Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

12 जिले में 93 हजार किसानों के पास क्रेडिट कार्ड

रोहतक जिले में कुल 96000 किसानों में से 93023 किसानों के पास क्रेडिट कार्ड की सुविधा उपलब्ध है। एलडीएम मुकेश कुमार जैन ने बताया भारत सरकार द्वारा चलाई गई मुहिम के दृष्टिगत इन किसानों में से जिन्होंने अभी तक बैंक से किसान क्रेडिट कार्ड नहीं बनवाया हैं।

हरियाणा में पराली जलाने को लेकर किसान का तीन लाख का चालान
X
हरियाणा में पराली जलाता किसान

हरिभूमि न्यूज. रोहतक। रोहतक जिले में कुल 96000 किसानों में से 93023 किसानों के पास क्रेडिट कार्ड की सुविधा उपलब्ध है। एलडीएम मुकेश कुमार जैन ने बताया भारत सरकार द्वारा चलाई गई मुहिम के दृष्टिगत इन किसानों में से जिन्होंने अभी तक बैंक से किसान क्रेडिट कार्ड नहीं बनवाया हैं। उनसे फोन करके या उनसे व्यक्तिगत संपर्क करके बैंकों द्वारा यह पूछा जा रहा है कि वह किसान क्रेडिट कार्ड की सुविधा प्राप्त करने के इच्छुक हैं या नहीं।

ये दस्तावेज जरूरी

अग्रणी बैंक प्रबंधक मुकेश जैन ने कहा कि जो व्यक्ति यह सुविधा लेने के इच्छुक हैं और उन्होंने किसी अन्य वित्तीय संस्था से कोई लोन नहीं लिया है तथा वे डिफॉल्टर नहीं है तो उन्हें एक आवेदन पत्र, 2 फोटो, आधार कार्ड की प्रति व जमीन व फसल संबंधी कागजात बैंक को उपलब्ध कराने हैं तथा बैंक द्वारा बिना समय गवाएं यह ऋण सुविधा स्वीकृत की जा रही है । इसके अतिरिक्त जिनकी किसान क्रेडिट कार्ड लिमिट कम है उन्हें पात्रता के द्वार आधार पर लिमिट बढ़ाने को भी प्रोत्साहित किया जा रहा है । उन्होंने बताया कि किसान क्रेडिट कार्ड की सुविधा किसानों को 7% वार्षिक साधारण ब्याज दर पर प्रदान की जाती है और यदि खाता नियमित रहे तो यह सुविधा 4% ब्याज दर रह जाती है। क्योंकि 3% का ब्याज सरकार द्वारा वहन किया जाता है ।

आज संपन्न होगा अभियान

एलडीएम ने कहा कि किसानों को क्रेडिट कार्ड देने का यह अभियान 8 से 23 फरवरी तक पूरे जिले में चलाया जा रहा है इच्छुक किसान अपनी निकटवर्ती शाखा में जाकर भी अपना आवेदन कर सकते हैं। इसके अलावा मछली पालकों व पशुपालकों के लिए भी पशु किसान क्रेडिट कार्ड की सुविधा प्रदान की जा रही है। जिससे कि जिनके पास अपनी जमीन नहीं है लेकिन पशु पालन करते हैं वह किसान भी सरकार द्वारा निर्धारित स्केल ऑफ फाइनेंस के आधार पर क्रेडिट कार्ड की सुविधा प्राप्त कर सकते हैं बशर्ते कि उन्होंने पशुपालन विभाग में अपना पंजीकरण कराया हुआ हो और वहां से आवेदन पत्र प्रायोजित हो।

Next Story