Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

वडाली ब्रदर्स ने ''रंगरेज'' के बाद बॉलीवुड को दिया ''तेरा हुआ है करम'', सुन कांप उठेगी रूह

वडाली ब्रदर्स पंजाब के मशहूर सूफी गायक हैं। पद्मश्री पूर्णचंद वडाली और उनके छोटे भाई प्यारे लाल वडाली ने वडाली ब्रदर्स के नाम से सूफी गायकी को खूब बढ़ावा दिया है।

वडाली ब्रदर्स ने

वडाली ब्रदर्स पंजाब के मशहूर सूफी गायक हैं। पद्मश्री पूर्णचंद वडाली और उनके छोटे भाई प्यारे लाल वडाली ने वडाली ब्रदर्स के नाम से सूफी गायकी को खूब बढ़ावा दिया है। बीच-बीच में वडाली ब्रदर्स ने फिल्मों के लिए भी गाया है।

उन्होंने ‘तनु वेड्स मनु’ का गीत ‘रंगरेज मेरे…’ और ‘मौसम’ फिल्म का गीत ‘इक तू ही…’ गाया था। लेकिन वडाली ब्रदर्स में से छोटे भाई प्यारेलाल वडाली अब हमारे बीच नहीं रहे, इसी साल 9 मार्च को उनका निधन हो गया।

वडाली ब्रदर्स की जोड़ी को साथ सुनने का श्रोताओं का सपना अब कभी पूरा नहीं होगा। लेकिन इन दिनों लखविंदर वडाली अपने पिता पूर्णचंद वडाली के साथ जोड़ी बनाकर पंजाबी सूफी गायकी को आगे बढ़ा रहे हैं, वे वडाली एंड सन के नाम से गाने गाते हैं।

हाल ही में पूर्णचंद वडाली और लखविंदर वडाली ने मुंबई आकर सिनेमिर्ची प्रोडक्शंस की हिंदी फिल्म ‘लस्ट वाला लव’ के लिए एक सूफी गाना रिकॉर्ड किया। यश चोपड़ा के मशहूर स्टूडियो यशराज स्टूडियो में रिकॉर्ड हुए इस सॉन्ग को संगीत से सजाया है सूफियान भट्ट ने जबकि इसके बोल लिखे हैं, रतन पसरीचा ने।

काफी समय बाद फिल्मों में गा रहे पूर्णचंद वडाली फिल्म ‘लस्ट वाला लव’ के सूफी गीत ‘तेरा हुआ है करम…’ के बारे में कहते हैं, ‘यह सूफी गीत श्रोताओं के दिलों और उनकी रूह को छू लेगा।

इसके बोल बहुत अच्छे हैं, इसे सूफियान भट्ट ने बड़ी खूबसूरती से कंपोज किया है। मुझे ऐसा सूफी गीत गा कर बड़ी खुशी हुई। फिल्म ‘तनु वेड्स मनु’ के ‘रंगरेज’ गाने के काफी समय बाद मैं फिल्मों में फिर गा रहा हूं।’

पूर्णचंद वडाली अब बेटे लखविंदर वडाली के साथ मिलकर गाते हैं। बेटे की गायकी के बारे में वह कहते हैं, ‘मेरा बेटा लखविंदर वडाली भी अच्छा गाता है। अच्छे सुर लगाता है।

उसने शास्त्रीय संगीत में मुझसे ही प्रशिक्षण और मार्गदर्शन हासिल किया है। उसके कई पंजाबी अलबम बहुत पसंद किए गए हैं। मुझे खुशी है कि उसने परिवार की गायकी को, विरासत को आगे बढ़ाया है।’

लखविंदर वडाली भी पिता पूर्णचंद वडाली के साथ गाकर बहुत खुश हैं, इसे अपना सौभाग्य मानते हैं। वह कहते हैं, ‘पिता जी की उम्र के गायकों ने अब गाना छोड़ दिया है।

लेकिन वह आज भी उत्साह के साथ लाइव शोज कर रहे हैं, जो अपने आप में एक मिसाल है। डायरेक्टर रतन पसरीचा के लिखे गीत ने उन्हें इतना प्रभावित किया कि वह खुद को इस गीत को गाने से रोक नहीं पाए।’

गीत रिकॉर्डिंग के वक्त इस फिल्म के निर्माता चंद्रकांत शर्मा ने बताया कि यह फिल्म दो भाइयों की अनोखी कहानी है। वह कहते हैं, ‘जिस गाने की रिकॉर्डिंग हो रही है, उसके जरिए हम यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि प्यार ही सब कुछ है।

जब तक आपकी जिंदगी में प्यार नहीं होगा, तब तक आपकी जिंदगी रेगिस्तान की तरह है। प्यार के जिंदगी में आने से शांति और असल खुशी मिलती है। हमें पूरा भरोसा है कि वडाली एंड सन का गाया गीत ‘तेरा हुआ है करम…’ बहुत हिट होगा।’

पानीपत, हरियाणा के रहने वाले डायरेक्टर रतन पसरीचा खाप पर एक पंजाबी फिल्म बना चुके हैं। बचपन से थिएटर करते आ रहे रतन ने रामानंद सागर के प्रोडक्शन हाउस से जुड़कर फिल्म मेकिंग की बारीकियां सीखी हैं।

फिल्म ‘लस्ट वाला लव’ बतौर डायरेक्टर उनकी पहली फिल्म है। रतन पसरीचा अपनी पहली फिल्म के पहले गाने की रिकॉर्डिंग के बारे में कहते हैं, ‘पहले इस फिल्म का टाइटल ‘रास्ते’ सोचा था जो नहीं मिला।

अब ‘लस्ट वाला लव’ भी एक टेंटेटिव टाइटल है हालांकि यह फिल्म की कहानी के हिसाब से है। अभी हम फिल्म का पहला गाना वडाली एंड सन के साथ रिकॉर्ड कर रहे हैं। यह एक रूहानी और सूफियाना गीत है।

जिसका फिल्मांकन भी हम बेहद सूफी अंदाज में करने वाले हैं। हमने सोचा है कि इस गीत की शुरुआत में हम निजामुद्दीन औलिया की दरगाह दिखाएंगे। फिल्म के और गाने भी आगे रिकॉर्ड होंगे।’

गीत ‘तेरा हुआ है करम…’ के संगीतकार सूफियान भट्ट, वडाली एंड सन का शुक्रिया अदा करते हैं कि वे दोनों इस गीत को गाने के लिए तैयार हो गए। वह कहते हैं, ‘पद्मश्री पूर्णचंद वडाली को गवाना मेरे लिए बड़े गर्व की बात है। उन्होंने इस सूफी गीत में अपनी आवाज का जादू भर दिया है। मुझे यकीन है कि यह गीत इस फिल्म का हाईलाइटर साबित होगा।’

Next Story
Top