Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

YogaDay2021 कंगना रनौत ने शेयर किया पोस्ट, बताया कैसे योग ने रंगोली को एसिड अटैक के सदमे से बाहर निकाला

योगा डे 2021 के मौैके पर बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने सोशल मीडिया पर पोस्ट शेयर किया है। कंगना ने बताया कि एसिड अटैक के बाद उनकी बहन रंगोली शौक में चली गयी थी। जब कोई दवा कोई थैरेपी काम नहीं कर रही थी तब योग ने ही उनकी बहन को इस सदमे से बाहर निकाला।

Yoga Day 2021 Kangana Ranaut shared post revealed how yoga brought rangoli out of acid attack shock
X

YogaDay2021 कंगना रनौत ने शेयर किया पोस्ट, बताया कैसे योग ने रंगोली को एसिड अटैक के सदमे से बाहर निकाला

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत (Kangana Ranaut) सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं। वह अक्सर सोशल मीडिया पर अपने पर्सनल एक्पीरियंस शेयर करती है। योगा डे (Yoga Day 2021) के मौके पर एक्ट्रेस ने योग के महत्व पर अपने अनुभव शेयर किये है। हाल ही में कंगना ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट से एक पोस्ट शेयर किया है। पोस्ट में कंगना ने अपनी बड़ी बहन रंगोली के बारें में बताया हैं। कंगना ने अपने पोस्ट में बताया है कि कैसे उनकी बहन रंगोली (Rangoli)ने एसिड अटैक के बाद योग के सहारे अपने आप को इस हादसे के सदमे से बाहर निकाल कर लायी।

कंगना ने अपनी पोस्ट में लिखा कि एसिड अटैक के कारण रंगोली का चेहरा थर्ड डिग्री तक जल गया था। उनके कान पिघल गए थे और छाती पर भी काफी नुकसान पहुंचा था। रंगोली का आधा चेहरा भी जल गया था और उनकी एक आंख की रोशनी चली गई थी। इसके बाद केवल 2-3 सालों के भीतर ही रंगोली की 53 सर्जरी की गईं। कंगना ने बताया है एक रोड साइड रोमियो के इस हमले में रंगोली को शारीरिक ही नहीं बल्कि काफी मानसिक नुकसान भी हुआ था। कंगना ने लिखा, "मेरी सबसे बड़ी चिंता उसका मानसिक स्वास्थ्य था क्योंकि उसने बोलना बंद कर दिया था, हां चाहे कुछ भी हो, वह एक शब्द भी नहीं बोल रही थी, बस हर चीज़ को खाली देख रही थी। उसकी सगाई एक एयरफोर्स ऑफिसर से हुई थी और जब उसने एसिड हमले के बाद उसका चेहरा देखा तो वह चला गया और फिर कभी नहीं लौटा, तब भी उसने एक आंसू नहीं गिराया और न ही उसने एक भी शब्द कहा।"

इसके बाद कंगना ने लिखा कि डॉक्टर ने उन्हें बताया कि वह शौक की स्टेट में, उन्होंने उसे थैरेपी दी मैडिकेशन चलाई, मनोचिकित्सक हेल्प भी ली, लेकिन किसी का भी रंगोली पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा। आगे कंगना लिखती है, "उस समय मै मुश्किल से 19 साल की थी, मै अपने टीचर सूर्य नारायण के साथ योगा करती थी, मुझे नहीं पता था कि योग बर्न और मनोवैज्ञानिक आघात के रोगियों को मदद कर सकता है।" कंगना चाहती थी कि रंगोली उनके साथ बात करें, तो एक्ट्रेस अपनी बहन को अपने साथ योगा क्लासेस ले जाने लगी। इसके बाद कंगना ने लिखा, "इसके बाद रंगोली ने योग करना शुरू किया और उनके भीतर गजब का परिवर्तन देखने को मिला। इसके बाद न केवल रंगोली ने बात करना शुरू कर दिया बल्कि उनका दर्द भी कम हुआ और एक आंख की रोशनी वापस आ गई। योग हर कष्ट का एक ही जवाब है। क्या आपने अभी तक एक मौका दिया?"

Next Story