Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

दिल्ली में कमेटी के साथ भूपेंद्र सिंह हुड्डा कर रहे बैठक, कांग्रेस से अलग होकर नई पार्टी बनाने पर करेंगे फैसला

हरियाणा चुनाव (Haryana Election 2019) से पहले कांग्रेस में दवाब की राजनीति शुरू हो गई है। पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा (Bhupendra Singh Hooda) कांग्रेस हाई कमान पर दवाब बनाने के लिए दिल्ली में बैठक शुरू कर दी है। कांग्रेस हाई कमान प्रदेश को लेकर कोई फैसला नहीं करता है तो पूर्व मुख्यमंत्री (Ex Chief Minister) नई पार्टी की घोषणा कर सकते हैं।

दिल्ली में कमेटी के साथ भूपेंद्र सिंह हुड्डा कर रहे बैठक, कांग्रेस से अलग होकर नई पार्टी बनाने पर करेंगे फैसलाBhupendra Singh Hooda is meeting with the committee in Delhi, will decide to separate from Congress

हरियाणा विधानसभा चुनावों (Haryana Election 2019) में पार्टी का नेतृत्व करने को लेकर कांग्रेस में खींचतान चल रही है। कांग्रेस हाई कमान के अभी तक कोई फैसला नहीं करने पर पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा (Bhupendra Singh Hooda) ने कमेटी की बैठक बुला ली है। कमेटी के करीब 100 सदस्यों के साथ बैठक करने के बाद नई पार्टी के गठन पर फैसला करेंगे। इसके जरिए कांग्रेस हाई कमान को भी संदेश दिया है कि जल्द फैसला करें नहीं तो रास्ते अलग होने में देर नहीं लगेगी।



प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री (Ex Chief Minister Hooda) भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने रोहतक (Rohtak News) में पिछले दिनों परिवर्तन रैली की थी। साथ ही 36 सदस्यीय कमेटी का भी गठन किया था। जिसके जरिए कांग्रेस हाई कमान पर प्रदेश में जल्द नेतृत्व में बदलाव का दवाब बनाया था। इसके बाद कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) और गुलाम नबी आजाद (Ghulam Nabi Azad) से मुलाकात की थी। इसके बावजूद कांग्रेस हाई कमान की तरफ से प्रदेश नेतृत्व में बदलाव को लेकर फैसला नहीं किया है। ऐसे में अब नई पार्टी के गठन और चुनावों को लेकर फैसला करने के संबंध में कमेटी की बैठक बुला ली है।

दिल्ली के पंत मार्ग स्थित आवास पर चल रही बैठक में 35 सदस्यीय कमेटी के अलावा कुल 100 के करीब लोग भाग लेने पहुंचे हैं। सूत्रों के मुताबिक पूर्व मुख्यमंत्री एक-एक कर इनके साथ बातचीत कर रहे हैं। कमेटी के सदस्यों से बैठक में उनकी राय ले रहे हैं। ऐसे में अब जल्द उनकी तरफ से मामले पर जल्द कोई फैसला किया जा सकता है। सूत्रों के मुताबिक भूपेंद्र सिंह हुड्डा बैठक के बाद भी कांग्रेस हाई कमान को थोड़ा समय देंगे। ताकि हाई कमान प्रदेश नेतृत्व में उनके मुताबिक बदलाव कर सके।




नई पार्टी बनाकर कर सकते हैं गठबंधन

कांग्रेस नेतृत्व में प्रदेश में उनके मुताबिक बदलाव नहीं करता है तो नई पार्टी का गठन तय है। सूत्रों के मुताबिक भूपेंद्र सिंह हुड्डा नई पार्टी का गठन करते हैं तो अन्य पार्टियों के साथ मिलकर चुनाव लड़ेंगे। भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने इनेलो या जजपा में से किसी के भी साथ चुनाव लड़ने की संभावनाओं को जिंदा रखा है। पिछले दिनों खाप पंचायतों से बातचीत में गठबंधन को लेकर सात दिन का वक्त मांगा था।ट

कांग्रेस को होगा बड़ा नुकसान

पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेसी यदि कांग्रेस से अलग होते हैं तो बड़ा नुकसान होगा। इस समय भूपेंद्र सिंह हुड्डा का जो जनाधार है उसके बराबर कद का कोई नेता कांग्रेस के बाद प्रदेश में नहीं है। इसके अलावा जिस तरह से भाजपा ने खुद को पिछले पांच सालों में मजबूत किया है उससे टक्कर सिर्फ भूपेंद्र सिंह हुड्डा ही ले सकते हैं। भूपेंद्र सिंह हुड्डा के नई पार्टी बनाते ही कांग्रेस प्रदेश में हांसिए पर आ जाएगी।

Next Story
Share it
Top