logo
Breaking

प्यार को पाने के लिए दिल जीतना पड़ता है- रोहित खुराना

टीवी सीरियल ‘लाजवंती’ में एक नए अवतार में नजर आएंगे रोहित खुराना

प्यार को पाने के लिए दिल जीतना पड़ता है- रोहित खुराना
मुंबई. इन दिनों जीटीवी पर सुप्रसिद्ध कहानीकार राजिंदर सिंह बेदी की कहानी ‘लाजवंती’ पर आधारित इसी नाम से सीरियल टेलीकास्ट हो रहा है। सीरियल भारत विभाजन की विडंबनाओं पर आधारित है। इसमें प्यार की एक पहलू है, जिसके केंद्र में जमाल नाम का एक किरदार है, जिसे निभा रहे हैं रोहित खुराना। सीरियल में उस दौर की महिलाओं की स्थिति का की चित्रण है। सीरियल के सब्जेक्ट, कैरेक्टर और करियर से जुड़ी बातें रोहित खुराना से।
रोहित खुराना ज्यादातर सीरियल्स में नेगेटिव या ग्रे शेड कैरेक्टर ही निभाते हैं। ककी-ककी वह पॉजिटिव कैरेक्टर की करते हैं, लेकिन तारीफ उन्हें नेगेटिव या ग्रे शेड्स कैरेक्टर में ही मिलती है। सीरियल ‘उतरन’ में उनका ग्रे शेड्स कैरेक्टर बहुत पॉपुलर हुआ था। इन दिनों रोहित, जीटीवी के सीरियल ‘लाजवंती’ में जमाल के किरदार में नजर आ रहे हैं। यह की एक तरह से एंटी हीरो टाइप का रोल है। सीरियल और किरदार से जुड़ी बातचीत रोहित खुराना से।
आप एक बार फिर ‘लाजवंती’ में एंटी हीरो का रोल निभा रहे हैं?
दरअसल, मुझे एंटी हीरो जैसे रोल निभाने में मजा आता है। इसमें एक्टिंग का काफी स्कोप होता है। कोई बंदिश नहीं होती कि किरदार को एक दायरे में रहना है। इसलिए आप कह सकती हैं कि जब की मौका मिलता है, मैं एंटी हीरो या ग्रे शेड्स कैरेक्टर करता हूं। दर्शकों को की ऐसे किरदार अच्छे लगते हैं। नेगेटिव या ग्रे शेड्स कैरेक्टर की वजह से शो में एंटरटेनमेंट बना रहता है।
सीरियल में अपने कैरेक्टर के बारे में कुछ बताइए?
सीरियल में मेरा कैरेक्टर जमाल काफी पैसे वाला इंसान है, पेशे से व्यापारी है। उसके आगे किसी की नहीं चलती है। घर में जमाल का फैसला ही सब कुछ है। जब देश का विभाजन होता है, तो लाजवंती पाकिस्तान वाले हिस्से में रह जाती है। जमाल उसे जबरन अपने घर ले आता है। वह लाजवंती को पाना चाहता है, लेकिन उसका प्यार तो सरहद पार हिंदुस्तान में है, वह अपने प्यार के लिए दृढ़ है। लाजवंती की दृढ़ता के आगे वह खुद को छोटा महसूस करता है। जमाल दुनिया की नजरों में बुरा इंसान है, लेकिन उसके दिल में की प्यार के लिए जगह है। लाजवंती की वजह से उसमें बदलाव की आता है।
सीरियल ‘लाजवंती’ का बैकग्राउंड देश के विभाजन का है। ऐसे में आपने अपने रोल को उस एरा के अकॉर्डिंग कैसे तैयार किया? इंस्प्रेशन कहां से ली?
इंस्प्रेशन तो कहीं से नहीं ली। खुद ही इस किरदार को अलग तरह से निभाने की कोशिश की है। पहले किरदार को अच्छी तरह समझा, उसके बाद डायरेक्टर की सलाह मानी है, थोड़ा अपना इनपुट की डाला है। इसके बाद जमाल के किरदार को निभाया है।
सीरियल में दिखाया है कि जमाल, लाजवंती को जबरन पाना चाहता है, क्या किसी का प्यार जबरन हासिल किया जा सकता है?
नहीं, किसी का प्यार जबरदस्ती नहीं पाया जा सकता है। प्यार को पाने के लिए दिल जीतना पड़ता है, जो बहुत मुश्किल काम है।
क्या असल जिंदगी में अपने प्यार को पाने के लिए आपको ककी मुश्किलों से गुजरना पड़ा?
मैं खुशनसीब हूं, जिससे मैंने प्यार किया, वह आज मेरी जिंदगी का हिस्सा हैं, मेरी वाइफ हैं। मुझे अपने प्यार को पाने के लिए दिक्कतों का सामना तो नहीं करना पड़ा, लेकिन उन्हें शादी के लिए मानने में छह साल लग गए।
Share it
Top