Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

खुशखबरी: छात्राओं को अब 5 रूपए में मिलेंगे सैनिटरी पैड, अक्षय कुमार लॉन्च करेंगे ''अस्मिता योजना''

बॉलीवुड सुपरस्टार अक्षय कुमार की चर्चित फिल्म पैडमैन ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है। बहुत जल्द ही स्कूली छात्राओं और महिलाओं को सस्ते दरों पर सैनिटरी पैड उपलब्ध कराने के लिए अस्मिता योजना की शुरूआत की जाएगी।

खुशखबरी: छात्राओं को अब 5 रूपए में मिलेंगे सैनिटरी पैड, अक्षय कुमार लॉन्च करेंगे

बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार की चर्चित फिल्म पैडमैन ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है। आपको बता दें कि सस्ते दरों पर छात्राओं को सैनिटरी पैड उपलब्ध कराने के लिए बहुत जल्द ही अस्मिता योजना शुरू की जाएंगी। आपको बता दें कि इस योजना को पैडमैन अक्षय कुमार ही लॉन्च करेंगे।

आपको बता दें कि 9 फरवरी को सिनेमाघरों में रिलीज हुई अक्षय की फिल्म पैडमैन को देश-दुनिया में हर जगह सराहा जा रहा है। अक्षय कुमार के अलावा सोनम कपूर और राधिका ऑप्टे के अभिनय से सजी यह फिल्म महिलाओं की माहवारी और सैनिटरी पैड जैसे गंभीर मुद्दे पर आधारित थी।

ऐसी होगी अस्मिता योजना-

अस्मिता योजना के तहत जिला परिषद स्कूलों की छात्राओं को सैनिटरी नैपकिन 5 रुपये प्रति पैकेट जबकि ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को यह 24 और 29 रुपये प्रति पैकेट की दर से उपलब्ध होगी। ग्राम विकास मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि छात्राओं और ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं के लिए यह योजना औपचारिक रूप से आठ मार्च को शुरू की जाएगी।

अक्षय कुमार लॉन्च करेंगे योजना-

आपको बता दें कि महिलाओं और लड़कियों की सहुलियत के लिए महाराष्ट्र सरकार की तरफ से अस्मिता योजना की शुरआत की जा रही है।योजना को मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस और अभिनेता अक्षय कुमार लॉन्च करेंगे। अक्षय ने हाल ही में मुंबई के सीएसटी स्टेशन पर सैनिटरी नैपकिन मशीन का अनावरण किया है।

यह भी पढेंः दिव्या भारती से दीवानों की तरह प्यार करते थे साजिद, मौत के बाद लगा था गहरा सदमा

महिलाओ और लड़कियों में नहीं है पीरियड को लेकर जागरूकता-

महाराष्ट्र में 11 से 19 वर्ष आयु वर्ग की लड़कियों और ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं में पीरियड के दौरान स्वच्छता को लेकर ज्यादा जागरूकता नहीं है। इनमें से सिर्फ 17 प्रतिशत सैनिटरी पैड का इस्तेमाल करती हैं।

इन महिलाओं के द्वारा सैनटरी पैड के कम इस्तेमाल के कई कारण हैं जैसे, उनका मूल्य ज्यादा होना, ग्रामीण क्षेत्रों में आसानी से उपलब्ध नहीं होना और पुरूष दुकानदारों से इसे खरीदने के दौरान पैदा होने वाली अजीबो-गरीब स्थिति सामना करना।

Next Story
Top