logo
Breaking

टीवी के ये पांच सितारे कैसे मनाते हैं होली, जानिए उन्हीं की जुबानी

दिव्यांका त्रिपाठी दीपिका सिंह रश्मि देसाई करन वाही और गुरमीत चौधरी ने बतया कैसे मानते हैं वो होली।

टीवी के ये पांच सितारे कैसे मनाते हैं होली, जानिए उन्हीं की जुबानी

होली हम सभी को अपनों संग हंसने-मुस्कुराने, मस्ती-मजाक करने का मौका देता है। जीवन में खुशियों के रंग भरते हैं। इस तरह होली यादगार बन जाती है। हमारे टीवी सितारे होली से जुड़ी ऐसी ही प्यारी-प्यारी रंग-बिरंगी यादें शेयर कर रहे हैं हरिभूमि के साथ...

दीपिका सिंह

मुंबई आने के बाद मैंने यहां की कई होली देखी हैं, लेकिन मेरे मन में आज भी दिल्ली में अपने परिवार के साथ खेली होली की यादें बसी हैं। वहां होली की तैयारियां दो-तीन दिन पहले से ही शुरू हो जाती थीं। एक तरफ दादी गुझिया, मालपुए जैसे कई मीठे पकवान बनाती थीं, तो दूसरी तरफ होली खेलने के लिए चाचा और घर के बाकी पुरुष सदस्य मिलकर रंग बनाते थे।

हम बच्चे बीच में खटिया बिछाकर दोनों जगह की निगरानी करते थे। अक्सर होली के समय हमारे स्कूल के इम्तिहान चलते थे, इसलिए पढ़ाई करनी होती थी, उस वजह से टेंशन भी होती थी। फिर भी हम बच्चे होली एंज्वॉय करते थे। आज ऐसी होली खेलने को मिले तो मजा आ जाए। अपने फैंस को कहना चाहूंगी कि होली फैमिली के साथ एंज्वॉय जरूर करें। सबको मेरी तरफ से भी हैप्पी होली।

रश्मि देसाई

होली का त्योहार रंगों के साथ खुशियां और होंठों पर मुस्कान लेकर आता है। जब आप किसी को रंग लगाते हैं, तब उसका रंगा हुआ चेहरा देखकर हंसते हैं। फिर जब हमको कोई रंग लगाता है, तो हम अपना रंगा हुआ चेहरा देखकर हंसते हैं। इतना ही नहीं किसी और को एक-दूसरे को रंग लगाते हुए देखते हैं, तब भी हंस पड़ते हैं। कुछ ऐसी ही होली से जुड़ी हंसने-हंसाने की यादें मेरे दिल में भी बसी हैं।

बात मेरे बचपन की है, जब मैं अपने परिवार के साथ मुंबई की एक बिल्डिंग की तीसरी मंजिल पर रहती थी। बिल्डिंग के नीचे से काफी लोग आते-जाते थे। मैं पिचकारी में पानी वाला रंग भरकर नीचे जा रहे अंकल या आंटी पर फेंकती थी। जब वो ऊपर देखते थे, तब मैं छिप जाती थी। कुछ देर बाद छुप के झांकती थी। ऐसा करने में बड़ा मजा आता था। लेकिन आज ऐसी होली खेलने को नहीं मिलती है। सबको कहना चाहूंगी होली पर मस्ती जरूर करें। हैप्पी होली।

दिव्यांका त्रिपाठी

होली का त्यौहार मुझे बहुत पसंद है, लेकिन सेलिब्रिटी बनने के बाद ऐसी कोई होली नहीं है, जो मेरे लिए यादगार हो। कहीं ना कहीं लोग मुझे रंग लगाने से पहले सोचते हैं कि मैं एक एक्ट्रेस हूं। इसलिए मेरी यादगार होली एक्ट्रेस बनने से पहले की, परिवार के साथ भोपाल में खेली गई हैं। तब हम लोग पूरे मोहल्ले में होली खेलते थे, हर घर में जाकर लोगों को रंग लगाते थे। उसके बाद सब एक खुले मैदान में जमा होते थे, लंच करते थे।

फिर थोड़े आराम के बाद गाड़ियों में बैठकर कहीं पिकनिक के लिए निकल जाते थे। वहां जाकर भी होली खेलते थे। इस तरह सुबह 7 बजे से शुरू हुई होली, रात 8-9 बजे तक चलती थी। मेरा मानना है कि परिवार, नाते-रिश्तेदारों के साथ मेल-मिलाप, मस्ती करने का होली से बढ़िया मौका कोई नहीं है। मेरे सभी फैंस को होली की ढेर सारी शुभकामनाएं।

करन वाही

मेरे दिल में होली की जितनी भी यादें हैं, वो यही है कि चेहरे पर शगुन के तौर पर हल्का-सा रंग और दोस्तों के साथ अपने पसंदीदा पकवान का मजा। जी हां, होली के दिन हम सारे दोस्त एक-दूसरे के चेहरे पर सिर्फ गुलाल का टीका लगाते हैं। अगर कोई उससे ज्यादा रंग लगवाना चाहता है, तो बेशक हम लगाते हैं। लेकिन किसी को फोर्स नहीं करते हैं, ऐसा करने से होली का मजा किरकिरा हो जाता है।

मेरे लिए होली दोस्तों से मिलने और एक साथ मिलकर लंच करने का मौका बन गया है। लेकिन इस बार मैं होली पर काम कर रहा हूं, ना चाहते हुए भी मुझे मुंबई से दूर जाना पड़ रहा है, इसलिए दोस्तों के साथ होली नहीं खेल पाऊंगा। फैंस को मेरी तरफ से होली की ढेर सारी विशेज। होली पर मस्ती करें, साथ ही सेफ तरीके से होली खेलें।

गुरमीत चौधरी

मेरी हर होली यादगार रही है, इसलिए उसमें से किसी एक का सेलेक्शन करना थोड़ा मुश्किल है। (सोचते हुए) वैसे तीन-चार साल पहले मुंबई में वाइफ देबिना और अपने दोस्तों के साथ खेली गई होली जरूर सबसे यादगार थी। दरअसल, हम सब एक होली पार्टी में गए थे, दिल खोलकर होली खेलना चाहते थे, लेकिन सेलिब्रिटी होने के कारण आम लोगों की तरह होली नहीं खेल पा रहे थे।

हमने एक-दूसरे के चेहरे पर खूब सारा रंग लगाया और जब हमें लगा कि कोई पहचान नहीं पाएगा, तो आम लोगों के साथ होली खेलने के लिए पार्टी से सड़क पर निकल पड़े। उस दिन हमें खूब मजा आया, हमने आम लोगों को खूब रंग लगाया, उन्होंने भी हमें रंग दिया था, कभी हम एक रास्ते से दूसरे रास्ते पर भागते थे, तो कभी रास्ते पर बैठ जाते थे। (हंसते हुए) मुझे वह होली भुलाए नहीं भूलती है। आखिरी में सबको कहूंगा कि होली पर खूब धमाल करें, लेकिन नेचुरल कलर्स का ही इस्तेमाल करें।

Share it
Top