Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सीएम मनोहर लाल खट्टर बोले, परीक्षाओं में अनिश्चितता दूर हो

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सोमवार केन्द्र सरकार से एनडीए, इंजीनियरिंग कॉलेजों एवं मेडिकल कॉलेजों में दाखिले के लिए 12वीं कक्षा के बाद होने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे कि कम्बाइंड डिफेंस सर्विसिज़, जेईई तथा एनईईटी(नीट) के संबंध में चल रही अनिश्चितता को शीघ्र समाप्त करने के लिए तुरंत कदम उठाने का आग्रह किया है।

सीएम मनोहर लाल खट्टर बोले, परीक्षाओं में अनिश्चितता दूर हो
X

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कोरोना वायरस महामारी को लेकर बनी स्थिति को लेकर देश के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कांफ्रेंस के जरिए बातचीत की। इस दौरान केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह भी मौजूद रहे। इस दौरान हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने केन्द्र सरकार से एनडीए, इंजीनियरिंग कॉलेजों एवं मेडिकल कॉलेजों में दाखिले के लिए 12वीं कक्षा के बाद होने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे कि कम्बाइंड डिफेंस सर्विसिज, जेईई तथा एनईईटी(नीट) के संबंध में चल रही अनिश्चितता को शीघ्र समाप्त करने के लिए तुरंत कदम उठाने का आग्रह किया है।

प्रदेश में आर्थिक गतिविधियों को शुरू करने का प्रयास

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने प्रधानमंत्री को अवगत करवाया कि हरियाणा कोरोना वायरस से उत्पन्न संकट की इस घड़ी में हर स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है और आर्थिक गतिविधियों को सुरक्षित रूप से पुन: शुरू करने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड-19 के संबंध में प्रदेश के वर्तमान आंकड़े काफी आशाजनक हैं। प्रदेश में प्रतिदिन 3115 सेम्पल टेस्ट किए जा रहे हैं। आज तक किए गए कुल 22,243 टेस्ट में से केवल 299 पॉजिटिव पाए गए हैं। इन सभी को अस्पतालों में भर्ती किया गया है। इलाज के बाद 205 मरीज ठीक होकर अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि हमारे लिए प्रत्येक व्यक्ति का जीवन कीमती है और हम हर किसी को बचाने का भरसक प्रयास कर रहे हैं, लेकिन फिर भी दुर्भाग्यवश राज्य में कोविड-19 से 3 व्यक्तियों की जान गई है।

अब तक 32.21 लाख लोग आरोग्य सेतु एप डाउनलोड

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में अब तक 32.21 लाख लोग आरोग्य सेतु एप डाउनलोड कर चुके हैं। इस समय पूरे प्रदेश में 155 कंटेनमेंट जोन हैं, जहां लॉकडाउन को सख्ती से लागू किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस समय प्रदेश में लगभग 19 हजार मरीजों के लिए कोरंटाइन व्यवस्था व 9444 मरीजों के लिए आइसोलेशन बैड की व्यवस्था है। राज्य में 1101 वैंटिलेटर चालू हालत में हैं। इसके अतिरिक्त, सर्जिकल मास्क एवं पीपीई किट्स की भी कोई कमी नहीं है।

कुछ जिलों में कुछ गतिविधियों पर सख्ती बरती

राज्य में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए बरती जा रही सावधानियों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि राज्य में 20 अप्रैल को केन्द्रीय गृह मंत्रालय के लॉकडाउन में ढील देने के दिशा-निर्देशों को पूर्णत: लागू किया गया है। लेकिन कुछ जिलों में कुछ गतिविधियों पर सख्ती बरती जा रही है। उन्होंने कहा कि जहां-जहां श्रमिकों को कार्य स्थल पर (इन सिटू) रखने के प्रबंध हैं, ऐसी औद्योगिक एवं निर्माण गतिविधियों को, केवल कंटेनमेंट जोन को छोडक़र, पूरे राज्य में शुरू कर दिया गया है। इसी प्रकार, ऐसी 415 इकाइयों में 18750 श्रमिक इन सिटू काम कर रहे हैं। इसके अतिरिक्त,1448 भट्ठों में दो लाख से भी अधिक श्रमिक वहीं रह कर कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि परन्तु पानीपत, गुरुग्राम, फरीदाबाद और पंचकूला, जहां कोविड-19 के कुछ मामले प्रकाश में आए हैं, में थोड़ी सख्ती बरती जा रही है।

फसल खरीद के कार्य में पूरी सावधानी बरती जा रही है

राज्य में शुरू की गई कृषि गतिविधियों के बारे प्रधानमंत्री को अवगत कराते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश की मंडियों में गेहूं एवं सरसों की आवक और खरीद के कार्य में पूरी सावधानी बरती जा रही है। हर मंडी में किसानों व मजदूरों के लिए मास्क, सैनिटाइजर और थर्मल स्क्रीनिंग की समुचित व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि राज्य में किस किसान को किस दिन किस मंडी में किस समय अपनी फसल लानी है, ऐसी सूचना उन्हें दो दिन पहले एसएमएस के माध्यम से दी जा रही है। उन्होंने कहा कि मंडियों में काम करने वाले सभी कर्मचारियों, आढ़तियों,किसानों और श्रमिकों को कोविड के खिलाफ नि:शुल्क 10 लाख रुपये जीवन बीमा कवर भी दिया गया है। उन्होंने कहा कि कुल मिलाकर राज्य में अब तक स्थिति पुर्ण नियंत्रण में है। हम सतत सावधान हैं और भविष्य में किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पुरी तरह तैयार हैं।

Next Story