Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

हरियाणा की 20 सीटों पर भाजपा 3 अक्टूबर को घोषित करेगी प्रत्याशी, नेताओं की बगावत का डर

हरियाणा विधानसभा चुनावों को लेकर भाजपा पहली सूची आज 29 सितंबर को घोषित करेगी। जबकि दूसरी सूची 3 अक्टूबर को जारी की जाएगी। जहां भाजपा के बड़े नेता परिवार के सदस्यों के लिए टिकट मांग रहे हैं उन सीटों पर देरी से प्रत्याशियों की घोषणा की जाएगी।

हरियाणा की 20 सीटों पर भाजपा 3 अक्टूबर को घोषित करेगी प्रत्याशी,  नेताओं की बगावत का डरBJP will declare candidates on 20 seats in Haryana on October 3, fear of rebellion by leaders

हरियाणा विधानसभा चुनावों में भाजपा बड़े नेता, पत्नी और बच्चों के लिए टिकट मांग रहे हैं। जबकि भाजपा ने किसी भी नेता के परिजनों को टिकट न देने का फैसला किया है। ऐसे में भाजपा बगावत के डर से प्रत्याशियों की दो सूची जारी करेगी। भाजपा की पहली सूची करीब 70 सीटों के लिए आज 29 सितंबर को जारी हो जाएगी। जबकि 20 प्रत्याशियों की दूसरी सूची अंतिम समय पर जारी होगी। भाजपा की तरफ से दूसरी सूची 3 या 4 अक्टूबर को जारी की जाएगी।

हरियाणा में भाजपा के 6 सांसद, पत्नी और बच्चों के लिए टिकट मांग रहे हैं। जिसमें से गुरुग्राम सांसद राव इंद्रजीत बेटी को टिकट दिलाने के लिए अड़ गए हैं। टिकट का दबाव बनाने के लिए रेवाड़ी क्षेत्र में शक्ति प्रदर्शन भी कर चुके हैं। ऐसे में भाजपा को डर है कि राव इंद्रजीत की बेटी को टिकट नहीं दिया तो वो निर्दलीय चुनाव भी लड़ा सकते हैं। इसके अलावा सांसद कृष्णपाल गुर्जर भी बेटे को टिकट दिलाने के लिए अड़े हुए हैं।

ऐसे में भाजपा ने तय किया है कि जहां से नेता अपने परिजनों के लिए टिकट मांग रहे हैं। उन सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा पहली सूची में नहीं की जाएगी। उन सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा नॉमिनेशन के अंतिम दिन की जाएगी। इससे भाजपा के पास नेताओं को समझाने का भी वक्त होगा। यदि कोई बड़ा नेता पार्टी की लाइन से अलग जाकर निर्दलीय या किसी अन्य पार्टी से चुनाव लड़ाना आसान नहीं होगा।

राव इंद्रजीत से की गई बैठक

दक्षिण हरियाणा से बेटी को चुनाव लड़ाने पर अड़े राव इंद्रजीत से भाजपा चुनाव प्रभारी नरेंद्र सिंह तोमर ने मुलाकात की है। घंटों चली बैठक में नरेंद्र सिंह तोमर ने उन्हें बेटी के टिकट को लेकर न अड़ने के लिए समझाया। लेकिन राव इंद्रजीत ने अपना फैसला अभी तक नहीं बदला है। सूत्रों के मुताबिक बेटी को चुनाव लड़ाने के लिए राव इंद्रजीत केंद्रीय मंत्री पद भी छोड़ने के लिए तैयार हैं। अब इसके ऊपर फैसला भाजपा अध्यक्ष अमित शाह करेंगे कि उनकी बेटी को लड़ाया जाए या टिकट न दिया जाए।

Next Story
Top