logo
Breaking

नहीं रहीं ''क्योंकि सास भी कभी बहू थी'' की ''बा'' सुधा शिवपुरी

राजस्थान में पली-बढ़ीं सुधा शिवपुरी

नहीं रहीं
मुंबई. जानी-मानी टीवी कलाकार सुधा शिवपुरी अब इस दुनिया में नहीं रहीं। उन्हें चर्चित सीरियल 'क्योंकि सास भी कभी बहू थी' में 'बा' की भूमिका निभाने के लिए जाना जाता है। वह पिछले काफी समय से बीमार चल रही थीं। उन्होंने शीशे का घर, वक्त का दरिया, संतोषी मां, ये घर और किस देश में होगा दिल जैसे सीरियलों में भी काम किया है।
'बा' के नाम से मशहूर
सुधा शिवपुरी इस सीरियल में किरदार निभाने के बाद 'बा' के नाम से मशहूर हो गई थीं। उन्होंने कई हिंदी फिल्मों में भी काम किया है। इनमें स्वामी, इंसाफ का तराजू, अलका, सावन को आने दो, द बर्निंग ट्रेन जैसी फिल्में शामिल हैं। उनके पति ओम शिवपुरी ने भी कई हिंदी फिल्मों में काम किया है।
राजस्थान में पली-बढ़ीं
राजस्थान में पली-बढ़ीं सुधा शिवपुरी ने अपने करियर की शुरुआत तभी कर दी थी, जब वह आठवीं क्लास में पढ़ रही थीं। उनके पिता की मौत हो गई थी और मां बीमार रहती थीं, इसलिए उन्हें अपने घर की जीविका चलाने के लिए कम उम्र में ही काम करना पड़ा था।
शादी के बाद शुरू किया थिएटर
साल 1968 में एक्टर ओप शिवपुरी के साथ सुधा शिवपुरी की शादी हुई। जिसके बाद एक्ट्रेस ने थिएटर करना शुरू किया। दोनों कलाकारों ने मिलकर "दिशांतर" नाम की एक कंपनी खोली जिसने कई मशहूर नाटकों का निर्देशन किया। अपने दमदार अभिनय और किरदारों से दर्शकों का दिल जितने वाली एक्टे्रस के ज्यादातर नाटकों का निदेर्शन उनके पति ने किया। "अदालत", "आधे अधूरे", "तुगलक" सुधा शिवपुरी की मुख्य नाटक हैं। जिसमें उन्होने अभिनय किया।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, सुधा शिवपुरी के फ़िल्मी सफर के बारे में -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top