Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

स्कूल के दिनों में सपना करती थी ये कारनामा, क्लास में सोती थी, ऐसे तय किया अर्श से फर्श तक का सफर

हरियाणा की फेमस डांसर सपना चौधरी, जब रियालिटी शो ‘बिग बॉस-11’ का हिस्सा बनीं तो खूब चर्चा में रहीं। वह शो की विनर तो नहीं बनीं, लेकिन सपना की फैन फॉलोइंग खूब बढ़ गई।

स्कूल के दिनों में सपना करती थी ये कारनामा, क्लास में सोती थी, ऐसे तय किया अर्श से फर्श तक का सफर

हरियाणा की फेमस डांसर सपना चौधरी, जब रियालिटी शो ‘बिग बॉस-11’ का हिस्सा बनीं तो खूब चर्चा में रहीं। वह शो की विनर तो नहीं बनीं, लेकिन सपना की फैन फॉलोइंग खूब बढ़ गई।

सोशल मीडिया पर उनके डांस को देखने वालों की तादाद में इजाफा हुआ। फिल्म ‘नानू की जानू’ में भी उन्होंने एक देसी आइटम डांस किया था। अब सपना एक्टिंग की दुनिया में कदम रख रही हैं।

‘दोस्ती के साइड इफेक्ट’ नाम की फिल्म उन्होंने साइन की है। इस फिल्म में विक्रांत आनंद, सीरियल ‘कसौटी जिंदगी की’ फेम एक्टर जुबैर खान और अंजू जाधव भी नजर आएंगे। फिल्म को हादी अली अबरार डायरेक्ट करेंगे।

‘बिग बॉस-11’ में आने के बाद से ही आपको बॉलीवुड से ऑफर आ रहे होंगे, फिर आपने फिल्मों में आने में इतना समय क्यों लिया?

‘बिग बॉस’ एक अलग दुनिया है, जबकि एक्टिंग पूरी तरह एक अलग फील्ड है, इसलिए मैंने समय लिया। पहले मुझे लगता था मैं एक्टिंग के लिए पूरी तरह फिट नहीं हूं। इसलिए मैं खुद को एक्टिंग के लिए तैयार करना चाहती थी। जब मुझे लगा कि मैं तैयार हो गई तो फिल्मों के ऑफर एक्सेप्ट किए।

डेब्यू फिल्म के लिए ‘दोस्ती के साइड इफेक्ट’ आपने किस वजह से एक्सेप्ट की?

मैंने जब फिल्म के डायरेक्टर हादी अली अबरार से फिल्म की कहानी सुनी तो तुरंत हां कह दिया। टाइटल से भले ही लग रहा है कि यह एक कॉमेडी फिल्म होगी लेकिन मैं साफ कर दूं कि यह कॉमेडी मूवी नहीं है। बेशक इसमें कुछ कॉमिक एलीमेंट्स हैं लेकिन इसे आप कॉमेडी फिल्म नहीं कह सकते। यह फ्रेंडशिप, रिलेशनशिप पर बेस्ड एक प्यारी-सी कहानी है। जिसमें दोस्ती है, प्यार है और जज्बात हैं। यह चार दोस्तों की जिंदगी में आने वाले उतार-चढ़ाव की कहानी है। हमारी फिल्म में दोस्ती को पॉजिटिव लाइट में ही दिखाया गया है। कहानी का बैकड्रॉप मध्यप्रदेश का है।

आप का किरदार इस मूवी में किस तरह का है और आपको इसके लिए कितनी तैयारी करनी पड़ी?

इन चारों दोस्तों में से एक मैं हूं। पहले कॉलेज जाने वाली लड़की बनी हूं, फिर एक वर्किंग वूमेन के रूप में नजर आऊंगी। कॉलेज गर्ल दिखने के लिए मैंने अपने लुक पर खास ध्यान दिया। इसके लिए मैंने काफी तैयारी की। मुझे काफी स्लिम होना पड़ा, अपना वजन कम किया। अब मुझे लगता है कि फिजिकल फिटनेस कायम रखना बेहद चैलेंजिंग होता है।

क्या आपके किरदार से दर्शक कनेक्ट कर पाएंगे?

बिल्कुल, फिल्म की स्क्रिप्ट बहुत अच्छी है। इस कहानी से हर कोई कनेक्ट कर सकेगा क्योंकि यह उन तमाम लोगों की कहानी है जो स्कूल-कॉलेज में साथ रहते थे, जिनकी दोस्ती स्ट्रॉन्ग थी। ऐसे सभी लोग फिल्म को पसंद करेंगे।

क्या रियल लाइफ में कभी आपने दोस्ती के साइड इफेक्ट झेले हैं?

नहीं, मेरे दोस्त ही नहीं रहे। नाइंथ से ट्वेल्थ क्लास तक एकदम पीछे की सीट पर बैठती थी। लड़कियों से मेरी बनती नहीं थी और लड़के अगर कुछ भी बोल देते थे तो मुझसे बर्दाश्त नहीं होता था और मैं उन्हें पीट देती थी। ऐसा नहीं था कि मैं पढ़ाई में कमजोर थी इसलिए पीछे की सीट पर बैठती थी बल्कि उस समय मैं बहुत कम बोलती थी। रात में डांस शोज करके मैं सुबह लास्ट बेंच पर जाकर सो जाती थी।

क्या इस फिल्म में भी आपका डांस ऑडियंस को देखने को मिलेगा?

बिल्कुल, डांसिंग ही मेरी यूएसपी है। इस फिल्म में भी दर्शक मेरा डांस देख पाएंगे। फिल्म में 5 गाने हैं, सभी सॉन्ग सिचुएशनल हैं।

Next Story
Top