Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

2018 में सुशांत-वरूण से लेकर इन अभिनेताओं की दमदार अदाकारी का चला सिक्का, एक तो बन गया खलनायक

साल 2018 में कई अभिनेताओं की पर्सनेलिटी को ध्यान में रखते हुए उनके लिए किरदार बनाए गए। इसी कारण वरूण धवन ने टपोरी के अलावा कई इमोशनल सीन्स भी किए हैं। साथ ही संजू में रणबीर कपूर के काम को सराहा गया।

2018 में सुशांत-वरूण से लेकर इन अभिनेताओं की दमदार अदाकारी का चला सिक्का, एक तो बन गया खलनायक

रणबीर कपूर ने जिस तरह से ‘संजू’ में संजय दत्त के किरदार जिया, वह सचमुच कमाल था। रणवीर सिंह को ‘पद्मावत’ में खिलजी के किरदार में काफी पसंद किया गया। निर्दयी बादशाह के किरदार को उन्होंने बखूबी निभाया। फिर ‘सिंबा’ में भी वह अपने किरदार के मुताबिक मस्तियां बिखेरते नजर आएं।

वरुण धवन बार-बार कहते हैं कि उनसे टपोरी किरदार करवा लो या फिर संजीदा, वह अपनी तरफ से कोई कमी नहीं छोड़ेंगे। इस साल अपनी दोनों फिल्मों-‘अक्टूबर’ और ‘सुई धागा’ में उन्होंने अपने किरदार के अनुरूप उम्दा अभिनय किया और दर्शकों का दिल जीता।

शाहिद कपूर को ‘डायरेक्टर्स-एक्टर’ माना जाता है। ‘पद्मावत’ में रणवीर-दीपिका की जोड़ी के आभामंडल में वह दबे नहीं। उन्होंने अपने सधे हुए अभिनय से प्रभावित किया। ‘बत्ती गुल मीटर चालू’ में वह लाउड दिखे तो कसूर उनके किरदार और निर्देशक का ज्यादा लगा, जो उन्हें कायदे से साध न सके।

अभिषेक बच्चन सिर्फ ‘मनमर्जियां’ में आए और प्रभावी रहे। उन पर सीरियस, मैच्योर किस्म के किरदार ज्यादा सूट करते हैं। ‘बागी 2’ में खासी कामयाबी पाने वाले टाइगर श्रॉफ के चाहने वाले उन्हें भले ही बार-बार एक से दिखने वाले किरदारों में पसंद कर रहो हों लेकिन लगातार एक ही तरह की फिल्में और किरदार करके टाइगर खुद का नुकसान ही कर रहे हैं।

हर फिल्म में अनाथ, अकेला, कम बोलने और ज्यादा हाथ-पांव चलाते हुए जिमनास्ट-नुमा डांस करने वाले एक्शन हीरो का यह ठप्पा उन्हें महंगा पड़ सकता है। ‘नानू की जानू’ में अभय देओल उम्दा रहे। ‘केदारनाथ’ में सुशांत सिंह राजपूत ने कमजोर किरदार मिलने के बावजूद अपने अभिनय से किरदार में जान फूंक दी।

‘मित्रों’ में जैकी भगनानी को सुस्त, निठल्ला दिखना था और वो दिखे भी लेकिन उन्हें सोलो हीरो बन कर आने की जिद छोड़ कर ‘गोलमाल’ टाइप मल्टीस्टारर फिल्में करनी चाहिए।

Next Story
Top