Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

''बटला हाउस'' के राजेश शर्मा आज भी इस बात से नहीं हैं संतुष्ट, इस तरीके से बयां करेंगे ''बार डांसर'' का दर्द

राजेश शर्मा अब फिल्म बटला हाउस में नजर आएंगे। वह फिल्म खोसला का घोंसला’, ‘नो वन किल्ड जेसिका’, ‘लव शव ते चिकन खुराना’ और ‘स्पेशल 26’ जैसी फिल्मों में अपनी उम्दा एक्टिंग के रंग जमा चुके हैं।

X

कई एक्टर हीरो की इमेज वाले नहीं होते हैं, लेकिन वह तरह-तरह के किरदार निभाकर दर्शकों के दिल में अपने लिए अलग जगह बना लेते हैं। ऐसे ही एक्टर हैं, राजेश शर्मा।

वह ‘खोसला का घोंसला’, ‘नो वन किल्ड जेसिका’, ‘लव शव ते चिकन खुराना’ और ‘स्पेशल 26’ जैसी फिल्मों में अपनी उम्दा एक्टिंग के रंग जमा चुके हैं। पिछले हफ्ते ही उनकी एक फिल्म ‘होटल मिलन’ रिलीज हुई थी।

राजेश, जॉन अब्राहम के साथ अपकमिंग फिल्म ‘बाटला हाउस’ में भी हैं। पिछले दिनों मुंबई में प्रोड्यूसर चंद्रकांत शर्मा और डायरेक्टर रूपेश पॉल की फिल्म ‘द ग्रेट इंडियन कसीनो’ की शूटिंग पर राजेश शर्मा से मुलाकात हुई। इस दौरान उनसे करियर को लेकर लंबी बातचीत हुई।

फिल्म ‘द ग्रेट इंडियन कसीनो’ के बारे में कुछ बताइए, इसमें आपका किरदार क्या है?

फिल्म ‘द ग्रेट इंडियन कसीनो’ 2005 में डांस बार पर बैन लगने के असर पर बेस्ड है। मैं फिल्म में एक बार ओनर का रोल कर रहा हूं जो एक स्मगलर भी है। दरअसल, हम चार लोगों का एक गिरोह है, जो बुरे कामों में लिप्त हैं।

उन चार लोगों में मेरे अलावा पंकज बेरी, दीपराज राना और आसिफ बसरा हैं। फिल्म के प्रोड्यूसर चंद्रकांत शर्मा और डायरेक्टर रूपेश पॉल हैं। इस फिल्म में यह दिखाया गया है कि बार डांसर्स का कैसे शोषण होता है।

आप ज्यादातर कॉमेडी रोल करते रहे हैं, क्या आपको लगता है कि दर्शक आपको नेगेटिव रोल में एक्सेप्ट करेंगे?

जी हां, यह सही है कि पहली बार मैं पूरी तरह एक नेगेटिव रोल कर रहा हूं। पहली बार एक खराब आदमी का किरदार निभा रहा हूं। लेकिन मुझे नहीं लगता कि मेरे फैंस इस रोल से नाराज हो जाएंगे।

लोग मुझे अलग-अलग किस्म के किरदारों में देखना चाहते हैं। बेशक मैंने कॉमेडी फिल्में ज्यादा की हैं, लेकिन कॉमेडी को भी मैं अपने अलग अंदाज में पेश करने की कोशिश करता हूं। मैं यंग डायरेक्टर्स और फिल्म मेकर्स का शुक्रगुजार हूं जो मुझे अलग किस्म के किरदारों के लिए याद करते हैं।

क्या आपको लगता है कि अब बॉलीवुड में हीरो-हीरोइन टाइप की कहानी के बजाय किरदारों पर बेस्ड सिनेमा ज्यादा बन रहा है?

जब मैं यहां आया था तो उस समय तक कैरेक्टर बेस्ड फिल्मों का दौर शुरू हो चुका था। हीरो-हीरोइन वाली फिल्मों से इतर मूवीज बनने और चलने लगी थीं, जो हम जैसे एक्टर्स के लिए एक बड़ी खुशखबरी रही है। यह दौर सिनेमा के लिए बेहतरीन है, डायरेक्टर्स, राइटर्स के लिए भी शानदार है।

आपने लंबे समय तक थिएटर किया है। फिर बंगाली फिल्में और उसके बाद बॉलीवुड में कदम रखा है। अपनी इस जर्नी को आप कैसे देखते हैं?

स्कूल में कविता पाठ किया करता था। वहीं से थिएटर को लेकर शौक जागा। जब कॉलेज पहुंचा तो प्लेज में एक्टिंग करने लगा। फिल्मों में एक्टिंग करने से पहले मैंने 19 साल तक थिएटर किया है।

बंगाल की थिएटर संस्था ‘रंगकर्मी’ से जुड़ा था। थिएटर करने के दौरान फिल्मों के लिए समय मिलता ही नहीं था। नाटकों में अब भी पैसा नहीं है, आप थिएटर करके अपनी फैमिली का पालन-पोषण नहीं कर सकते हैं।

ऐसे हालात में मुझे फिल्मों में आना पड़ा और बांग्ला फिल्मों से मैंने शुरुआत की। बॉलीवुड में आना भी इत्तेफाक से हो गया। एक बार मैं दिल्ली में थिएटर करने गया था।

वहां फिल्म निर्देशक दिबाकर बनर्जी से मुलाकात हुई और उन्होंने वहीं मुझे ‘खोसला का घोंसला’ ऑफर कर दी। मैं अपनी एक्टिंग जर्नी से खुश हूं, लेकिन संतुष्ट नहीं हूं। मुझे लगता है कि अगर एक्टर सैटिस्फाइड हो गया उस दिन खत्म हो जाता है।

थिएटर और सिनेमा के अलावा आपने वेब सीरीज में भी एक्टिंग की है। क्या आपको लगता है ऑनलाइन मीडियम फिल्मों और टीवी के लिए खतरे की घंटी है?

जी नहीं। मुझे तो नहीं लगता कि वेब सीरीज से फिल्म या टीवी को कोई खतरा है। वेब सीरीज मोबाइल पर मौजूद हैं जबकि सिनेमा और छोटे पर्दे के दर्शक अलग तरह के होते हैं। सिनेमा या टेलीविजन आगे भी रहेगा। मेरे ख्याल से एक मीडियम के डेवलप होने से दूसरे को नुकसान नहीं होता।

आगे कौन से प्रोजेक्ट्स कर रहे हैं?

आने वाली फिल्मों में ऋषि कपूर के साथ एक फिल्म ‘झूठा कहीं का’ है जो जल्द रिलीज होने वाली है। इसके अलावा मैं निखिल आडवाणी की फिल्म ‘बाटला हाउस’ कर रहा हूं, जिसमें जॉन अब्राहम और रवि किशन हैं। हाल ही में मैंने अर्जुन कपूर के साथ राजकुमार गुप्ता की फिल्म ‘इंडियाज मोस्ट वांटेड' की शूटिंग खत्म की है।

आगे आप किस तरह के किरदार अदा करने की ख्वाहिश रखते हैं?

दुनिया में कितने अलग-अलग किस्म के लोग हैं, उनके अलग-अलग रंग हैं, ढंग हैं, मैं वे सारे किरदार निभाना चाहता हूं। एक जिंदगी में ऐसा कर पाना मुमकिन तो नहीं है, लेकिन मैं ऐसा करना चाहता हूं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top