Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गणतंत्र दिवस 2018: ''इन फिल्मों ने बढ़ाया देशभक्ति का जज़्बा''

फिल्ममेकर जे.पी. दत्ता ने जो भी फिल्में बनाई हैं, उनमें से ज्यादातर फिल्मों में सेना की शौर्य गाथा को दिखाया गया है। लेकिन आज जिस तरह का सिनेरियो बॉलीवुड में देशभक्ति वाली फिल्मों को लेकर बना हुआ है, उससे वह निराश हैं।

गणतंत्र दिवस 2018:

फिल्ममेकर जे.पी. दत्ता ने जो भी फिल्में बनाई हैं, उनमें से ज्यादातर फिल्मों में सेना की शौर्य गाथा को दिखाया गया है। लेकिन आज जिस तरह का सिनेरियो बॉलीवुड में देशभक्ति वाली फिल्मों को लेकर बना हुआ है, उससे वह निराश हैं। गणतंत्र दिवस पर साझा कर रहे हैं अपने विचार जे.पी. दत्ता।

मैंने अपने कॅरियर की शुरुआत में 'सरहद' नाम की एक फिल्म बनाई थी, लेकिन वह रिलीज नहीं हो पाई। इसके बाद 'रिफ्यूजी', 'बॉर्डर', 'एलओसी कारगिल' बनाई, इन फिल्मों में देशभक्ति का जज्बा था।

मुझे फिल्म 'बॉर्डर' के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला था। इस तरह की फिल्में बनाकर मेरे मन को बहुत सुकून मिलता है। मैंने हमेशा देशभक्ति और सेना की शौर्य गाथा को कहने वाली कहानी पर्दे पर लाने की कोशिश की है।

यह भी पढ़ें- 'क्वांटिको' सीजन 3 की शूटिंग में बीजी प्रियंका चोपड़ा ऑस्कर नॉमिनेशन की करेंगी घोषणा

यही सोचकर 'एलओसी कारगिल' बनाई थी। लेकिन जब फिल्म क्रिटिक्स ने कहा कि इस फिल्म में कहानी ही नहीं, तो मेरे दिल को बहुत ठेस पहुंची। यह फिल्म पूरी तरह से सच्ची घटना पर आधारित थी।

विक्रम बत्रा और मनोज पांडे ने कारगिल युद्ध में जिस साहस का परिचय दिया था, उसे मैंने फिल्म के जरिए दिखाया था। मुझे अफसोस होता है कि हमारे देश में लोग, सैनिकों के बलिदान को भूल जाते हैं, हमें ऐसा नहीं करना चाहिए। जबकि दूसरे देशों में ऐसा नहीं होता है।

अमेरिका को ही देखें, वहां सेना का मनोबल बढ़ाने के लिए हमेशा प्रयास किए जाते हैं। वहां की फिल्म इंडस्ट्री यानी हॉलीवुड में सच्ची घटनाओं पर आधारित ऐसी फिल्में बनती हैं, जिनमें सेना की शौर्य गाथा होती है।

यह भी पढ़ें- मौत बनकर सड़कों पर दौड़ रहा कोहरा, करनाल में टकराईं कई गाड़ियां, 3 की मौत

'पर्ल हार्बर' और 'सेविंग प्राइवेट रायन' जैसी फिल्मों को दर्शकों ने भी खूब पसंद किया है, इसमें अमेरिकी सेना के शौर्य की कहानी थी। हमारे देश में लंबे अरसे से देशभक्ति पर आधारित फिल्में बन ही नहीं रही हैं। इसको लेकर कोई मोटिवेशन भी नहीं मिल रहा है।

ऐसा लगता है कि जैसे देश के बारे में किसी को चिंता ही नहीं है। मैं मानता हूं कि एक वॉर फिल्म या देशभक्ति पर आधारित फिल्म बनाने में बजट ज्यादा लगता है, लेकिन ऐसी फिल्में बनती रहनी चाहिए।

मैं ऐसी फिल्म आज भी बना रहा हूं। इस समय मैं अपनी नई फिल्म ‘पलटन’ पर काम कर रहा हूं। इसमें भी सेना की शौर्यगाथा होगी।

Next Story
Top