरी को कोरोना से हुई मौतें के अध्ययन करने के निर्देश दिए हैं।

Coronavirus: शरीर की इम्यूनिटी ही है कोरोना वायरस की दवाई

योगेंद्र शर्मा:चंडीगढ़

गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज( Home and Health Minister Anil) तीन-चार दिनों में कोरोना से हो रही मौतों को लेकर चिंतित हैं। विज ने नोडल अफसर डाक्टर ध्रुव चौधरी को कोरोना से हुई मौतें के अध्ययन (study) करने के निर्देश दिए हैं। अब प्रदेश के अंदर पिछले दिनों हुई मौतों का अध्ययन किया जाएगा।

विज ने दिल्ली (Delhi) से सटे इलाकों में लगातार संक्रमण फैलने पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि हमने नक्शा भी तैयार कराया है। कईं इलाकों, मंडियों में भारी संख्या में केस पाए गए हैं, क्योंकि इनकी मूवमेंट दिल्ली में थी। यह सभी लोग दिल्ली की मंडियों में आते जाते थे। खासतौर पर सोनीपत, झज्जर, गुरुग्राम, नूंह जैसे इलाकों में संक्रमण फैला हुआ है। नोडल अधिकारी डेथ ऑडिट करेंगे।

संक्रमण नहीं फैलना चाहिए

विज ने कहा कि हमने दिल्ली की सीमा को पूरी तरह से सील किया हुआ है, वर्ना हमें वहां के लोगों से कोई व्यक्तिगत दुश्मनी नहीं है, लेकिन संक्रमण नहीं फैलना चाहिए। दिल्ली हाई कोर्ट की ओर से जो भी दिशा निर्देश दिए गए हैं, उस हिसाब से कोरोना योद्धाओं, सफाई कर्मियों, पुलिस कर्मियों डाक्टरों, पैरामेडिकल स्टाफ को एंट्री दी जा रही है। संवेदनशील इलाकों पर नजर रखी जा रही है।

रिपोर्ट तैयार करने के आदेश

विज ने निर्देश दिए हैं कि सभी केसों पर नजर रखें। साथ ही उनकी हिस्ट्री व मौत के कारणों का बारीकी के साथ में अध्ययन कर रिपोर्ट तैयार करें। मौतों के पीछे के कारणों की जांच पड़ताल व अध्ययन से फायदा यह होगा कि आने वाले वक्त में संक्रमित मरीजों के उपचार में कईं बातों का ध्यान रखा जाएगा। दूसरा दिल्ली से संक्रमित अथवा एनसीआर के मामलों के साथ में जिनके तार जुड़े हैं, उनका अध्ययन किया जाएगा।

अचानक बढ़े मामले

तीन चार दिनों से अचानक ही केस आने शुरु हो गए हैं, चार केसों को लेकर खासतौर पर नोडल अफसर डाक्टर नजर रखेंगे क्योंकि चारों ही मौतें पीजीआई में जाकर हुई है। यह चारों केस गुरुग्राम में आए थे, जिनको बाद में पीजीआई में रेफर किया गया था।

Next Story
Top