Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

2018 में पंकज, नवाजुद्दीन समेत इन कलाकारों ने अभिनय से छोड़ी अलग छाप, एक तो ''जीनियस'' ही बन गया

2018 में इस साल बॉलीवुड को कई ऐसे मंझे हुए कलाकार मिले जिन्हें किसी भी रंग में पिरोया जा सकता है। उस लिस्ट में मनोज वाजपेयी, पंकज त्रिपाठी, नवाजुद्दीन सिद्दीकी आदि शामिल हैं।

2018 में पंकज, नवाजुद्दीन समेत इन कलाकारों ने अभिनय से छोड़ी अलग छाप, एक तो

बॉलीवुड में 2018 में कुछ ऐसे कलाकार की पहचान हुई है जिन्होंने अपनी उम्दा अदाकारी से दर्शकों पर अलग प्रभाव छोड़ा है। आज हम उन्ही कलाकारों की बात करेंगे जिन्होंने बॉलीवुड में काफी समय में सफलता का स्वाद चखा।

कुछ एक्टर्स ऐसे होते हैं कि जहां खड़े हो जाएं, अपना असर छोड़ेंगे ही। इस साल मनोज वाजपेयी ने ‘अय्यारी’, ‘बागी-2’, ‘मिसिंग’, ‘गली गुलैयां’, ‘सत्यमेव जयते’ और ‘लव सोनिया’ में काफी प्रभावित किया।

सौरभ शुक्ला ने ‘रेड’, ‘दास देव’ और ‘मोहल्ला अस्सी’ में अपना असर छोड़ा। पंकज त्रिपाठी ‘कालाकांडी’, ‘फेमस’, ‘स्त्री’, ‘अंग्रेजी में कहते हैं’ और ‘भैयाजी सुपरहिट’ में खूब जंचे। इरफान खान भी ‘ब्लेकमैल’ और ‘कारवां’ में खूब जमे।

बल्कि यह कहना गलत न होगा कि ये दोनों फिल्में सिर्फ इरफान की वजह से ही देखी गईं। जिमी शेरगिल भी इसी कतार का हिस्सा हैं। ‘मुक्काबाज’, ‘वीरे दी वेडिंग’, ‘फेमस’, ‘साहब बीवी और गैंगस्टर-3’, ‘हैप्पी फिर भाग जाएगी’ में उन्होंने अपनी मौजूदगी का अहसास कराया।

नवाजुद्दीन सिद्दीकी ‘जीनियस’ में छाए, वहीं ‘मंटो’ में उन्होंने जैसे मंटो के किरदार को ही अपने भीतर उतार लिया। ‘पटाखा’ में सुनील ग्रोवर ने खूब रंग जमाए। सुनील उन अभागे कलाकारों में शामिल हैं, जिनके भीतर टैलेंट तो खूब है लेकिन फिल्मकार इस्तेमाल नहीं कर पाए हैं।

Next Story
Top