Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बगदाद की रानी यास्मिन और अलादीन के बीच पक रही ये केमेस्ट्री, सेट से हुआ खुलासा

सोनी सब टीवी पर हर रात ''अलादिनः ना तो सुना होगा'' से एक धारावाहिक प्रसारित होता है। इस सीरियल में सिद्धार्थ सागर अलादीन का किरदार निभा रहे हैं। जबकि अवनीत कौर बगदाद की प्रिनेंसेस के रोल में हैं।

बगदाद की रानी यास्मिन और अलादीन के बीच पक रही ये केमेस्ट्री, सेट से हुआ खुलासा

सोनी सब टीवी पर हर रात 'अलादिनः ना तो सुना होगा' से एक धारावाहिक प्रसारित होता है। इस सीरियल में सिद्धार्थ निगम अलादीन का किरदार निभा रहे हैं। जबकि अवनीत कौर बगदाद की प्रिंसेस के रोल में हैं। हाल ही में शो की पूरी स्टारकास्ट इसी सिलसिले में दिल्ल पहुंची। पेश है बातचीत से जुड़े कुछ अंश-

1. शो में अपने-अपने किरदार के बारे में बताइए?

सिद्धार्थः अलादीन एक ऐसा कैरेक्टर है जो दूसरों की काफी रिस्पेक्ट करता है। हर चीज को मस्ती में करता है। किसी भी काम को लेकर कोई भी प्रेशर नहीं लेता है। अलादीन एक वह है जो अपनी सारी जिम्मेदारियों को समझता है। अपनी अम्मी के लिए हर चीज करना चाहता है। उनकी हर ख्वाहिशों को पूरा करना चाहता है।

अवनीत कौरः मैं इस शो में एक रानी यास्मिन का किरदार प्ले कर रही हूं। यास्मिन एक बगदाद की रानी है। वह बहुत ही पॉजिटिव है और लोगों की हमेशा मदद करने को तत्पर रहती है।

2. आपने मिस्टर. परफेक्शनिस्ट आमिर खान के साथ काम किया है तो परफेक्शनिस्ट को आप कैसे परिभाषित करेंगे?

मेरे लिए उनके साथ काम करना बहुत ही गर्व की बात है। मैने वहीं से शूटिंग की बारीकियों को सीखा। उन छोटी-छोटी बातों के बारे में जाना है जिसके बारे में मुझे पता नहीं था। लेकिन आमिर सर बहुत ही अच्छे टीचर हैं मैं यह कह सकता हूं। उनकी मुझे एक बात सही लगती है। वह हमेशा कहते हैं कि जो असल है वहीं करो। इसलिए उन्हें जो परफेक्शनिस्ट का टैग मिला है मुझे लगता है कि यह बिल्कुल सही है।

3. शो में एक तरीके से पूरा अरेबियन कल्चर दिखाने की कोशिश की गई है। आप लोग अरबी कल्चर को कितना जानते हैं या फिर इस बारे में पहले कोई चर्चा हुई?

धारावाहिक की स्टाटिंग से पहले हमें थोड़ा इस कल्चर के बारे में बताया गया। लेकिन इस बार शो को पूरी तरह से मॉडर्न रखने की कोशिश की गई है। जिसके कारण हमें लगता है कि हमनें अरेबियन कल्चर को छोड़ा बहुत मिस किया है। लेकिन साथ ही शो में थोड़ा पुराने कल्चर और आज के जमाने की मॉडर्ननेस को एक-साथ दिखाया गया है।

4. आपने जिमनास्ट में कई नेशनल और राष्ट्रय पुरस्कार जीते हैं तो क्या आपने एक्टिंग को छोड़ जिमनास्टिक्स में करियर बनाने की नहीं सोची?

देखा जाए तो जिमनास्टिक्स आज इतना हाईलाइट नहीं है। बहुत ऐसे देश हैं जो जिमनास्ट में नंबर 1 पर हैं। मुझे ये अवसर मिला है कि मैं एक्टिंग के साथ-साथ जिमनास्टिक को भी प्रमोट कर सकूं। जैसे जैकी चैन मार्शल आर्ट में नंबर वन हैं। इसी लिए मैं भी यही चाहता हूं कि मैं भी अपनी आर्टिस्टिक जिमनास्टिक को अपने काम के जरिए प्रमोट कर सकूं। इसलिए मैं ट्राई कर रहा हूं कि मैं एक्टिंग के जरिए अपनी जिम्नास्टिक स्किल्स को लोगों को दिखा सकूं।

5. इस शो के शुरु होते-होते एक शब्द आ गया है अलास्मिन (अलादीन और यास्मिन= अलास्मिन) , क्या कहना चाहेंगे आप?

देखिए, हम दोनों एक अच्छे दोस्त हैं। लेकिन लोगों ने ही अपनी तरफ से ही इस शब्द को जोड़ दिया है। लेकिन मैं यह समझता हूं कि ये भी उन लोगों का हमारे प्रति प्यार ही है।

6. सिद्धार्थ आपकी अलादीन को सलेक्ट करने की क्या वजह रही? साथ ही हमने आपको हमेशा से ही एक ऐतिहासिक किरदारों में ही देखा है चाहें वो अशोक सम्राट हों या फिर पेशवा बाजीराव में शिवाजी, तो क्या आप सिर्फ इन्ही कैरेक्टर्स में हमें नजर आएंगे?

मुझे लगता है कि मेरे लिए अलादीन का कैरेक्टर काफी अलग है क्योंकि मैने हमेशा से ही बड़ा अलग लुक दिया। चाहें वह चंद्र-नंदनी हो या फिर अशोक सम्राट, इन दोनों ही किरदारों में मुझे इंटेन्स लुक देखा पड़ता था। लेकिन जब मेरे पास अलादीन का कैरेक्टर आया तो मैने पहले ही शो के लिए हामी भर दी। मुझे हमेशा से ही नई-नई चीजें करना अच्छा लगता है।

Next Story
Share it
Top