Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

CDR मामलाः ठाणे पुलिस ने दिया नवाजुद्दीन सिद्दीकी को भेजा समन, बनाएगी गवाह

ठाणे पुलिस कमिश्नर ने नवाजुद्दीन का CDR मामला में कोई सीधा संबंध होन की बात से इंकार किया है और कहा कि एक गवाह के तौर पर बुलाने को लेकर उन्हें समवन जारी किया गया है और नवाजुद्दीन ने इस मामले में पूरा सहयोग करने का आश्वासन भी दिया है।

CDR मामलाः ठाणे पुलिस ने दिया नवाजुद्दीन सिद्दीकी को भेजा समन, बनाएगी गवाह
बॅालीवुड कलाकर नवाजुद्दीन सिद्दीकी को अपनी पत्नी की जासूसी कराने और कॅाल डाटा रिकॅार्ड(CDR) मामले को लेकर पुलिस ने बयान जारी किया है। थाणे पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने कहा कि कॅाल डाटा रिकॅार्ड(CDR) मामले में कलाकर नवाजुद्दीन सिद्दकी का कोई सीधा संबंध होने की बात से इंकार किया है।
इसके साथ ही कमिश्नर परमबीर सिंह ने कहा कि नवाजुद्दीन को एक गवाह के तौर पर बुलाने को लेकर समन जारी किया गया है और नवाजुद्दीन ने इस मामले में पूरा सहयोग करने का आश्वासन भी दिया है।

बीती रात क्राइम ब्रांच यूनिट ने सीडीआर मामले के तहत नवाजुद्दीन सिद्दीकी के वकील रिजवान सिद्दीकी को गिरफ्तार कर लिया है। इस मामले पर नवाजुद्दीन सिद्दीकी के वकील रिजवान सिद्दीकी ने कहा है कि मैंने अपना बयान दर्ज करवा दिया है, जिस तरह से यह लोग काम कर रहे वह कानून के खिलाफ है। उन्होंने आगे कहा है कि नवाजुद्दीन सिद्दीकी को फंसाया जा रहा है।

क्या है पूरा मामला

बता दे कि कुछ दिन पहले ही बॅालीवुड कलाकर नवाजुद्दीन सिद्दकी पर उनकी पत्नी की जासूसी कराने और पत्नी की कॅाल रिकार्ड कराने का आरोप लगाया था। जिसे लेकर नवाजुद्दीन को काफी आलोचनओ का सामना करना पड़ा था। हांलाकि नवाजुद्दीन पहले मामले की शुरुआत से ही अपने ऊपर लगे आरोपो को नकारते रहे है।

केवल यहीं नहीं नवाजुद्दीन की पत्नी ने भी उन पर लगे आरोपो का खुद खंडन किया था। ठाणे पुलिस ने आज कहा कि कॉल डिटेल रिकॉर्ड (सीडीआर) घोटाला मामले में जांच के सिलसिले में उन्होंने अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी, उनकी पत्नी और एक वकील को सम्मन जारी किया है। इस मामले का खुलासा जनवरी में हुआ था।

पुलिस उपायुक्त (अपराध) अभिषेक त्रिमुखी ने मीडियाकर्मियों को बताया कि इस मामले में गिरफ्तार किए गए आरोपियों में से कुछ ने पुलिस को बताया था कि एक वकील ने निजी जासूसों से अभिनेता की पत्नी के कॉल डिटेल रिकॉर्ड प्राप्त किए थे जिसके बाद तीनों को सम्मन जारी किया गया।
त्रिमुखी ने कहा, ‘‘गिरफ्तार किये गये तीन आरोपी प्रसाद पालेकर, अजिंक्य नागरगोजे और जिगर मखवाना ने पुलिस को बताया कि एक वकील ने निजी जासूसों से नवाजुद्दीन सिद्दीकीकी पत्नी की सीडीआर हासिल की थी। इसलिए इसकी पुष्टि करने के लिए हमने उन्हें बुलाया है।'
गत 24 जनवरी को इस सीडीआर रैकेट कातब पता चला था, जब एक गुप्त सूचना के आधार पर कार्रवाई करते हुये पुलिस ने जिले के कलवाक्षेत्र से चार निजी जासूसों को पकड़ा था। बाद में रजनी पंडित नामक महिला जासूस को भी गिरफ्तार कर लिया गया। तब से अब तक इस मामले में 11 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।
Next Story
Top