logo
Breaking

परिस्थितियां ही इंसान को रूड या सॉफ्ट बनाती हैं : नारायणी शास्त्री

नारायणी शास्त्री थिएटर, टीवी सीरियल्स और फिल्मों के साथ मॉडलिंग भी कर चुकी हैं।

परिस्थितियां ही इंसान को रूड या सॉफ्ट बनाती हैं : नारायणी शास्त्री
नारायणी शास्त्री थिएटर, टीवी सीरियल्स और फिल्मों के साथ मॉडलिंग भी कर चुकी हैं। इन दिनों वह लाइफ ओके के सीरियल ‘पिया रंगरेज’ में भंवरी देवी नाम की एक दबंग महिला का किरदार निभा रही हैं।
नारायणी का कहना है कि ऐसा किरदार वह पहली बार निभा रही हैं। इस सीरियल और अपने किरदार के बारे में नारायणी से सवाल जवाब।
भंवरी देवी जैसी दबंग महिला के किरदार को निभाने के लिए आपने किस तरह की तैयारियां कीं? क्या किसी फिल्मी कैरेक्टर या एक्टर से इंस्प्रेशन ली?
मेरे एक्टिंग का मैथड हमेशा से रहा है कि मैं किसी रोल के लिए प्रिपरेशन नहीं करती। जो भी रोल मिलता है, उसे बस समझकर उसकी छवि मन में बसा लेती हूं और अपना बेस्ट परफॉर्म करने की कोशिश करती हूं।
भंवरी देवी के रोल के लिए मैंने किसी भी फिल्मी कैरेक्टर या एक्टर से इंस्प्रेशन नहीं ली क्योंकि मेरा मानना है कि किसी की कॉपी कर हम अपना एक्टिंग टैलेंट नहीं दिखा सकते।
रियल लाइफ में आप कितनी दबंग या एरोगेंट हैं?
जब कोई बेवकूफी करता है तो गुस्सा तो मुझे भी आता है। लेकिन मैं आंखों से ही बता देती हूं कि मैं गुस्से में हूं। गुस्सा आने पर मैं बिल्कुल चुप हो जाती हूं।
भंवरी देवी जैसा रिएक्ट तो कभी नहीं करती। वो तो गुस्सा आने पर किसी के साथ कुछ भी कर देती है। मैं उसके जैसी बिल्कुल नहीं हूं।
आमतौर पर महिलाएं सहनशील, शांत और भावुक होती हैं। फिर वो कौन सी स्थितियां होती हैं, जिनमें महिलाएं भंवरी देवी जैसी बन जाती हैं?
भंवरी जैसी दिख रही है, वैसा बनना उसकी मजबूरी है। वह जिस तरह के बिजनेस से जुड़ी है, उसके आस-पास का माहौल जिस तरह का है, उसमें उसे दबंग बनना जरूरी है।
आदमियों के बीच रहते हुए उसके अंदर भी आदमियों जैसी रूडनेस आ गई है। अगर वो ऐसी नहीं बनती तो अपना काम कर ही नहीं सकती। कहने का मतलब है कि परिस्थितियां ही इंसान को रूड या सॉफ्ट बना देती हैं।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरा इंटरव्यू -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top