Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हरियाली क्रांति टीम की हिमाचल में जोरदार पहल, धौलाधार महोत्सव में वितरित किए पौधे और पहाड़ी पर किया वृक्षरोपण

21 तारीख को अंतराष्ट्रीय वन्य दिवस के अवसर पर धौलाधार महोत्सव में उपस्थित हुए गणमान्यों नें पहाड़ पर ट्रैकिंग का लुत्फ़ उठाया और साथ ही साथ पौधारोपण का कार्य किया।

हरियाली क्रांति टीम की हिमाचल में जोरदार पहल, धौलाधार महोत्सव में वितरित किए पौधे और पहाड़ी पर किया वृक्षरोपण
X

हिमाचल प्रदेश में कला, साहित्य, खाद्य एवं साहसिक पर्यटन महोत्सव के साथ पर्यावरण संवर्धन हेतु जोरदार संदेश दिया गया। 20 और 21 तारीख को आयोजित धौलाधार महोत्सव में देश की नामचीन हस्तियों नें हिस्सा लिया। इसमें राष्ट्रीय,अंतरराष्ट्रीय लेखकों, चिंतकों और प्रकाशकों, संगीत और सिनेमा, मीडिया जगत से जुड़े लोगों के साथ-साथ पर्यावरण कर्मियों नें शिरकत किया और जीवन के विभिन्न आयामों पर गहन मंथन हुआ। इसमें सबसे अनोखी बात यह रही कि हरियाली क्रांति की टीम नें भी अपनी जोरदार उपस्थिति दर्ज कराई।

पौधा वितरण के साथ-साथ किया गया वृक्षारोपण

20 मार्च को धौलाधार महोत्सव के शुरुआत के समय पीपल बाबा के नेतृत्व वाली Give me trees trust के प्रशिक्षित पर्यावरण कर्मियों ने धौलाधार महोत्सव में आये लोगों को किचन गार्डनिंग का पैकेट, कम्पोस्ट खाद व इंडोर प्लांटिंग से जुड़े पौधे और बड़े पौधे जूट के बैग में रखकर गिफ्ट दिया। साथ ही साथ हरियाली बढ़ाने से जुड़े इन समानों को कैसे उपयोग में लाया जाय, इसके बारे में बाकायदा जानकारी दी। उनका कहना था महिला व बुजुर्ग जो घरों से बाहर नहीं निकलते वें पेड़ न लगाने का बहाना बनाएं , इसकी बजाय अपने फ्लैट की बालकनी और छत पर भी छोटे पौधे उगाकर ऑक्सीजन बढ़ाने का उपाय कर सकते हैं। घर के अंदर भी डेकोरेशन बढ़ाने वाले पौधे लगाए जाने की भी पहल की जानी चाहिए। इससे भी घर की सुंदरता के साथ घर के अंदर ऑक्सीजन का प्रवाह सुनिश्चित किया जा सकता है।

21 तारीख को अंतराष्ट्रीय वन्य दिवस के अवसर पर धौलाधार महोत्सव में उपस्थित हुए गणमान्यों नें पहाड़ पर ट्रैकिंग का लुत्फ़ उठाया और साथ ही साथ पौधारोपण का कार्य किया। क्षेत्रीय लोगों का कहना था कि धौलाधार के जंगलों में समय-समय पर आग लग जाने से भी विगत वर्षों में काफी नुकसान हुआ है। कुछ जंगल माफिया जंगल की जमीनों को अपनें नाम करानें के लिए पहले इनमें आग लगा देते हैं फिर जंगल समाप्त होनें पर जमीन अपने नाम करवाते हैं ऐसे गिरोह का पर्दाफास करके जंगलों को बचानें की दिशा में कार्य किये जानें की जरूरत है।


पौधारोपण कार्यक्रम में देश की मीडिया और पी आर जगत की नामचीन हस्तियां भी हुईं शामिल, क्षेत्रीय लोगों नें ली देखभाल की जिम्मेदारी

हरियाली क्रांति टीम के द्वारा आयोजित इस पौधारोपण कार्यक्रम में टोटल IFFCO - Head PR डिपार्टमेंट - हर्षवर्धन सिंह, PRO रक्षा मंत्रालय - कुमार आनंद, टी.बी की न्यूज़ एंकर पूजा शुक्ला, HT - प्रसाद संन्याल, आजतक - प्रथम द्विवेदी, जनसत्ता - प्रभात उपध्याय, पवन जिंदल, कोमल बाडोदकर, विशाल कुमार आर्यन, जसीम- स्वतंत्र पत्रकार, India News - अतुल गुप्ता समेत पालमपुर जिले ढेर सारे निवासी शामिल हुए। स्थानीय निवासियों नें इन लगे पौधों के देखभाल की जिम्मेदारी ली।

क्या है हरियाली क्रांति अभियान

देश में पर्यावरण संवर्धन के लिए मशहूर पर्यावरणकर्मी पीपल बाबा के नेतृत्व में चलाई जा रही एक अनूठी मुहीम है। इस मुहीम के तहत इनकी संस्था Give Me Trees Trust से जुड़े लोग हर के मौकों पर पौधा-वितरण का कार्य करते हैं साथ ही लोगों से पर्यावरण संवर्धन अभियान से जुडनें की अपील करते हैं।

ये लोगों से अपील करते हैं कि अपने जन्मदिवस या किसी भी शुभ दिवस को हरियाली दिवस के रूप में मनाएं और इस दिन पौधारोपण करके पर्यावरण सम्वर्धन में अपना योगदान दें और धरती को बचानें में अपना योगदान दें। इस अभियान का नारा "हर और हरियाली, हर घर खुशहाली" और लक्ष्य सम्पूर्ण हरियाली रखा गया है।


इस अभियान की डिजाइन देश के मशहूर कैम्पेन डिज़ाइनर बद्री नाथ ने की है। बद्रीनाथ के मुताबिक यह दुनिया का पहला नागरिक टू नागरिक अभियान है जिसमें हर एक नागरिक अपनी भागीदारी निभा सकता है क्योंकि हर नागरिक का साल में एक बार जन्मदिवस आता है और वह कम से कम एक हरियाली दिवस मनाकर पर्यावरण सम्वर्धन में अपना योगदान दे सकता है।

गौरतलब है कि हरियाली क्रांति की टीम लोगों के शुभ दिवसों पर पेड़ लगानें के लिए रजिस्ट्रेशन करती है और उन दिवसों पर जाकर पेड़ लगानें का कार्य करती है तथा लोगों से अनुरोध करती है कि वो हर शुभ कार्य को करने से पहले जैसे पूजा-पाठ व अन्य धार्मिक अनुष्ठान करने के साथ-साथ पेड़ लगानें का संस्कार अपने जीवन में शामिल करें। अगर देश का हर व्यक्ति अपने जन्मदिवस को हरियाली दिवस के रूप में मनानें का कार्य करता है और अपने जन्मदिवस पर केवल 1 पेड़ लगाकर उनकी देख भाल करता है तो देश में हर वर्ष 1 करोड़ से ज्यादा पेड़ अपने आप बढ़ जायेंगे। इस संदर्भ में महत्वपूर्ण बात यह है कि पिछले दिनों मुख्तार अब्बास नकवी के मुस्लिम महिला और पुरुष समर्थकों ने बुरका और टोपी पहनकर हरियाली क्रांति कैम्पेन के तहत उनके 63वें जन्मदिन के उपलक्ष्य में दिल्ली स्थित जौनापुर मन्दिर में 63 नीम और 63 पीपल के पेड़ लगाकर उनके देखभाल की जिम्मेदारी लेकर पर्यावरण संवर्धन के साथ-साथ धार्मिक सद्भाव का जोरदार संदेश दिया था।

Next Story