Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बीएसएनएल की तरफ से उपभोक्ताओं को नहीं दी जा रही कोई छूट, 24 अप्रैल तक जमा कराने होंगे बिल

बीएसएनएल उपभोक्ताओं के मोबाइल पर फोन आ रहे हैं। 24 अप्रैल तक बिल नहीं भरने पर कनेक्शन काटने की चेतावनी दी।

BSNL prepaid plan offer: 425 days validity for Rs 1,699
X
BSNL prepaid plan offer: 425 days validity for Rs 1,699

कोरोना वायरस से निपटने व लॉकडाउन से अपने में फंसे लोगों होने का हवाला देकर निजी स्कूल संचालकों, मकान, दुकान व फैक्ट्री मालिकों से तीन माह की फीस व किराया माफ करने की अपील कर सरकार लोगों की हमदर्दी बटोरने में लगी हुई है तो दूसरी तरफ उसी सरकार के विभाग लॉकडाउन में बिजली व टेलीफोन बिल का भुगतान नहीं करने वाले उपभोक्ताओं को टेलीफोन या मैसेज कर समय पर बिलों की अदायगी नहीं करने पर कनेक्शन काटने या फिर सरचार्ज वसूलने की धमकी से लोगों में खौफ पैदा कर रहे हैं।

संदीप कुमार ने बताया कि सोमवार सुबह करीब 11 बजे उनके लैंडलाइन फोन की घंटी बजी। फोन उठाने पर सामने से आवाज आई, मैं बीएसएनएल ऑफिस से बोल रहा हूं। आपके टेलीफोन का 1311 रुपए बिल 24 अप्रैल से पहले भर देना। अन्यथा न केवल आपको सरचार्ज देना होग, बल्कि अपना कनेक्शन भी काट दिया जाएगा। संदीप ने कहा कि लॉकडाउन के कारण हम पहले ही घर से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं, ऊपर से सरकारी विभाग अपनी नाकामी छुपाने के लिए धमकी देकर भय पैदा कर रहे हैं।

हमें एक साल से टेलीफोन बिल नहीं मिला है तथा लॉकडाउन लगने से पहले हर माह अस्पताल के पास टेलीफोन दफ्तर जाकर बिल का भुगतान करने के साथ बिल नहीं मिलने की शिकायत दर्ज करवाते रहे हैं। कई बार मेल आईडी भी कम्प्यूटर में नोट करवाई गई, बावजूद इसके आज तक मेल या मैनुअल टेलीफोन का बिल नहीं मिल पाया। खुद समय पर बिल मुहैया करवाने के बाद अब धमकी देना सही नहीं है, वह भी जब पूरा राष्ट्र एक आपदा से गुजर रहा हो।

बोलनी निवासी नरेश कुमार ने बताया कि उनके मोबाइल पर भी बीएसएनएल ऑफिस से फोन आया तथा 24 अप्रैल तक बिल नहीं भरने पर कनेक्शन काटने की चेतावनी दी। नरेश ने बताया कि लॉकडाउन के चलते उनका ऑफिस पिछले एक माह से बंद पड़ा हुआ है। फिर भी बीएसएनएल कर्मचारी बिल नहीं भरने पर कनेक्शन काटने की धमकी दे रहे हैं। उन्होंने भी विभाग पर पिछले एक साल से बिल नहीं भेजने के आरोप लगाए।

पहले मैसेज और फिर बिल भेजा

गृहिणी नीलम खोला ने बताया कि बिजली निगम की तरफ से उनके मोबाइल पर एक मैसेज आया। जिसमंे लिखा की लॉकडाउन के कारण हम आपके मीटर की बिजली खपत का रिकार्ड लेने में असमर्थ रहे। जिस कारण अंतरिम खपत के आधार पर आपको बिल भेजा जा रहा है, जिसे जून माह में समायोजित कर दिया जाएगा।

समय पर बिल का भुगतान के लिए आपसे सहयोग की जरूरत है। दूसरे मैसेज में एवरेज आधार पर 1740.06 रुपए का बिल भेजकर तय अवधि 20 मई से पहले भुगतान करे, ताकि सरचार्ज से बचा जा सके। ओमसिंह ने बताया कि उन्हें भी टेलीफोन पर मैसेज मिला तथा निर्धारित अवधि से पहले 709 रुपए बिजली का भुगतान नहीं करने पर सरचार्ज के साथ वसूलने की बात कही गई।

Next Story