Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दीपिका पादुकोण को हैं ये गंभीर बीमारी, कभी-कभी खुद को कर लेती हैं कमरे में बंद

बॉलीवुड एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण इस गंभीर बीमारी से काफी लंबे समय से जूझ रहीं हैं। जिसके चलते उनका कभी कभी अकेले में रहना मजबूरी बन जाती हैं। अपनी इस बीमारी का खुलासा उन्होंने 'बिग बॉस 13' के शो में दिया।

दीपिका पादुकोण को हैं ये गंभीर बीमारी, कभी-कभी खुद को कर लेती हैं कमरे में बंद
X
दीपिका पादुकोण

बॉलीवुड एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) इन दिनों काफी विवादों में हैं। बावजूद इसके वो अपनी पसर्नल लाइफ में खुश हैं, लेकिन क्या आपको पता हैं कि दीपिका पादुकोण काफी समय से एक बीमारी से जूझ रही है। जी हां, इसका खुलासा उन्होंने बिग बॉस 13 (Bigg Boss 13) में खुद किया।

दरअसल, दीपिका पादुकोण फिल्म 'छपाक' को प्रमोट करने बिग बॉस के घर में पहुंची। इस दौरान वो चाय के लिए किचन में गई तो गंदगी देख वहां से निकल आई। उन्होंने नाराजगी जताते हुए कहा कि आपको पता हैं कि ना मुझे 'ओसीडी' हैं.. कप झूठे हैं, छलनी गंदी.... अब तो आपको पता चल ही गया होगा कि दीपिका किस बीमारी से ग्रसित हैं ?


दरअसल, 'ओसीडी' (OCD) एक बीमारी का नाम हैं। ओसीडी यानी ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसॉर्डर (Obsessive Compulsive Disorder)... ओसीडी बीमारी में ब्रेन में सेरोटोनिन नामक न्‍यूरोट्रांसमीटर की कमी हो जाती है। इसका कारण इंफेक्‍शन और स्ट्रेस भी होता है। इस बीमारी में व्यक्ति को आसपास ही नहीं खुद में भी गंदगी नजर दिखती रहती है।

अगर वो व्यक्ति कोई गंदी चीज छू जाए तो तब तक हाथ धोता रहता हैं जब तक उनका दिमाग गंदी चीज को भुला ना दें। इस बीमारी के ब्रेन में न्‍यूरोट्रांसमीटर की कमी, इंफेक्‍शन, स्‍ट्रेस जैसी चीजें जिम्‍मेदार होते हैं। इस बीमारी व्यक्ति को किसी एक काम को करने की सनक सवार रहती हैं। खासकर सफाई की धुन सवार रहती हैं।


दीपिका पादुकोण को सफाई बेहद पसंद है। अगर उनके आसपास थोड़ी सी भी धूल मिट्टी दिख जाती है तो उनके दिमाग के नेगेटिव हॉर्मोन्स एक्टिव हो जाते हैं। जिसके चलते उन्हें एलर्जी हो जाती है। इस बीमारी में व्यक्ति घर से निकलते वक्त दरवाजा ठीक से बंद किया या नहीं?, लाइट और पंखे के स्विच बंद किए या नहीं?

कहीं गैस का स्विच खुला तो नहीं है? बाथरूम के टैब खुले तो नहीं हैं? जैसे बातों को लेकर स्ट्रेस बना रहता हैं। इस बीमारी के इलाज के लिए डॉक्टर्स ऐसी दवाइयां प्रेफर करते हैं, जो लंबे समय तक लेनी होती हैं। इन दवाइयों में स्ट्रेस को दूर करने वाली भी दवाएं शामिल होती हैं। वहीं इस बीमारी के लिए व्यायाम भी काफी असरदार माना जाता हैं।

Next Story
Top