Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Haryana Assembly Election: विपक्ष के लिए रणनीति बनाने की नहीं कोई जरुरत, उनकी रणनीति ही ठीक नहीं

हरियाणा में भाजपा इस बार 75 प्लस सीटों के जीतने के संकल्प के साथ चुनावी मैदान में है। 90 में से 75 सीटों को जीतना आसान नहीं है पर पार्टी के पास तमाम ऐसे नेता हैं जिन्होंने अपनी कार्यकुशलता का पहले भी लोहा मनवाया है। ऐसे ही एक नेता हैं भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव डॉ. अनिल कुमार जैन। जिन्होंने छत्तीसगढ़ और हरियाणा में पार्टी को चुनाव प्रभारी रहते हुए लोकसभा चुनाव जिताए। सार्थक बहस में देखिए हरिभूमि समूह के 'प्रधान संपादक हिमांशु द्विवेदी' की अनिल जैन से खास बातचीत...

Special Conversation assembly Election on Sarthak bahas with BJP leader Anil Kumar Jain
X
Special Conversation assembly Election on Sarthak bahas with BJP leader Anil Kumar Jain

प्र. हरियाणा विधानसभा चुनाव में क्या चुनौती है?

उ. हम हर चुनाव को को गंभीरता से लेते हैं, पार्टी किसी भी तरह से कोई कोताही नहीं बरतती। भाजपा के लिए चुनाव चुनौती भी है और उत्सव भी।

प्र. 2014 में जो चुनाव लड़ा गया वो नरेंद्र मोदी के नाम पर था, संगठन कहीं नजर नहीं आया, इन पांच सालों में क्या संगठन मजबूत हुआ जिसके दम पर चुनाव लड़ा जा रहा?

उ. देखिए हरियाणा में हम लोगों ने 2012 से जब अकेले चुनाव लड़ने का फैसला किया तो किसी को भी भरोसा नहीं हो रहा था कि हम प्रदेश में पूर्ण बहुमत की सरकार बना पाएंगे, हमारे अध्यक्ष अमित भाई शाह को पूरा भरोसा था और वही भरोसा बना रहा। हम लोगों ने एकजुट होकर चुनाव लड़ा और 2014 में पार्टी ने प्रदेश में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई। अब जब संगठन की बात है तो हमने अमित शाह के साथ 20 राज्यों के 3-3 दिवसीय दौरे किए। इस दौरान हमने हर राज्यों की बारीक चीजों को ध्यान से समझा। जिस तरह पार्टी का गुजरात और महाराष्ट्र में संगठन है ठीक उसी तरह हम पिछले पांच सालों में हरियाणा में भी बनाने में सफल रहे। हमने प्रदेश में ग्रामीण स्तरों तक पार्टी के संगठन को मजबूत किया और यही कारण रहा कि हर चुनाव को पूरे आत्मविश्वास के साथ लड़ा और जीत हासिल की।

प्र. संगठन के स्तर पर आप आश्वस्त हैं, सरकार के स्तर पर क्या तैयारी है क्योंकि एंटी-इनकम्बेंसी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा जाती है, उसके लिए क्या तैयारी है?

उं. देखिए बहुत कम चुनाव ऐसे होते हैं जहां प्रो-इनकम्बेसी पर चुनाव लड़ा जाता है। जैसे राष्ट्रीय चुनाव हमने प्रो-इनकम्बेंसी पर लड़ा। और हमने अभूतपूर्व नतीजे हासिल किए। ऐसे ही हरियाणा में एन्टीइनकम्बेंसी का सवाल ही नहीं है। हमारे सीएम मनोहर लाल ने एक आम इंसान बनकर प्रदेश के लिए बेहतरीन काम किया। 1966 के बाद प्रदेश को एक बेहतरीन सरकार दी। मनोहर लाल जी ने कभी हड़काकर, लूट खसोट करके या दबंगई दिखाकर सरकार नहीं चलाई। बल्कि आम आदमी की तरह रहकर आम लोगों के लिए काम करके सरकार चलाई। मनोहर सरकार ने ट्रांसफर पॉलिसी इतनी बेहतरीन बनाई कि पिछले तीन साल से किसी तरह की कोई शिकायत नहीं आई। नो पर्ची-नो खर्ची के दम पर तमाम लोगों को नौकरी दिलवाई। देश का ऐसा पहला प्रदेश बनाया जहां आप कहीं से भी राशन ले सकते हैं।

प्रं. आप जिस प्रो-इनकम्बेंसी की बात कर रहे वो राजस्थान, मध्यप्रदेश के चुनाव में उल्टा पड़ गया था, कहीं हरियाणा में न पड़ जाए?

उ. देखिए हमने हरियाणा की 90 सीटों का व 22 जिलों का दौरा किया। हमने पार्टी के कार्यकर्ताओ से बात किया। अति आत्मविश्वास से बचने की बात कही। सर्वे पर हमारा फोकस नहीं है बल्कि अपने तय लक्ष्य को हासिल करने को लेकर हम प्रतिबद्ध हैं।

प्र. आपने पर्ची और खर्ची की बात की। ये कैसी पारदर्शिता है जिसमें हरियाणा में करीब दर्जनभर परीक्षाओं के पेपर आउट हो गए?

उ. ऐसा नहीं है, देखिए पहले जब पेपर आउट होते थे तो पकड़े नहीं जाते थे। चौटाला और हुड्डा की सरकारों में पेपर आउट करवाकर अपने लोगों को नौकरियां दी जाती थी और पकड़े नहीं जाते थे। लेकिन अब ऐसा नहीं है। अब लोगों को पकड़ा जा रहा। लोगों के सामने लाया जा रहा उन्हें सजा दी जा रही है।

प्र. आपने संगठन मजबूत कर दिया, सरकार ने बेहतर काम भी कर दिया, फिर दूसरी पार्टियों के नेताओं को कालीन बिछाकर अपनी पार्टी में शामिल करने की क्या जरूरत पड़ गई?

उ. हम किसी को कालीन बिछा कर नहीं ला रहे, न ही हम घमंडी लोग हैं। हरियाणा हमारे लिए नया राज्य है। अगर कोई हमारी विचारधारा पर भरोसा करके आ रहा हो तो उसे हमने शामिल किया है। इसमें किसी तरह की कोई बुराई नहीं है।

प्र. इनोलो और जेजेपी के लिए भाजपा ने क्या रणनीति तैयार की है?

उ. वो लोग खुद अपनी व्यवस्था ठीक करने में लगे हैं। इनोलो, जेजेपी, हुड्डा या फिर तंवर हो सब अपनी अपनी व्यवस्था में लगे हैं। जनता उनकी तैयारियों को देख रही है उनके लिए रणनीति बनाने के लिए जरूरी नहीं है।

पूरे सवाल जवाब देखने के लिए आप वीडियो देखिए..।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story