Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मनीषा कोईराला ने संजय दत्त को लेकर दिया ये बड़ा बयान, आलिया-कंगना को लेकर कहीं ये बड़ी बात

मनीषा कोइराला, कैंसर की बीमारी से जंग जीतकर अब दोबारा से बॉलीवुड में एक्टिव हो गई हैं। वह संजय दत्त की बायोपिक फिल्म ‘संजू’ का हिस्सा बनकर काफी खुश हैं।

मनीषा कोईराला ने संजय दत्त को लेकर दिया ये बड़ा बयान, आलिया-कंगना को लेकर कहीं ये बड़ी बात

मनीषा कोइराला, कैंसर की बीमारी से जंग जीतकर अब दोबारा से बॉलीवुड में एक्टिव हो गई हैं। वह संजय दत्त की बायोपिक फिल्म ‘संजू’ का हिस्सा बनकर काफी खुश हैं। इसमें मनीषा ने संजय दत्त की मां नरगिस दत्त का रोल निभाया है। इस बात को वह अपने लिए बहुत बड़ी एचीवमेंट मानती हैं। आगे भी वह फिल्मों में एक्टिव रहना चाहती हैं। बातचीत, मनीषा कोइराला से।

राजकुमार हिरानी डायरेक्टेड फिल्म ‘संजू’ में आप संजय दत्त की मां नरगिस दत्त का किरदार निभा रही हैं, जब आपको यह रोल ऑफर हुआ तो क्या रिएक्शन था?

जब यह फिल्म ऑफर हुई तो मुझे स्व. सुनील दत्त साहब की याद आई। मैं फिल्म ‘बॉम्बे’ कर रही थी तो उन्होंने मुझे कॉम्पिलीमेंट दिया था कि मुझे देखकर उन्हें नरगिस जी की याद आती है। यह बात मेरे लिए बहुत मायने रखती है।

जब अरसे बाद राजकुमार हिरानी ने फिल्म ‘संजू’ में नरगिस दत्त जी का रोल निभाने के लिए कहा तो मुझे दत्त साहब की कही बात याद आ गई। ऐसा लगता है जैसे नरगिस दत्त जी का रोल मेरे लिए ही लिखा गया था। लेकिन मैं थोड़ी नर्वस थी कि नरगिस जी का रोल अच्छे से निभा भी पाऊंगी या नहीं। जल्द फिल्म रिलीज होने वाली है तो मुझे यकीन है कि दर्शकों से अच्छा रेस्पॉन्स मिलेगा।

नरगिस दत्त का रोल निभाने के लिए आपने किस तरह की तैयारियां कीं?

नरगिस जी जैसी लीजेंड एक्ट्रेस का रोल निभाना आसान नहीं था। लिहाजा मुझे काफी मेहनत करनी पड़ी। नरगिस जी के बहुत सारे लुक ट्राई किए। उनकी तरह बात करना, चलना, उठना-बैठना, मैंने सब सीखने की कोशिश की। जो लोग नरगिस जी से मिल चुके थे, उनसे भी मैंने उनके बारे में जानकारी हासिल करने की कोशिश की। शूटिंग के फर्स्ट-डे नरगिस जी का किरदार निभाते वक्त मैं नर्वस थी। लेकिन उस दौरान राजू जी ने बहुत सपोर्ट किया।

नरगिस जी के बारे में आप क्या कहेंगी?

नरगिस जी के किरदार को निभाते वक्त मैंने जाना कि वह कितनी अच्छी और स्ट्रॉन्ग थीं। उनकी तकलीफ को भी महसूस किया। मुझे इस बात का अहसास हुआ कि एक मां के लिए कितना तकलीफदेह होता है, अपने जिगर के टुकड़े को बुरी आदतों की गर्त में धंसते हुए देखना।

आज आप संजय दत्त की बायोपिक में उनकी मां का रोल कर रही हैं, जबकि कभी संजय दत्त के साथ फिल्में भी कर चुकी हैं। उनके बारे में क्या कहेंगी?

संजू के साथ मैंने कई फिल्में की हैं, जैसे ‘महबूबा’, ‘खौफ’ और ‘कारतूस’। उस दौरान सच कहूं तो बिल्कुल भी अहसास नहीं हुआ था कि वो किस दर्द से गुजरे हैं। मैं उनके बारे में उतना ही जानती थी, जितना सब जानते हैं। वह एकदम मस्त किस्म के इंसान हैं। किसी से दुश्मनी नहीं करते हैं, ना ही किसी की बुराई करते हैं।

यही वजह है कि जब संजू सेट पर आते थे, तो माहौल भी एकदम जीवंत हो जाता था। चारों तरफ हंसी के ठहाके होते थे। उस वक्त महसूस ही नहीं हुआ कि इस हंसी के पीछे कितना दर्द छिपा है। मेरी संजू के साथ बहुत अच्छी ट्यूनिंग रही है। उनके साथ फिल्में करने का एक्सपीरियंस काफी अच्छा रहा है।

फिल्म में रणबीर कपूर ने संजय दत्त का रोल किया है। उनके साथ वर्किंग एक्सपीरियंस कैसे रहे?

रणबीर कपूर बहुत ही मेहनती और बेहतरीन एक्टर हैं। कई बार तो उनकी एक्टिंग देखकर मैं इतना खो जाती थी कि अपने डायलॉग ही भूल जाती थी। रणबीर स्वभाव से एकदम शांत किस्म के हैं, उनका फोकस पूरी तरह अपने काम पर होता है।

क्या आप आने वाले वक्त में अपनी बायोग्राफी लिखेंगी?

अभी इस बारे में कुछ नहीं कह सकती हूं। लेकिन मैं हेल्थ से रिलेटेड एक बुक जरूर लिख रही हूं।

आज की कौन सी एक्ट्रेसेस आपको पसंद हैं?

आज की हीरोइनों में कंगना रनोट, आलिया भट्ट और दीपिका पादुकोण बहुत ही टैलेंटेड हैं। बहुत ही नेचुरल एक्टिंग करती हैं। इनके काम में बहुत वैरायटी है।

आपके समय की कई एक्ट्रेसेस आज टीवी रियलिटी शोज कर रही हैं। क्या आप भी टीवी पर नजर आएंगी?

फिलहाल तो मेरा पूरा ध्यान फिल्मों में और एक्टिंग पर है। लेकिन फ्यूचर में अगर कोई अच्छा शो ऑफर हुआ तो मैं जरूर इस बारे में सोचूंगी।

मनीषा कोइराला कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी को हरा चुकी हैं। आज भी कई लोग इस बीमारी से जूझ रहे हैं। क्या इस बीमारी से लड़ने के लिए उन्हें कोई सलाह देना चाहेंगी? पूछने पर मनीषा कहती हैं, ‘मैं ऐसे लोगों से यही कहूंगी कि अगर आप हार मान लेंगे तो कैंसर जैसी भयानक बीमारी से जीत नहीं पाएंगे।

मुझे जब पता चला था कि कैंसर की बीमारी है तो कुछ समय के लिए बहुत टूट गई थी। फिर मैंने अपने आपको तैयार किया, इस बीमारी से फाइट करने के लिए। मेरा मानना है कि हमें अपनी सेहत पर पूरा ध्यान देना चाहिए। करियर के दौरान मैं भी अपनी हेल्थ को लेकर बहुत कॉन्शस नहीं थी।

लेकिन कैंसर से निजात पाने के बाद मैं बहुत ज्यादा हेल्थ कॉन्शस हो गई हूं। अपने खान-पान पर अब बहुत ज्यादा ध्यान देती हूं। इस बीमारी को करीब से देखने के बाद ही मैंने जाना कि अगर हमारा शरीर बेकार हो गया तो हमारी करोड़ों की दौलत, दोस्त और रिश्तेदार कोई कुछ नहीं कर पाएगा।’

Next Story
Top