logo
Breaking

टीवी सिरियल्स का हिट होना ट्रेंड बन जाता है : शक्ति आनंद

शक्ति आनंद ने टीवी सीरियल ‘क्योंकि सास भी कभी बहू थी’ से शुरुआत की थी जिसके बाद उन्होंने कई सिरियल्स किए। अब वह धारावाहिक ‘विष या अमृत : सितारा’ में लीड रोल में नजर आएंगे। हाल ही में शक्ति से सीरियल से जुड़ी लंबी बातचीत हुई।

टीवी सिरियल्स का हिट होना ट्रेंड बन जाता है : शक्ति आनंद

लगभग अठारह साल पहले टीवी सीरियल ‘क्योंकि सास भी कभी बहू थी’ में हेमंत विरानी का किरदार निभाकर शक्ति आनंद को घर-घर पहचान मिली थी। उसके बाद वह ‘सारा आकाश’, ‘क्राइम पेट्रोल’, ‘भास्कर भारती’, ‘भारत का वीर पुत्र-महाराणा प्रताप’, ‘सावधान इंडिया’, ‘बालिका वधु’, ‘आहट’, ‘गंगा’ और ‘मायावी मलिंग’ जैसे कई सीरियल्स में नजर आए। रियालिटी शो ‘नच बलिए’ में भी शक्ति ने हिस्सा लिया। इन दिनों वह कलर्स चैनल के नए सीरियल ‘विष या अमृत : सितारा’ में एक अहम किरदार निभा रहे हैं। हाल ही में शक्ति से सीरियल से जुड़ी लंबी बातचीत हुई। पेश है, बातचीत के चुनिंदा अंश-

सीरियल ‘विष या अमृत : सितारा’ का कॉन्सेप्ट क्या है? इसमें आपका किरदार क्या है?

सीरियल ‘विष या अमृत : सितारा’ में मैं एक राजा का किरदार निभा रहा हूं। जिसका नाम है राजा रतन प्रताप सिंह। रतन प्रताप सिंह अपने परिवार और राज्य को विष कन्याओं से बचा रहा है यानी नकारात्मक शक्तियों से अपने राज्य और परिवार को बचाने की कोशिश कर रहा है। इस काम में उसका साथ उसके राजगुरु दे रहे हैं।

उन्होंने ही इन शक्तियों को नियंत्रण में किया हुआ है। अब यह विष कन्याएं क्यों ऐसा कर रही हैं? वे क्यों राजा के परिवार को नुकसान पहुंचाना चाहती हैं? इन नकारात्मक शक्तियों से सकारात्मक शक्तियों का टकराव क्यों और किस कारण से हो रहा है? इसकी लेयर जैसे-जैसे दर्शक सीरियल देखेंगे तो खुलती जाएंगी।

रतन प्रताप सिंह के किरदार के लिए आपको क्या कोई खास तैयारी करनी पड़ी?

यह फैंटेसी किरदार है, इसलिए एक्टर जितना इमेजिन कर सके उतना अच्छा है। इससे पहले मैं सीरियल ‘भारत का वीर पुत्र-महाराणा प्रताप’ कर रहा था, जो ऐतिहासिक सीरियल था इसलिए वहां तो रिसर्च करने का मौका मिल गया था। लेकिन सीरियल ‘विष या अमृत : सितारा’ का मेरा किरदार पूरी तरह से फैंटेसी बेस्ड है। इसमें राजा के कैरेक्टर को मैं अपनी इमेजिनेशन के हिसाब से निभा रहा हूं।

क्या आप विष कन्याओं की कहानियों पर या सुपरनेचुरल पावर्स जैसी बातों पर यकीन रखते हैं?

बिल्कुल भी नहीं। मैं इस तरह की सुपरनेचुरल बातों पर और इस तरह के अंधविश्वास पर बिल्कुल भरोसा नहीं करता। हां, मेरी भगवान में आस्था है। मैं खुद को खुशनसीब मानता हूं कि मैं ऐसी बातों पर विश्वास नहीं रखता। मैं सुनता हूं कि लोग कहते हैं कि उन्हें भूत नजर आते हैं या पूर्वाभास होने लगता है।

मुझे ऐसा कुछ नहीं होता और अच्छा है कि नहीं होता। मेरा इस बारे में सिंपल-सा फंडा है कि अगर आप अपने दिन की शुरुआत सकारात्मक सोच के साथ और खुश होकर करते हैं तो आपको कोई नकारात्मक शक्ति परेशान नहीं करेगी।

सीरियल ‘भारत का वीर पुत्र-महाराणा प्रताप’ में राजा बने थे। इस सीरियल में भी राजा बने हैं। क्या एक जैसा किरदार करते हुए टाइपकास्ट होने का ख्याल नहीं आता है?

देखिए, लंबे एक्टिंग करियर में एक कलाकार को एक जैसे किरदार ऑफर होते ही हैं। लेकिन उन एक जैसे दिखने वाले किरदारों को कलाकार कितना अलग तरह से पेश करता है, यह बात ज्यादा मायने रखती है। यही एक कलाकार की चुनौती भी है। उदाहरण के लिए अगर एक कलाकार के पास बार-बार बिजनेसमैन का रोल आए तब कलाकार को चाहिए कि वह किरदार के बोलने का ढंग, दूसरे किरदार से अलग रखे, हाव-भाव में अंतर लाए, चलने और उठने-बैठने के तरीके में बदलाव करे यानी बॉडी लैंग्वेज पर काम करे। इस तरह एक ही तरह के किरदार में अच्छा कलाकार वैरायटी ला सकता है।

इस समय टीवी पर चुड़ैल, नागिन, डायन, सुपरनेचुरल पावर्स वाले सीरियल की भरमार है। उस लिस्ट में अब आपका यह शो ‘विष या अमृत : सितारा’ भी शामिल हो गया है। आपको इस जॉनर के इतना हिट होने की वजह क्या लग रही है?

यह बस ट्रेंड है। दर्शक ही ट्रेंड बनाते हैं और उसे बदल भी देते हैं। टीवी पर प्रोडक्शन हाउस और चैनल कई तरह के सीरियल पेश करते हैं। लेकिन उनमें से कुछ ही हिट होते हैं। जो हिट हो जाते हैं वही ट्रेंड बन जाता है। फिर सभी उसी तरह के सीरियल बनाने लगते हैं, उसी तरह का कंटेंट सभी टीवी चैनल्स पर नजर आने लगता है।

अब आप खुद देखिए 2000 का दौर था तो उस समय ‘क्योंकि सास भी कभी बहू थी’ और ‘कहानी घर घर की’ आया। वे सीरियल्स बहुत बड़े हिट थे, इसके बाद उसी तरह का फैमिली ड्रामा टीवी पर दिखना शुरू हुआ। उस दौरान बाकी जॉनर के सीरियल भी बने होंगे लेकिन लोगों को हिट सीरियल ही याद हैं। उसके बाद रियालिटी शोज का दौर चला, फिर कॉमेडी का दौर चला।

इन दिनों फैंटेसी और सुपरनेचुरल का बोल-बाला है, आजकल पब्लिक को यही सब पसंद आ रहा है। सभी चैनल्स पर इसी तरह के सीरियल का होल्ड है। कुछ समय बाद कुछ नया कंटेंट आएगा, जो लोगों को क्लिक कर जाएगा और फिर वही ट्रेंड बन जाएगा। ऐसा चलता रहेगा।

Share it
Top