Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हरियाणा: 42 हजार कर्मचारियों की हड़ताल से चरमराई व्यवस्था, सरकार से की ये मांगें

हरियाणा में शहरी स्थानीय निकायों और ग्रामीण सफाई कर्मियों की हड़ताल से व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई है। 32 हजार निकाय कर्मचारी, 10 हजार ग्रामीण सफाई कर्मचारी और 1300 फायरमैन व ड्राइवर तीन दिवसीय हड़ताल पर रहेंगे।

हरियाणा: 42 हजार कर्मचारियों की हड़ताल से चरमराई व्यवस्था, सरकार से की ये मांगें

हरियाणा में शहरी स्थानीय निकायों और ग्रामीण सफाई कर्मियों की हड़ताल से व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई है। 32 हजार निकाय कर्मचारी, 10 हजार ग्रामीण सफाई कर्मचारी और 1300 फायरमैन व ड्राइवर तीन दिवसीय हड़ताल पर रहेंगे। मांगों को लेकर मंगलवार सुबह से इन कर्मचारियों ने हड़ताल शुरू की है। हड़ताल के कारण 10 नगर निगमों, 19 नगर परिषद व 57 नगर पालिकाओं में सफाई, सीवरेज, गृहकर वसूलने, जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र बनाने, बुढ़ापा पेंशन सहित पब्लिक डीलिंग के कार्य प्रभावित रहे।

नगर पालिका कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रधान नरेश कुमार शास्त्री व महासचिव मांगे राम तिगरा ने कहा कि शहरी स्थानीय निकाय विभाग के हड़ताल को विफल बनाने के प्रयासों के बावजूद मंगलवार को हड़ताल सफल रही। उन्होंने कहा कि सरकार बताए, चुनाव घोषणा पत्र में किए वादों को पूरा क्यों नहीं किया, 24 मई 2018 को हुए समझौते को अभी तक लागू नहीं किया गया। स्वच्छता अभियान को सफल बनाने वाले सफाई कर्मचारियों के साथ अन्याय किया जा रहा है।

नरेश कुमार शास्त्री ने कहा कि यदि सरकार ने 29 अगस्त तक मानी गई मांगों एवं वादों को पूरा नहीं किया व मांगों पर बातचीत का रास्ता नहीं अपनाया तो हड़ताल अनिश्चितकालीन हो जाएगी। शहरी स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन का कहना है कि हड़ताल पर गए कर्मचारियों की अधिकांश मांगों को पहले ही पूरा किया जा चुका है। हो सकता है कुछ मांगों को लागू करने की अधिसूचना जारी करने की प्रक्रिया चल रही हो।

इन इलाकों में पड़ा असर

निकाय कर्मियों की तीन दिवसीय हड़ताल के पहले दिन चरखी दादरी शहर और महेंद्रगढ़ बाजार में काफी असर देखने को मिला। चरखी दादरी शहर में महज 40 कर्मचारी ही ड्यूटी पर पहुंचे। करीब दस टन कचरा वार्डो में घरों के सामने और गलियों में ही पड़ा रहा। वहीँ महेंद्रगढ़ बाजार के प्रमुख चौक चौराहें पर कचरे के ढेर नजर आए

Next Story
Share it
Top