Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गृहलक्ष्मी मैगजीन ने छापी दूध पिलाती मॉडल की तस्वीर, सोशल मीडिया पर मचा बवाल- केस दर्ज

गृहलक्ष्मी मैगजीन के इस अंक के प्रकाशित होने के बाद सोशल मीडिया यूजर्स ने इस तस्वीर पर सवाल खड़ा करना शुरू कर दिया था।

गृहलक्ष्मी मैगजीन ने छापी दूध पिलाती मॉडल की तस्वीर, सोशल मीडिया पर मचा बवाल- केस दर्ज
X

मलयालम मैगजीन गृहलक्ष्मी पर एक वकील ने केस कर दिया है। मैगजीन के कवर पेज पर मॉडल की एक बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग कराते हुए तस्वीर छापने को लेकर यह केस किया गया है।

जानकारी के मुताबिक, वकील विनोद मैथ्यू ने मैगजीन के कवर पेज पर छपी इस फोटो को लेकर कोल्लम के कोर्ट में केस दर्ज कराया है। बता दें कि पिछले हफ्ते मलयालम मॉडल गीलू जोसेफ की गृहलक्ष्मी के कवर पेज पर ब्रेस्टफीडिंग कराते हुए फोटो ने सोशल मीडिया में सनसनी मचा दी थी।

इस तस्वीर के सामने आने के बाद सोशल मीडिया यूजर्स के बीच बहस छिड़ गई थी। कुछ तो इसे सही मान रहे थे और कुछ इस तस्वीर पर आपत्ति जता रहे थे। इस तस्वीर पर मचे वबाल पर मॉडल का कहना है कि उन्होंने जो किया, उसका उन्हें कोई अफसोस नहीं है।

यह भी पढ़ें- बॉलीवुड सिंगर पलक मुच्छल के भाई के खिलाफ केस दर्ज, लगे हैं ये आरोप

इंडियन एक्सप्रेस के रिपोर्ट के मुताबिक, 27 वर्षीय मॉडल गीलू जोसेफ ने कहा “मैं वहीं करती हूं जो मुझे लगता है कि वह मेरे लिए सही है। मैं कभी-कभार फेल हो सकती हूं लेकिन मुझे इसका कोई अफसोस नहीं।

गीलू का कहना है कि महिलाओं को बिना किसी पाबंदी और डर के आजादी के साथ ब्रेस्टफीडिंग कराना चाहिए, यही संदेश मेरा इस आर्टिकल में भी था। लेकिन लोगों को इस पर आपत्ति होने लगी, वो भी बिना जाने कि मैं क्या कहना चाह रही हूं।

बता दें कि गृहलक्ष्मी मैगजीन के इस अंक के प्रकाशित होने के बाद सोशल मीडिया यूजर्स ने इसे लेकर सवाल करना खड़ा कर दिया था। यूजर्स ने कहा कि मैगजीन ने एक बच्चे के साथ मॉडल का उपयोग करते हुए एक अवास्तविक वर्णन क्यों किया है। क्योंकि इसमें बच्चा खुद मॉडल का नहीं है?

यूजर्स ने तो यहां तक कह डाला कि इस तस्वीर मे मॉडल को मांग में सिंदूर लगाए हुए क्यों दिखाया गया है जबकि वह खुद ईसाई है? इसी तरह कई अन्य यूजर्स ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी।

गौरतलब है कि पिछले सप्ताह मैगजीन ने एक अभियान शुरू किया था जिसका नाम ‘What’s shameful about breastfeeding in public?’ था। मैगजीन द्वारा शुरू किए गए इस अभियान को केरल के कई कवियों और लेखकों ने अपना समर्थन दिया था।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top