logo
Breaking

मैं अंगूरी से पूरी तरह खुद को अपोजिट नहीं मानतीः शिल्पा शिंदे

कॉमेडी शो में अंगूरी का कैरेक्टर निभाकर वह घर-घर में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हुई हैं।

मैं अंगूरी से पूरी तरह खुद को अपोजिट नहीं मानतीः शिल्पा शिंदे
नई दिल्ली. एंड टीवी पर प्रसारित हो रहे कॉमेडी सीरियल ‘भाभी जी घर पर हैं’ के डायलॉग ‘सही पकड़े हैं’ ने अंगूरी भाभी यानी शिल्पा शिंदे को खूब पॉपुलर बना दिया है। इससे पहले वह ‘कभी आए ना जुदाई’, ‘संजीवनी’, ‘आम्रपाली’, ‘भाभी’, ‘लापतागंज’, ‘देवों के देव महादेव’, ‘मायका’, ‘चिड़िया घर’ जैसे कई हिट सीरियल्स में अलग-अलग तरह के कैरेक्टर निभा चुकी हैं। लेकिन इस कॉमेडी शो में अंगूरी का कैरेक्टर निभाकर वह घर-घर में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हुई हैं। शो के कैरेक्टर और करियर से जुड़ी बातें शिल्पा शिंदे से।
इस शो में अंगूरी का कैरेक्टर आपको कैसे मिला?
इस शो को लेकर डायरेक्टर शशांक से जब मेरी बात हुई तो मुझे इसकी स्टोरी लाइन काफी पसंद आई। हालांकि सीरियल में मेरा रोल कुछ तय नहीं था, लेकिन मेरा मन था कि मैं इसमें कोई न कोई रोल प्ले जरूर करूं। पहले मुझे अनीता के रोल के लिए अप्रोच किया गया और मैंने इसके लिए हां भी कर दी। लेकिन डायरेक्टर को कहीं न कहीं लग रहा था कि मैं अंगूरी का कैरेक्टर बेहतर तरीके से कर सकती हूं। काफी डिस्कशन होने के बाद फाइनली मुझे अंगूरी का किरदार मिला।
रियल लाइफ में आप अंगूरी से कितना अपोजिट हैं?
मैं अंगूरी से पूरी तरह खुद को अपोजिट नहीं मानती। मुझे अंगूरी की तरह खाने का शौक है और खिलाने का भी। मुझे भी साड़ी पहनना बहुत पसंद है। जिस तरह वह कई बातों को समझ नहीं पाती, मेरे साथ भी कई बार वैसा होता है।
इस किरदार को सुनने के बाद क्या आपको ऐसा नहीं लगा था कि आपकी इमेज बहन जी टाइप हो जाएगी?
मेरे दिमाग में पहले यह ख्याल आया था और यही सोचकर मैंने अंगूरी का किरदार निभाने के लिए मना कर दिया था। मुझे लग रहा था कि यह किरदार काफी देहाती और देसी किस्म का हो जाएगा, लेकिन स्क्रिप्ट राइटिंग और कॉमेडी में यह किरदार इतना मिक्स हो गया कि इसका देसीपन गायब ही हो गया।

सीरियल में आपका जुमला ‘सही पकड़े हैं’ बच्चों से लेकर बड़ों तक की जुबान पर चढ़ चुका है, कैसा फील करती हैं आप?
असल में स्क्रिप्ट में ‘सही पकड़े हैं’ जुमला कहीं था ही नहीं। लेकिन मैंने राइटर को बोला कि मुझे एक बढ़िया सा तकिया कलाम चाहिए। इस पर कई जुमलों पर डिस्कशन हुआ, लेकिन राइटर ने जब ‘सही पकड़े हैं’ बोला तो मुझे काफी पसंद आया। आलम यह हुआ कि आज यह जुमला ही शो की जान बन चुका है।
क्या आपने कभी सोचा था कि यह शो इस कदर हिट हो जाएगा?
हमें शो से उम्मीदें जरूर थीं, लेकिन यह इतना पॉपुलर हो जाएगा, कभी नहीं सोचा था। आज यह शो ऑडियंस को खूब हंसा रहा है। हमारे लिए यह काफी खुशी की बात है।
टीवी पर दिखाई जा रही एडल्ट कॉमेडी के बारे में आपका क्या कहना है?
हमारा शो भी एडल्ट कॉमेडी ही है। यह शो बच्चों के लिए नहीं है, लेकिन बच्चे भी इस शो को एंज्वॉय कर रहे हैं। इसका कारण है कि इस शो की कॉमेडी वल्गर नहीं है। वैसे भी कॉमेडी में कोई लिमिट नहीं होती। कॉमेडी तो कॉमेडी है। अगर कॉमेडी में लिमिटेशन होगी तो कॉमेडी कभी हो ही नहीं सकती।
अब तक का अपना बेहतरीन किरदार किसे मानती हैं?
अंगूरी। यह किरदार ही आज मेरी असल पहचान बन चुका है। मुझे तो लगता है कि ऑडियंस ने मुझे अब जाकर समझा है कि मैं अच्छी एक्टर हूं। इससे पहले मैं नेगेटिव रोल, फैमिली ड्रामा और कॉमेडी सब कर चुकी हूं। लेकिन मेरे लिए यह कैरेक्टर गॉड गिफ्ट की तरह है।

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी खबर-

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top