logo
Breaking

मेरा नेचर थोड़ा जॉली टाइप का है: श्रद्धा आर्य

फिल्म और सीरियल्स में काम करती रहीं श्रद्धा पहली बार होस्टिंग कर रही हैं।

मेरा नेचर थोड़ा जॉली टाइप का है: श्रद्धा आर्य
मुंबई. कई सीरियल्स में अलग-अलग तरह के रोल्स निभा चुकीं श्रद्धा आर्य ने कुछ हिंदी और तेलुगु फिल्मों में भी काम किया है। लेकिन अब वह एक नई भूमिका में दिख रही हैं। इन दिनों वह लाइफ ओके चैनल पर टेलिकास्ट हो रहे कॉमेडी रियालिटी शो ‘मजाक मजाक में’ को होस्ट कर रही हैं। सीरियल में अच्छी भूमिकाएं मिलने के बावजूद उन्होंने होस्टिंग करने का मन कैसे बना लिया?
पूछने पर वह बताती हैं, ‘मेरा मानना है कि एक एक्टर के लिए ऐसे आॅफर नई आॅपर्च्युनिटीज को लेकर आते हैं। अपने आपको नए रोल में एक्सप्लोर करने का मौका मिलता है। तो होस्टिंग का आॅफर मुझे काफी चैलेंजिंग लगा। पब्लिक से फेस-टू-फेस होने का चांस मिल रहा था। हर एक्टर को इसका मौका नहीं मिलता। तो ऐसा मौका मैं नहीं छोड़ना चाहती थी। मुझे लगता है अगर मेरी होस्टिंग को पसंद किया गया तो निश्चित ही मेरे करियर को एक नया मोड़ भी मिलेगा। वैसे मैं अपनी ओर से बेस्ट दे रही हूं।’
एक तो पहली बार रियालिटी शो होस्टिंग और वो भी कॉमेडी शो! ऐसी जिम्मेदारी एक्सेप्ट करते श्रद्धा को झिझक महसूस नहीं हुई? वह मानती हैं, ‘हां थोड़ी-सी नर्वसनेस थी तो शुरुआत में। इसी वजह से फर्स्ट-डे शूटिंग पर मैं दो-तीन घंटे पहले ही सेट पर पहुंच गई थी। लेकिन जब मैं स्टेज पर पहुंची, सबके सामने आई और पहला शॉट हुआ तो सबने एप्रीशिएट किया। धीरे-धीरे डर खत्म होता गया। अब तो कॉन्फिडेंस लगातार बढ़ रहा है।’
किसी रियालिटी शो के होस्ट की जिम्मेदारी बहुत इंपॉर्टेंट होती है। ऐसे में अगर शो कॉमेडी है तो जाहिर है कि उसके होस्ट के बोलने का अंदाज, डायलॉग और पंचेज भी जोरदार होने चाहिए। तो इसकी तैयारी के लिए श्रद्धा ने क्या खास किया? वह तुरंत कहती हैं, ‘नो डाउट, अगर आप कॉमेडी शो होस्ट कर रहे हैं तो आपका थोड़ा कॉमिक होना जरूरी है। लेकिन इसके लिए मुझे कोई खास एफर्ट्स नहीं करने पड़े और ना ही मैंने कोई ट्रेनिंग ली। यह सच है कि कॉमेडी रोल्स मैंने कभी नहीं किए लेकिन यह हमेशा से मेरा फेवरेट जॉनर रहा है। जब इस शो का ऑफर मिला तो मेरे फ्रेंड्स और फैमिली वालों ने कहा ये तो तुम्हें एक्सेप्ट करना ही चाहिए। एक्चुअली मेरा नेचर ही थोड़ा जॉली टाइप का है। इसीलिए मैं टेंशनफुल या सीरियस फिल्में भी नहीं देखती।’
इस शो में नॉदर्न नमूने, पंजाबी फुकरे जैसे अलग-अलग राज्यों की टीमें हैं। श्रद्धा दिल्ली की रहने वाली हैं। वह खुद को किस टीम से ज्यादा रिलेट करती हैं? वह हंसकर जवाब देती हैं, ‘मैं दिल्ली से हूं तो नॉर्दन नमूने और पंजाबी फुकरे दोनों से ही रिलेट करती हूं। हालांकि पर्सनली मेरा एक्सपीरियंस है कि राजस्थान और पंजाब के लोगों का सेंस आॅफ ह्यूमर बहुत अच्छा होता है। वैसे तो इसमें पार्टिसिपेट करने वाली सभी टीमें अच्छी और टैलेंटेड हैं लेकिन व्यूअर के तौर पर पंजाबी और नार्दन टीमें मेरी फेवरेट हैं।’
आज के दौर में जब इतना स्ट्रेस और टेंशन हर किसी की लाइफ में शामिल हो गया है तो ऐसे में किसी को हंसाना कितना टफ है? श्रद्धा कहती हैं, ‘आज की लाइफ में किसी को हंसाना बहुत ज्यादा टफ है। मेरा तो मानना है कि टफ होने के साथ ही यह एक नोबल एफर्ट यानी बहुत अच्छा काम है। आज वर्क, रिलेशंस और कॉम्पिटिशन के तनाव में अगर आप एक पल को भी किसी को हंसा दें तो इससे अच्छा कोई और काम नहीं है।’
श्रद्धा जॉली नेचर की हैं, खूब हंसती हैं, अब कॉमेडी शो होस्ट करते हुए हंसा भी रही हैं। पर पर्सनली उन्हें हंसना ज्यादा अच्छा लगता है या हंसाना? इसके जवाब में वह पहले हंस पड़ती हैं, फिर ठहरकर कहती हैं, ‘मेरा पहले मानना था कि हंसना ज्यादा अच्छा लगता है लेकिन जब से ये शो ज्वाइन किया है, मुझे लगने लगा है कि हंसाना भी मुझे बहुत अच्छा लगता है। आप यकीन नहीं करेंगे, शो शूट के बीच में मैं हंसती रहती हूं। डायरेक्टर सर बार-बार इशारा करते हैं कि आप इतना खुद हंसेंगी तो दूसरों की आवाज ही नहीं आएगी। बहरहाल, मैं बहुत खुश हूं कि शो के जरिए हंसने के साथ हंसाने का भी मुझे मौका मिल रहा है।’
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top