Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

वडाली ब्रदर्स ने पहली बार इस वजह से मंदिर में गाया था गाना, ऐसे बने सूफी गायक

सूफी गायिकी के लिए मशहूर वडाली ब्रदर्स की जोड़ी में से एक नायाब सिंगर प्यारे लाल वडाली ने गुरुवार को अमृतसर में आखिरी सांस ली।

वडाली ब्रदर्स ने पहली बार इस वजह से मंदिर में गाया था गाना, ऐसे बने सूफी गायक
X

वडाली ब्रदर्स संगीतकारों की 5वी पीढ़ी से ताल्लुक रखते हैं। इनका जन्म पंजाब के अमृतसर जिले में हुआ था। इनमें बड़े भाई पूरन चंद वडाली हैं और छोटे भाई प्यारे लाल वडाली। प्यारे लाल का ही आज अमृतसर में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया।

वडाली ब्रदर्स सूफी गायक हैं, जो सूफी संतों के संदेश अपने गानों के जरिए दिया करते थे। संगीत की दुनिया में आने से पहले वडाली ब्रदर्स अलग-अलग काम किया करते थे।

जहां बड़े भाई पूरन चंद 25 सालों तक अखाड़े में हाथ आजमा चुके हैं। तो वहीं छोटे भाई प्यारे लाल आमदनी के लिए गांव की रासलीला में कृष्ण की भूमिका निभाया करते थे। जानकारी के मुताबिक, ये दोनों भाई कभी भी पढ़ाई के लिए स्कूल नहीं गए।

यह भी पढ़ें- Pyarelal Wadali Death: 'वडाली ब्रदर्स' के ये 5 गीत हमेशा रहेंगे लोगों की जुबां पर

दोनों भाईयों ने सबसे पहले 1975 में अपने गांव गुरु की वडाली के बाहर गाया। जिसके लिए दोनों भाई जालंधर के हरबल्ला संगीत सम्मेलन में शामिल होने गए लेकिन यहां उन्हें गाने का मौका नहीं मिला। तो दोनों ने हरबल्ला मंदिर में गाया।

इसी दौरान ऑल इंडिया रेडियो के एक कर्मचारी की नजर इन पर पड़ी। इन्होंने ने ही वडाली ब्रदर्स को पहला गाना रिकॉर्ड करने का मौका दिया। ये दोनों भाई अपने पैतृक गांव गुरु की वडाली में रहा करते थे। यहां वे लोगों को संगीत सिखाया भी करते थे और संगीत सीखने आने वालों से कोई पैसा भी नहीं लेते थे।

वडाली ब्रदर्स ने पहली बार साल 2003 में बॉलीवुड फिल्म पिंजर में गुलजार के शब्दों 'दर्दा मारेया' को अपनी आवाज दी। बस फिर क्या इसके बाद तो वडाली ब्रदर्स ने बॉलीवुड में कई गाने गाए।

इन फिल्मों में दी आवाज

वडाली ब्रदर्स तनु वेड्स मनु फिल्म के 'ऐ रंगरेज मेरे', मौसम से तू ही तू ही और धूप से चेहरा मेरे यार का से भी काफी मशहूर हुए। इसके अलावा वडाली ब्रदर्स तू माने या न माने, याद पिया की, दमादम मस्त कलंदर, तेरा इश्क नचाया, घूघंट चक ओ जाना के लिए भी याद किए जाएंगे।

1992 में संगीत नाटक अकादमी ने वडाली ब्रदर्स को प्रतिष्ठित सम्मान दिया। साल 1998 में उन्हें तुलसी अवॉर्ड से नवाजा गया। वहीं बड़े भाई पूरनचंद वडाली को पदमश्री सम्मान से भी सम्मानित किया गया है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top