Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

65 साल का बुजुर्ग बना छात्र, हरियाणा बोर्ड से दे रहे हैं 12वीं की परीक्षा

कहते हैं न कि ज्ञान हासिल करने की कोई उम्र नहीं होती।इसको सही साबित कर रहे हैं 65 साल के एक बुजुर्ग। वो हरियाणा बोर्ड से 12वीं की परीक्षा देकर खुद पर गर्व महसूस कर रहे हैं।

Coronavirus Outbreak: हरियाणा बोर्ड ने लांच किया डिजीटल लर्निंग ऐप, फ्री में करें डाउनलोड
X
हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड

कैथल जिले के नौच गांव के एक बुजुर्ग को 65 साल की उम्र में कुछ कर दिखाने की इतनी तीव्र इच्छा हुई कि उन्होंने 12वीं कक्षा की परीक्षा देने की ठान ली। उनका लक्ष्य है कि वो स्नातक भी करें।

ज्ञान हासिल करने की कोई उम्र नहीं होती

कहते हैं न कि ज्ञान हासिल करने की कोई उम्र नहीं होती। इसको सही साबित कर रहे हैं 65 साल के एक बुजुर्ग। बुजुर्ग का नाम सत्यपाल है। उनकी तमन्ना थी कि वो भी स्नातक करें। लेकिन वक्त की मार ने उनकी इस इच्छा को अधूरा छोड़ने पर मजबूर कर दिया था। लेकिन जब पढ़ाई की ललक हो और दिल में हौसले का उठता तूफान हो तो भला कोई ऐसे इन्सान को कब तक रोक पाए।

10वीं की परीक्षा दे रहा है बुजुर्ग का पोता

उनका पोता इसी साल दसवीं की परीक्षा दे रहा है। जब पोते को स्कूल जाते हुए देखते थे तो उनका भी मन होता था कि काश वो भी पढ़ पाते। फिर एक दिन उन्होंने निश्चय किया कि वो अपनी पढ़ाई फिर से शुरू करेंगे। फिर क्या था, उन्होंने हरियाणा शिक्षा बोर्ड से 12वीं कक्षा के लिए आवेदन किया और उनका आवेदन स्वीकार कर लिया गया।

महसूस हो रहा है गर्व

बुजुर्ग आज 12वीं की परीक्षा देते हुए खुद पर गर्व महसूस कर रहे हैं। वो चाहते हैं कि 12वीं परीक्षा पास करने के बाद वो स्नातक की भी पढ़ाई करें। आज हरियाणा में उनको एक मिसाल के तौर पर देखा जा रहा है। उनकी इस लगन से लोगों को भी शिक्षा मिल रही है कि पढ़ाई करने के लिए और किसी भी तरह का ज्ञान हासिल करने के लिए उम्र की कोई बंदिश नहीं होती है। बस दिल में अपार इच्छाशक्ति हो तो कीचड़ में भी कमल खिलाया जा सकता है।

Next Story